Submit your post

Follow Us

1962 के इंडो-चाइना वॉर पर बनी सीरीज़, जब भारतीय सेना बिना तैयारी के युद्ध लड़ी थी

बॉलीवुड में वॉर पर बनी फिल्मों की लिस्ट लंबी है. फिर चाहे वो ऋतिक रोशन की ‘लक्ष्य’ हो या ‘गाज़ी अटैक’, अक्षय कुमार की ‘केसरी’ हो, विक्की कौशल की ‘उरी-द सर्जिकल स्ट्राइक’ या 1997 में आई सनी देओल, अक्षय खन्ना और सुनील शेट्टी की ‘बॉर्डर’. इनमें से ज़्यादातर फिल्में ऐसी हैं, जो सच्ची घटनाओं पर बनाई गई हैं. अब फिल्मों के साथ ही भारत-चीन युद्ध पर वेब सीरीज़ भी बनाई गई है. नाम है ‘1962 द वॉर इन द हिल्स’. इसका ट्रेलर आज रिलीज़ किया गया. आइए आपको बताते हैं क्या है इसकी कहानी, कैसा है ट्रेलर और कौन-कौन से किरदार इसमें नज़र आएंगे.

1. ‘1962 द वॉर इन द हिल्स’ की कहानी क्या है?

जैसा कि नाम से ही समझ आ रहा है कहानी है 1962 में हुए भारत-चीन युद्ध की. ‘1962 द वॉर इन द हिल्स’ वेब सीरीज़ की बात करें तो कहानी उन 125 भारतीय सैनिकों की है, जिन्होंने 3000 चीनी सिपाहियों से अकेले लड़ाई लड़ी. कहानी उन सिपाहियों की है, जो कम संसाधन और हथियारों के साथ चीन की सेना से आखिरी दम तक लड़ते रहे. मगर अपने देश पर आंच नहीं आने दी. जिस समय चीनी सेना लद्दाख पर अपना कब्ज़ा करना चाहती है, उस समय मेजर सूरज सिंह अपने सिपाहियों के साथ उनका जमकर मुकाबला करता है. अपने सिपाहियों के साथ कम हथियारों और तैयारियों के साथ चीनी सिपाहियों से लोहा लेता है.

'1962 द वॉर इन द हिल्स' के एक सीन में अभय देओल.
‘1962 द वॉर इन द हिल्स’ के एक सीन में अभय देओल.

कहानी है उन सिपाहियों की, जो देश के लिए अपने पूरे परिवार को पीछे छोड़ आए हैं. किसी की नई शादी हुई है तो कोई अपने बेटे को सुरक्षित भविष्य देना चाहता है. ‘1962 द वॉर इन द हिल्स’, सैनिकों की लड़ाई और उनके परिवार की कहानी है. सीमा पर लड़ने वाले सैनिकों के पीछे उनके परिवार की क्या भूमिका होती है, ये भी हमें इस वेब सीरीज़ में देखने को मिलेगा.

# क्या था 1962 युद्ध का इतिहास

20 अक्टूबर, 1962 को भारत और चीन के बीच युद्ध छिड़ गया. ऐसा तब हुआ जब चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश पर आक्रमण किया. ये युद्ध 21 नवंबर तक चला. युद्ध शुरू होने से पहले तक भारतीय पक्ष को भरोसा था कि ये लड़ाई नहीं होगी. इसीलिए उसने थोड़ी तैयारी की थी. भारत ने अपने युद्ध क्षेत्र में सैनिकों की केवल दो डिवीजनों को तैनात किया था. जबकि चीनी सैनिकों ने तीन रेजिमेंटों को तैनात किया था. युद्ध में लगभग 3,250 भारतीय सैनिक मारे गए. भारत ने लगभग 43,000 वर्ग किलोमीटर ज़मीन खो दी थी.

2. कैसा है ‘1962 द वॉर इन द हिल्स’ ट्रेलर?

जब भी कभी हम युद्ध पर या आर्मी पर बनी फिल्मों की बात करते हैं, तो हमारे दिमाग में कुछ तय चीज़ें चलने लगती हैं. जैसे देशभक्ति से लबरेज़ सिपाही, वर्दी पहने दुश्मनों का सामना करती इंडियन आर्मी, जंगलों या पहाड़ों पर चढ़ती सेना, सिपाहियों का हौसला बढ़ाते कंमाडों और तड़ातड़ चलती गोली-बंदूक, बम की आवाज़ें. कुछ ऐसा ही है ‘1962 द वॉर इन द हिल्स’ का ट्रेलर. लगभग दो मिनट के इस ट्रेलर की शुरुआत होती है और रेडियो पर चीनी घुसपैठियों का समाचार चलता है. जिसके बाद उस समय के प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की बैठक में चीनी टुकड़ी से निपटने के तरीकों पर बात होती है. इसके बाद मेजर सूरज सिंह को इस लड़ाई का लीडर बना दिया जाता है.

