Submit your post

Follow Us

आयुष्मान खुराना की 22 अंतरंग बातेंः मां के सामने एक लड़की ने उनके स्पर्म मांग लिए थे!

2012 में डेब्यू करने वाले आयुष्मान की अब तक 15 फ़िल्में रिलीज हुई हैं - विकी डोनर, नौटंकी साला, बेवकूफियां, हवाईज़ादा, दम लगाके हइशा, मेरी प्यारी बिंदु, बरेली की बर्फी, शुभ मंगल सावधान, अंधाधुन, बधाई हो, आर्टिकल 15, ड्रीम गर्ल, बाला, शुभ मंगल ज़्यादा सावधान और गुलाबो सिताबो.

//1:  आयुष्मान शनिवार को 36 साल के हो गए. उनका जन्म 14 सितंबर 1984 का बताया जाता है. चंडीगढ़ का. लेकिन असल में शायद वे 37-38 के हुए हैं और अपनी उम्र दो साल कम बताते हैं.

2:  स्कूल डेज़ में क्रिकेट बहुत खेलते थे. पूरा-पूरा दिन टूर्नामेंट खेलकर आते थे और फिर अगले दिन सोते रहते थे. उनका भाई अपारशक्ति (दंगल, स्त्री) भी खेलता था. अपने घर के पिछले आंगन में लेदर की बॉल से भी खेलते थे.

3:  नौटंकी टाइप हैं शुरू से. 7 साल के थे तब का उनका एक फैमिली वीडियो है जिसमें वो अपने दूसरे छोटे भाइयों के साथ नाच रहे हैं. उस गाने में वो लिप-सिंक बहुत प्रॉपर करते हैं. बाकायदा एक्टिंग करके नाच रहे हैं. ये वीडियो मैंने चंडीगढ़ में देखा था करीब छह साल पहले.

ayushmann khurrana childhood pictures
उनके बचपन की फोटो. एक वो भी जब मां ने उन्हें फ्रॉक पहना दी.

4:  आरजे, एंकर और एक्टर बनने के प्रोसेस में आयुष्मान बहुत outspoken लगते हैं. उनमें बचपन से एनर्जी बहुत रही है लेकिन वो उसे ज़ाया नहीं करते थे. चंडीगढ़ रहने वाले दिनों में laid-back टाइप थे. बहुत जल्दी अपने पत्ते नहीं खोलते थे कि क्रिएटिवली क्या सोच रहे हैं या कर रहे हैं. मन मन में चलता था.

5:  साइकलिंग बहुत करते थे. चंडीगढ़ के मार्केट्स में बहुत घूमते थे. चिप्स खूब खाते थे.

6:  पेरेंट्स के सामने आज भी वैसे ही हैं जैसे 10-15 साल पहले थे. वो कहेंगे “यहां बैठ!” तो बैठ जाएंगे. खाना खाएंगे तो अपनी प्लेट किचन में खुद रखकर आएंगे. चाहे घर में चार-पांच नौकर हों.

7:  अपने ग्रैंडपेरेंट्स के सबसे फेवरेट बच्चे आयुष्मान ही रहे.

8:  स्पिरिचुअल हैं. अपने पास एक श्रीमद्भगवद्गीता रखते हैं. निराश या परेशान हों तो खोलकर पढ़ते हैं.

9:  घर पर म्यूजिक का माहौल था. पिता हार्मोनियम, ढोलक बजाते थे घर पर. म्यूजिक प्राथमिक रूप से इसी माहौल से उनमें आया शायद.

10:  Open-Minded परिवार से हैं. शायद एक वजह ये भी थी कि बाद में वीर्य-दान और लिंग-शिथिलता जैसे टैबू विषयों पर ‘विकी डोनर’ (2012) और ‘शुभ मंगल सावधान’ (2017) जैसी फिल्में करते हुए उन्हें झिझक नहीं थी. 2018 में रिलीज़ हुई ‘बधाई हो’ में उन्होंने ऐसे नौजवान का रोल किया जिसकी अधेड़ उम्र मां गर्भवती हो जाती है और वो समझ नहीं पाता कैसे रिएक्ट करे.

11:   पिता पी. खुराना माने हुए एस्ट्रोलॉजर हैं. ईटली तक क्लाइंटेल है उनकी. उनकी एस्ट्रोलॉजी और उनके दिए मंत्रों से आयुष्मान के आगे बढ़ने में शायद योगदान रहा. उनके पिता ज्योतिष की एक लाल किताब फॉलो करते हैं. पिता पहले सरकारी जॉब करते थे और फिर ज्योतिष में जाने के लिए छोड़ दी. सन् 86 में. मम्मी पूनम हाउसवाइफ हैं.

