Submit your post

Follow Us

5 बेहतरीन एंड्रॉयड कीबोर्ड, जो मोबाइल पर चैटिंग और टाइपिंग को मज़ेदार बना देंगे

एंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम की सबसे बड़ी खासियत यही है कि आप इसे अपने मन मुताबिक ढाल सकते हैं. वॉलपेपर और लॉकस्क्रीन तो आम सी बात हैं, आप यहां पर आइकॉन, फ़ॉन्ट से लेकर कॉल और SMS करने वाले डिफ़ॉल्ट ऐप तक को बदल सकते हैं. रही बात कीबोर्ड की तो वो भी बदला जा सकता है. आज इसी पर बात करेंगे.

ज़्यादातर एंड्रॉयड फ़ोन में गूगल कीबोर्ड पहले से लगकर आता है. आज के टाइम में इसमें बहुत सारे फीचर जुड़ गए हैं. GIF, स्टिकर्स और बटन के ऊपर उंगली फिसलाकर लिखने का ऑप्शन भी जुड़ा है. मार्केट में मौजूद दूसरे कीबोर्ड ऐप अलग-अलग फीचर के साथ आते हैं. ये टाइप करने और चैट करने के आपके एक्सपीरियंस को पूरी तरह बदल सकते हैं. हम ऐसे ही पांच एंड्रॉयड कीबोर्ड के बारे में आपको यहां बताने वाले हैं.

Microsoft Swiftkey

माइक्रोसॉफ्ट का स्विफ्टकी कीबोर्ड बहुत लंबे टाइम से एंड्रॉयड के लिए मौजूद है. ये 10MB साइज़ का है. इसे गूगल प्ले स्टोर पर अब तक 50 करोड़ से ज़्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है. ये कीबोर्ड आपके लिखने के तरीके को सीखता है, उसी हिसाब से प्रेडिक्शन सर्विस देता है. प्रेडिक्शन मतलब कि जैसे-जैसे आप टाइपिंग करेंगे, कीबोर्ड आगे आने वाले शब्द का अंदाज़ा लगाकर आपके सामने रखता रहता है. इसका ऑटो-करैक्ट फीचर भी अच्छा है. एक मॉडर्न कीबोर्ड में मौजूद GIF, स्वाइप टाइपिंग, थीम्स और दूसरे फीचर भी इसमें मौजूद हैं.

Ginger

जिन्जर कीबोर्ड में भी बाकी कीबोर्ड्स की तरह थीम का चुनाव, इमोजी, GIF और स्वाइप टाइपिंग वाले फीचर हैं. लेकिन इसकी खासियत इसका इन-कीबोर्ड ट्रांसलेटर है. आप कीबोर्ड की मदद से एक भाषा में टेक्स्ट लिखकर दूसरी भाषा में ट्रांसलेट कर सकते हैं. इसके लिए अलग से किसी वेबसाइट पर नहीं जाना होता. इसके अलावा एक और फीचर जिन्जर को बाकियों से अलग करता है. इसमें आप किसी लिखे हुए टेक्स्ट को सेलेक्ट करके उस वाक्य के बेहतर विकल्प देख सकते हैं. इसका ग्रामर और स्पेलिंग चेकर सिस्टम भी अच्छा काम करता है. ये 36MB का है. इसे प्ले स्टोर पर अब तक 50 लाख से ज़्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है.

Fleksy

Fleksy
फ्लेक्सी कीबोर्ड काफ़ी फास्ट काम करता है.

फ्लेक्सी अपने आप को “दुनिया का सबसे तेज़ कीबोर्ड” कहता है. स्पीड नापने का हमारे पास तो कोई इंतजाम नहीं है. मगर ये सच में काफ़ी फास्ट लगता है. जिस स्पीड पर टाइप करने में गूगल कीबोर्ड हाथ खड़े करके मिनिमाइज़ हो जाता है, उसे फ्लेक्सी ने बड़े आराम से संभाल लिया. इसमें मौजूद जेस्चर सारे टेक्स्ट को सेलेक्ट करना, लिखा हुआ मिटाना, नया शब्द डिक्शनरी में जोड़ना या भाषा बदलने जैसे काम सटासट कर देते हैं. इसके अलावा GIF, इमोजी, शॉर्ट वीडियो, एनीमेटेड स्टिकर, यूट्यूब सर्च और दूसरे कई फीचर भी है. बस एक दिक्कत ये है कि इसमें हिन्दी भाषा नहीं है. ये 45 MB का है. इसे प्ले स्टोर पर 50 लाख से ज़्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है.