सीरीज़ में प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू चीनी टुकड़ी से निपटने के तरीकों पर बात करते हुए.
सीरीज़ में प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू चीनी टुकड़ी से निपटने के तरीकों पर बात करते हुए.

मेजर सूरज सिंह की पत्नी यानी माही गिल भी वही कहती हैं, जो सदियों से आप और हम सुनते आ रहे हैं-

हिंदी-चीनी तो भाई-भाई हैं ना

इस पर सूरज सिंह जवाब देते हैं-

थे, अब बहुत ही जल्द बाय-बाय होने वाले हैं.

इसके बाद इंडिया और चीन का भीषण युद्ध शुरू होता है. जिसमें अपनी जान पर खेलकर सिपाही देश के लिए लड़ते हैं. ट्रेलर में बज रहा गाना ‘मेरे सौ जनम’ सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे. जिसे लिखा है हितेश मोदक ने.

क्या खटक रहा है?

ट्रेलर में दिखाए गए कुछ वीएफएक्स, नकली से लगते हैं. जैसे शुरुआत में ही बम के फूटने का सीन. इसके साथ ही 1962 का लगाया गया सेटअप और चीनी सिपाही बने कलाकार भी आंखों को खटकेंगे.

3. कौन-कौन से हैं सितारे?

# अभय देओल

अभय देओल हमेशा से ही चैलेंजिंग रोल करते रहे हैं. ‘1962 द वॉर इन द हिल्स’ में उन्होंने मेजर सूरज सिंह का किरदार निभाया है. जिनके अंडर इंडियन आर्मी, चीन के खिलाफ युद्ध लड़ने जाती है.

# सुमित व्यास

सुमित व्यास का किरदार भी इस सीरीज़ में बहुत अहम बताया जा रहा है.
सुमित व्यास का किरदार भी इस सीरीज़ में बहुत अहम बताया जा रहा है.

सुमित व्यास को ‘परमानेंट रूममेट’, ‘ट्रिपलिंग’ जैसी वेब सीरीज़ में कॉमिक रोल करते देखा. मगर इस वेब सीरीज़ में सुमित एक भारतीय सिपाही बने हैं.

# आकाश ठोसर

आकाश थोसार को उनकी फिल्म 'सैराट' के लिए जाना जाता है. जिसके बाद से उन्हें एक रोमांटिक हीरो के रूप में देखा जाने लगा.
आकाश ठोसर को उनकी फिल्म ‘सैराट’ के लिए जाना जाता है. जिसके बाद से उन्हें एक रोमांटिक हीरो के रूप में देखा जाने लगा.

साल 2016 में आई रोमांटिक ड्रामा फिल्म ‘सैराट’ के हीरो आकाश ठोसर भी इस सीरीज़ में नज़र आने वाले हैं. जो किशन का रोल निभाएंगे. उनका किरदार बहुत अहम बताया जा रहा है.

# चैंग

चीनी सैनिकों के लीडर बनें चैंग.
चीनी सैनिकों के लीडर बनें चैंग.

‘इंडियन आइडल’ तीसरे सीज़न के कंटेस्टेंट रहे चैंग भी इस सीरीज़ का हिस्सा होंगे. जो चीन की सिपाहियों के लीडर बने हैं. चैंग इससे पहले भी ‘बदमाश कंपनी’, ‘डिडेक्टिव ब्योमकेश बक्शी’ जैसी बॉलीवुड फिल्मों में नज़र आ चुके हैं. मगर उनका ये सीरीयस रोल देखने वाला होगा.

# माही गिल

माही गिल, अभय देओल की वाइफ शगुन के रोल में नज़र आएंगी.
माही गिल, अभय देओल की वाइफ शगुन के रोल में नज़र आएंगी.

माही गिल और अभय देओल पूरे 12 साल बाद स्क्रीन शेयर करते दिखाई देंगे. माही गिल और अभय देओल इससे पहले दोनों, साल 2009 में आई अनुराग कश्यप की फिल्म ‘देव डी’ में साथ दिखाई दिए थे. इस सीरीज़ में माही गिल, अभय देओल की वाइफ शगुन के रोल में नज़र आएंगी.