मां-पिता के साथ.
मां-पिता के साथ.

12:  10वीं क्लास तक आयुष्मान बॉयज़ स्कूल में ही पढ़े. 11वीं भी शायद बॉयज़ में. तभी ताहिरा से प्यार हो गया. शायद ट्यूशन के दौरान मिले थे दोनों. चंडीगढ़ एरिया में बहुत ही एलीट स्कूल है यादविंद्रा पब्लिक स्कूल उसकी प्रिंसिपल की बेटी हैं ताहिरा.

13:  आयुष्मान के थियेटर ग्रुप ‘मंचतंत्र’ में ताहिरा थीं. इसके पीछे की कहानी ये थी कि आयुष्मान और इनके दोस्तों (रोचक कोहली, पुनीत खन्ना, विकास शौरी. रोचक के साथ उन्होंने ‘पाणी दा’ गाना बनाया और बाद में भी म्यूजिक क्रिएट किया. पुनीत और विकास असिस्टेंट डायरेक्टर रहे हैं.) के ग्रुप ‘आगाज़’ में पहले सिर्फ लड़के होते थे. तो फिर एक दूसरा ग्रुप मंचतंत्र बनाया गया जिसमें लड़कों के साथ लड़कियां भी थीं. इन्हीं में एक ताहिरा थीं.

14:  ताहिरा की दो बुक्स आ चुकी हैं. पहली थी – I Promise, दूसरी थी – Souled Out. उन्होंने और आयुष्मान ने मिलकर भी एक किताब लिखी है – Cracking the Code: My Journey in Bollywood, जो आयुष्मान की बॉलीवुड जर्नी के बारे में है. वे चंडीगढ़ में एक पीआर कंपनी चलाती थीं. फिर पंजाब में बिग 92.7 एफएम की प्रोग्रामिंग हैड रहीं. फिर मुंबई में मास कॉम की प्रोफेसर बन गईं.

आयुष्मान की एक फिल्म के सेट पर करवाचौथ के व्रत का चांद देखते हुए ताहिरा; फिल्म जर्नी वाली बुक के प्रमोशन के दोनों दंपत्ति.
आयुष्मान की एक फिल्म के सेट पर करवाचौथ के व्रत का चांद देखते हुए ताहिरा; फिल्म जर्नी वाली बुक के प्रमोशन के दोनों दंपत्ति.

15:  आयुष्मान ने कॉलेज (डीएवी, आग़ाज ग्रुप) में ‘उरूभंगम’ नाम का एक नाटक किया था जिसके लिए अपना सिर मुंडा लिया था.

16:  बहुत कम पता होगा कि आयुष्मान विलेन का रोल भी कर चुके हैं. उन्होंने 2008 में एक टीवी शो किया था – ‘एक थी राजकुमारी’. उसमें उनका नेगेटिव रोल था.

17:  वे 17 साल के थे तब चैनल वी का शो ‘पॉप स्टार्स’ किया. कॉलेज में मास कॉम करने लगे और 20 साल के थे तो ‘रोडीज़ सीज़न-2’ के ऑडिशन में चुन लिए गए. कमजोर प्रतियोगी लग रहे थे लेकिन सीज़न जीत लिया.

18:  उसके दो साल बाद 2006 में बिग-एफएम दिल्ली में आरजे बन गए. फिर वीजे बन गए. फिर एमटीवी के कई शो किए. 2009 में बड़े टीवी चैनल्स के बड़े शोज़ की एंकरिंग करने लगे. इन शोज़ में ऋतिक रोशन, फराह ख़ान, सोनाली बेंद्रे, किरण खेर, हिमेश रेशमिया, मीका, श्रेया घोषाल, शंकर महादेवन जैसे कितने ही सेलेब्रिटी उनके सामने होते थे और वे एक सामान्य से एंकर होते थे. 2011 में ‘विकी डोनर’ मिली और उसके बाद आयुष्मान ने कभी टीवी शो नहीं किया. उसके बाद से वे उन्हीं सब सितारों के बराबर आ गए जो कभी उनके सामने ऊंचे स्थान पर बैठते थे.

