Submit your post

Follow Us

'मुझमें इत्ते छेद हैं कि जहां से सांस लूंगा, वहीं से पादूंगा'

984
शेयर्स

घर की सफाई कैसे करते हो जी? झाड़ू या वैक्यूम क्लीनर से ना? लेकिन हम बोलें कि जरा समंदर की सफाई करनी है और ऐसी कि एकदम तल तक चमक जाए तो कैसे करेंगे?

दिमाग दौड़ते-दौड़ते थक गया है तो ठहरिए. रेस्ट इन फ्रंट ऑफ लल्लनटॉप स्क्रीन. क्योंकि हम समंदर के ऐसे सफाईकर्मी के बारे में बताने जा रहे हैं, जो उम्र भर पूरे मन से समंदर की मैल साफ करता है. और जब अंतिम यात्रा पर होता है तो लो आपकी प्लेट का जायका बन जाता है. इस मेहनती और मजेदार जीव का नाम है ‘सी क्युकंबर’.

अगर सी क्युकंबर अपनी जगह से न हिले तो लगेगा समंदर ने शो पीस सजा रखा है. बताते हैं इसके बारे में 10 मजेदार फैक्ट्स:

1. साईंनाथ, इसके 2 हजार हाथ

हां जी बेटा. सी क्यूकंबर के करीब दो हजार से ज्यादा हाथ होते हैं. ये समंदर तल से चिपका बैठा रहता है. पर इसकी बिरादरी के कुछ सी क्यूकंबर समंदर तल से बढ़कर ऊपरी और निचली सतह पर भी आ जाते हैं. इसकी करीब 1250 प्रजातियां होती हैं.

2. पॉटी की जगह से सांस! छी!

सी क्यूकंबर का जो एनस एरिया होता है. उसमें होते हैं बहुत सारे होल. अब जगह की बचत कोई इससे सीखे. ये साहब जहां से सांस लेते हैं, वहीं से पॉटी भी करते हैं.  किफायती जीव. इन्हीं छेदों से वो पानी का ऑक्सीजन ऑब्जर्व कर लेता है.

3. भाईसाब 12 इंच का कैसा होगा!

सी क्यूकंबर की हाइट प्रजाति पर डिपेंड करती है. कुछ का साइज 0.12 इंच तो कुछ का साइज 3.3 फीट तक होता है. आम तौर पर इनकी ज्यादातर प्रजातियां 3.9 से 12 इंच लंबी होती हैं.

4. खतरा होने पर अंगदान

दुश्मनों से निपटना कोई सी क्यूकंबर से सीखे. खतरा होने पर ये अपने अंदरूनी अंगों को शिकारी की तरफ बाहर छोड़ देता है. जो ये छोड़े हुए अंग होते हैं, ये डेढ़ से पांच हफ्ते में अपने आप फिर निकल आते हैं.

5. माइंड इट!

भाई के दिमाग नहीं होता है. सारा कम्युनिकेशन और बाकी काम करता है नर्वस सिस्टम से. सेंस की काबिलियत बहुत अच्छी नहीं होती.

6. खाने में नहीं है चूजी

क्रेडिट: Reuters

खाने पीने के मामले में ज्यादा डिमांडिंग नहीं है. समंदर तल पर जो मिलता है, भाग्य का लिखा समझ खा लेता है. पानी में मिलती है एक छोटी चीज, प्लानक्टन. उसे भी खा लेता है. मछलियां और व्हेल भी प्लानक्टन खाती हैं.

7. फैमिली बढ़ाने के लिए नहीं चाहिए पार्टनर

फैमिली बढ़ाने के लिए इसे पार्टनर की जरूरत नहीं होती. सेल्फ री-प्रोडक्शन करता है, बोले तो खुद से ही सेक्स. सी क्यूकंबर खूब सारे अंडे और स्पर्म सेल्स पानी में छोड़ देता है. कई स्टेज से गुजरने के बाद एक अडल्ट सी क्यूकंबर तैयार होता है.

8. कई बार सेक्स चेंज

अच्छा है सी क्यूकंबर को कोई फॉर्म नहीं भरना होता है. क्योंकि जेंडर वाली जगह पर मेल या फीमेल नहीं लिख सकता. क्योंकि एक लाइफ में सी क्युकंबर अपना सेक्स कई बार बदल सकता है. मतलब फीमेल से मेल. या मेल से फीमेल.

9. वैक्यूम क्लीनर सी क्युकंबर

अब बात समंदर की सफाई की. समंदर में जो गंदगी होती है. सी क्युकंबर उसे खाते जाते हैं. कुछ तो ऐसे होते हैं जो साल में करीब 130 किलो से ज्यादा गाद और गंदगी खा जाते हैं.

10. 5 से 10 साल की जिंदगी

वैसे तो इनकी उम्र उनकी प्रजाति पर डिपेंड करती है. फिर भी ये माना जाता है कि ज्यादातर सी क्युकंबर 5 से 10 साल की जिंदगी जी लेते हैं. कुछ जगहों के लोग तो सी क्युकंबर को खा भी डालते हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

पोस्टमॉर्टम हाउस

अपने डबल स्टैंडर्ड पर एक बार फिर ट्रोल हो गई हैं प्रियंका चोपड़ा

लोग उन्हें उनकी पुरानी बातें याद दिला रहे हैं.

उजड़ा चमन : मूवी रिव्यू

रिव्यू पढ़कर जानिए ‘मास्टरपीस’ और ‘औसत’ के बीच का क्या अंतर होता है.

फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर - डार्क फेट

नया कुछ नहीं लेकिन एक्शन से पैसे वसूल हो जाएंगे.

इस एक्टर ने फिल्म देखने गई फैमिली को सिनेमाघर में हैरस किया, वो भी गलत वजह से

इतनी बद्तमीजी करने के बावजूद ये लोग थिएटर में 'भारत माता की जय' का जयकारा लगा रहे थे.

हाउसफुल 4 : मूवी रिव्यू

दिवाली की छुट्टियां. एक हिट हो चुकी फ़्रेन्चाइज़ की चौथी क़िस्त. अक्षय कुमार जैसा सुपर स्टार और कॉमेडी नाम की विधा.

फिल्म रिव्यू: मेड इन चाइना

तीन घंटे से कुछ छोटी फिल्म सेक्स और समाज से जुड़ी हर बड़ी और ज़रूरी बात आप तक पहुंचा देना चाहती है. लेकिन चाहने और होने में फर्क होता है.

सांड की आंख: मूवी रिव्यू

मूवी को देखकर लगता है कि मेकअप वाली गड़बड़ी जानबूझकर की गई है.

कबीर सिंह के तमिल रीमेक का ट्रेलर देखकर सीख लीजिए कि कॉपी कैसे की जाती है

तेलुगू से हिंदी, हिंदी से तमिल एक ही डिश बिना एक्स्ट्रा तड़के के परोसी जा रही.

हर्षित: मूवी रिव्यू

शेक्सपीयर के नाटक हेमलेट पर आधारित है.

लाल कप्तान: मूवी रिव्यू

‘तुम्हारा शिकार, तुम्हारा मालिक है. वो जिधर जाता है, तुम उधर जाते हो.’