4. किसने बनाई है?

‘1962 द वॉर इन द हिल्स’ वेब सीरीज़ जाने-माने डायरेक्टर और एक्टर महेश मांजरेकर ने बनाई है. जो इससे पहले संजय दत्त की ‘वास्तव’, तबू की ‘अस्तित्व’ और संजय दत्त की ‘हथियार’ जैसी फिल्मों का डायरेक्शन कर चुके हैं. वहीं सीरीज़ का एक्शन कोरियोग्राफ किया है डॉन ली ने. जो इससे पहले ‘पाइरेट्स ऑफ द कैरिबियन’ और ‘स्टार ट्रेक बियोंड’ जैसी हॉलीवुड फ्रेंचाइजी से जुड़े रहे हैं.

5. कब आएगी?

अभय देओल और माही गिल की ये वेब सीरीज़ 26 फरवरी को रिलीज़ होगी. जिसे डिज़्नी प्लस हॉटस्टार वीआईपी पर देखा जा सकेगा. कुछ दिन पहले फिल्म के पोस्टर को रिलीज़ किया गया था. जिसे लोगों ने खूब पसंद किया था. अगर आपने अभी तक इस सीरीज़ का ट्रेलर नहीं देखा तो यहां देख सकते हैं.


वीडियो: अब गहना वशिष्ठ पर गैंगरेप करवाने का आरोप लगा है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

फिल्म रिव्यू- डूब: नो बेड ऑफ रोजेज़

इरफान के गुज़रने के बाद उनकी पहली फिल्म रिलीज़ हुई है. और 'डूब' का अर्थ वही है, जो आप समझ रहे हैं.

मूवी रिव्यू: मास्साब

मूवी रिव्यू: मास्साब

नेक कोशिश वाली जो मुट्ठीभर फ़िल्में बनती हैं, उनमें इस फिल्म का नाम लिख लीजिए.

आयरन मैन, स्पाइडर मैन छोड़िए, बचपन में टीवी पर आने वाले ये 5 देसी सुपरहीरो याद हैं आपको?

आयरन मैन, स्पाइडर मैन छोड़िए, बचपन में टीवी पर आने वाले ये 5 देसी सुपरहीरो याद हैं आपको?

उस वक़्त का टीवी आज से ज़्यादा स्मार्ट था. आज के मुकाबले कंटेंट कम था लेकिन जितना था, लाजवाब था.

'ओ बेटा जी' वाले भगवान दादा की 34 बातें: जिन्हें देख अमिताभ, गोविंदा, ऋषि कपूर नाचना सीखे!

'ओ बेटा जी' वाले भगवान दादा की 34 बातें: जिन्हें देख अमिताभ, गोविंदा, ऋषि कपूर नाचना सीखे!

हिंदी सिनेमा के इन बड़े विरले एक्टर को याद कर रहे हैं.

FAU-G गेम रिव्यू : एक ही बटन पीटते-पीटते थक गया हूं ब्रो!

FAU-G गेम रिव्यू : एक ही बटन पीटते-पीटते थक गया हूं ब्रो!

अच्छे मौक़े को गंवाना कोई इनसे सीखे.

मूवी रिव्यू: दी व्हाइट टाइगर

मूवी रिव्यू: दी व्हाइट टाइगर

कई पीढ़ियों में एक बार पैदा होता है व्हाइट टाइगर, इसलिए खास है. पर क्या फिल्म के बारे में भी ये कहा जा सकता है?

फिल्म रिव्यू- मैडम चीफ मिनिस्टर

फिल्म रिव्यू- मैडम चीफ मिनिस्टर

मैडम चीफ मिनिस्टर जिस ताबड़तोड़ तरीके से शुरू होती है, वो खत्म होते-होते वापस उतनी ही दिलचस्प और मज़ेदार हो जाती है. मगर दिक्कत का सबब है वो सब, जो शुरुआत और अंत के बीच घटता है.

वेब सीरीज़ रिव्यू- तांडव

वेब सीरीज़ रिव्यू- तांडव

'तांडव' बड़े प्रोडक्शन लेवल पर बनी एक छिछली पॉलिटिकल थ्रिलर है, जिसे लगता है कि वो बहुत डीप है.

मूवी रिव्यू: त्रिभंग

मूवी रिव्यू: त्रिभंग

कैसा रहा काजोल का डिजिटल डेब्यू?

फिल्म रिव्यू - मास्टर

फिल्म रिव्यू - मास्टर

साल की पहली मेजर फिल्म कैसी है, जहां दो सुपरस्टार आमने-सामने हैं?