Chrooma

Chrooma
क्रूमा कीबोर्ड दिखने में एक नंबर है.

जो चाहते हैं कि उनका कीबोर्ड दिखने में अच्छा हो, उनके लिए क्रूमा से बेहतर शायद ही कोई कीबोर्ड हो. इसका सबसे बढ़िया फीचर ऑटो थीम है. आप जिस ऐप का इस्तेमाल कर रहे होते हैं, ये उसके हिसाब से अपना रंग बदल लेता है. इसमें स्वाइप टाइपिंग, प्रूफ-रीडर, इमोजी और टेक्स्ट प्रेडिक्शन जैसे फीचर भी हैं. ये काफ़ी हल्का फुल्का ऐप है. 27 MB का है. काफ़ी स्पीड में काम करता है. इसे गूगल प्ले स्टोर पर 10 लाख से ज़्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है.

Mint

मिंट कीबोर्ड के पीछे बॉबल कंपनी है. ये कंपनी आपके चेहरे पर बेस्ड स्टिकर्स बनाती है. इन्हें आप मिंट कीबोर्ड में इस्तेमाल भी कर सकते हैं. इस कीबोर्ड में बहुत सारी भारतीय भाषाओं का सपोर्ट, इमोजी, GIF और स्वाइप टाइपिंग जैसे फीचर भी मिलते हैं. आप चाहें तो अपने मन के क्विक रिप्लाई जैसे आपका मोबाइल नंबर या ईमेल अड्रेस वग़ैरह सेव करके रख सकते हैं. ये 15 MB का है. इसे प्ले स्टोर पर अब तक 50 लाख से ज़्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है.


वीडियो: एक्टिव नॉइस कैन्सलेशन वाले हेडफोन कान में सन्नाटा कैसे पसार देते हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

Realme Narzo 30 Pro review: सबसे सस्ता 5G फ़ोन है किस काम का?

Realme Narzo 30 Pro review: सबसे सस्ता 5G फ़ोन है किस काम का?

रियलमी फ़ोनों में ये मंझला भाई है!

वेब सीरीज़ रिव्यू - 1962: द वॉर इन द हिल्स

वेब सीरीज़ रिव्यू - 1962: द वॉर इन द हिल्स

कैसी है 1962 की भारत-चीन जंग पर बनी ये सीरीज़?

Realme Buds Air 2 review: रियलमी से ऐसी उम्मीद नहीं थी!

Realme Buds Air 2 review: रियलमी से ऐसी उम्मीद नहीं थी!

माने के कमाल ही कर दिया

Realme Narzo 30A review: छोटी-छोटी मगर मोटी बातें!

Realme Narzo 30A review: छोटी-छोटी मगर मोटी बातें!

जानिए कैसा है रियलमी का नया बजट डिवाइस!

Realme X7 Pro रिव्यू: क्या इस 5G फ़ोन के लिए 30,000 रुपए खर्च करना ठीक रहेगा?

Realme X7 Pro रिव्यू: क्या इस 5G फ़ोन के लिए 30,000 रुपए खर्च करना ठीक रहेगा?

इस फ्लैगशिप मिड-रेंज डिवाइस में खूबियां तो कई हैं, लेकिन ये कमियां भी हैं.

वेब सीरीज़ रिव्यू: वधम

वेब सीरीज़ रिव्यू: वधम

कैसा है ये ऑल विमेन क्राइम थ्रिलर शो?

मूवी रिव्यू- दृश्यम 2

मूवी रिव्यू- दृश्यम 2

कैसा है 'दृश्यम' का सीक्वल, जिसने सात भाषाओं में तहलका मचाया था!

Realme X7 Pro: ये तो वनप्लस नॉर्ड का बड़ा भाई लगता है!

Realme X7 Pro: ये तो वनप्लस नॉर्ड का बड़ा भाई लगता है!

पहली नज़र में कैसा लगा Realme X7 Pro स्मार्टफोन, आइए बताते हैं.

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

इरफान के गुज़रने के बाद उनकी पहली फिल्म रिलीज़ हुई है. और 'डूब' का अर्थ वही है, जो आप समझ रहे हैं.

मूवी रिव्यू: मास्साब

मूवी रिव्यू: मास्साब

नेक कोशिश वाली जो मुट्ठीभर फ़िल्में बनती हैं, उनमें इस फिल्म का नाम लिख लीजिए.