19:  कॉन्वेंट स्कूल से पढ़े हुए हैं – सेंट जोन्स हाई स्कूल, सेक्टर 26. लेकिन वो हिंदी में बहुत अच्छा लिखते हैं. कविताएं लिखते हैं. उनका एक हिंदी ब्लॉग भी है http://ayushmannkhurrana.blogspot.in/ . कॉन्वेंट में पढ़ने के बाद हिंदी के लिए रुझान हुआ.

20:  उनका बर्थडे भी हिंदी दिवस पर ही पड़ता है. स्कूल में बहुत सी हिंदी वाली डिबेट्स में भी पार्टिसिपेट करते थे.

21:  सिंगिंग को हमेशा पकड़े रखा. डेब्यू फिल्म ‘विकी डोनर’ में ‘पाणी दा रंग‘ गाया था जो आज भी याद है. उसके बाद ‘नौटंकी साला‘, ‘बेवकूफियां‘, ‘हवाईज़ादा‘, ‘बरेली की बर्फी‘, ‘शुभ मंगल सावधान‘, ‘अंधाधुन‘, ‘बधाई हो‘, ‘आर्टिकल 15‘ सब में उन्होंने ज़रूर गाने गाए. फिल्मों से इतर सिंगल्स भी लाते रहते हैं पुराने दोस्त रोचक कोहली के साथ. जैसे तीन साल पहले ‘इक वारी’ आया था. उनका एक बैंड भी है ‘आयुष्मान भवः’ नाम से.

22: ‘विकी डोनर’ के बाद उन्हें मुड़कर देखना नहीं पड़ा. उनके कैसे फैन बने थे ये इस वाकये से पता चलता है कि एक बार एक लड़की ने उनसे स्पर्म मांग लिए थे. हुआ यूं कि अपनी मां के साथ आयुष्मान ख़ुराना एक मॉल में गए थे. वहां एक लड़की सामने आई और उनसे स्पर्म मांगे. आयुष्मान की मां चौंक गईं. लेकिन आयुष्मान खड़े मुस्कराते रहे और बोले कि मेरी मां साथ है नहीं तो मैं दे देता.

*** ***

Video: अक्षय कुमार फिल्मों में कैसे आए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- कार्गो

फिल्म रिव्यू- कार्गो

कभी भी कुछ भी हमेशा के लिए नहीं खत्म होता है. कहीं न कहीं, कुछ न कुछ तो बच ही जाता है, हमेशा.

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

फिल्म रिव्यू: सी यू सून

बढ़िया परफॉरमेंसेज़ से लैस मजबूत साइबर थ्रिलर,

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

फिल्म रिव्यू- सड़क 2

जानिए कैसी है संजय दत्त, आलिया भट्ट स्टारर महेश भट्ट की कमबैक फिल्म.

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

वेब सीरीज़ रिव्यू- फ्लेश

एक बार इस सीरीज़ को देखना शुरू करने के बाद मजबूत क्लिफ हैंगर्स की वजह से इसे एक-दो एपिसोड के बाद बंद कर पाना मुश्किल हो जाता है.

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

फिल्म रिव्यू- क्लास ऑफ 83

एक खतरनाक मगर एंटरटेनिंग कॉप फिल्म.

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

बाबा बने बॉबी देओल की नई सीरीज़ 'आश्रम' से हिंदुओं की भावनाएं आहत हो रही हैं!

आज ट्रेलर आया और कुछ लोग ट्रेलर पर भड़क गए हैं.

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

करोड़ों का चूना लगाने वाले हर्षद मेहता पर बनी सीरीज़ का टीज़र उतना ही धांसू है, जितने उसके कारनामे थे

कद्दावर डायरेक्टर हंसल मेहता बनायेंगे ये वेब सीरीज़, सो लोगों की उम्मीदें आसमानी हो गई हैं.

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

फिल्म रिव्यू- खुदा हाफिज़

विद्युत जामवाल की पिछली फिल्मों से अलग मगर एक कॉमर्शियल बॉलीवुड फिल्म.

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

फ़िल्म रिव्यू: गुंजन सक्सेना - द कारगिल गर्ल

जाह्नवी कपूर और पंकज त्रिपाठी अभिनीत ये नई हिंदी फ़िल्म कैसी है? जानिए.

फिल्म रिव्यू: शकुंतला देवी

फिल्म रिव्यू: शकुंतला देवी

'शकुंतला देवी' को बहुत फिल्मी बता सकते हैं लेकिन ये नहीं कह सकते इसे देखकर एंटरटेन नहीं हुए.