Submit your post

Follow Us

'मुझमें इत्ते छेद हैं कि जहां से सांस लूंगा, वहीं से पादूंगा'

985
शेयर्स

घर की सफाई कैसे करते हो जी? झाड़ू या वैक्यूम क्लीनर से ना? लेकिन हम बोलें कि जरा समंदर की सफाई करनी है और ऐसी कि एकदम तल तक चमक जाए तो कैसे करेंगे?

दिमाग दौड़ते-दौड़ते थक गया है तो ठहरिए. रेस्ट इन फ्रंट ऑफ लल्लनटॉप स्क्रीन. क्योंकि हम समंदर के ऐसे सफाईकर्मी के बारे में बताने जा रहे हैं, जो उम्र भर पूरे मन से समंदर की मैल साफ करता है. और जब अंतिम यात्रा पर होता है तो लो आपकी प्लेट का जायका बन जाता है. इस मेहनती और मजेदार जीव का नाम है ‘सी क्युकंबर’.

अगर सी क्युकंबर अपनी जगह से न हिले तो लगेगा समंदर ने शो पीस सजा रखा है. बताते हैं इसके बारे में 10 मजेदार फैक्ट्स:

1. साईंनाथ, इसके 2 हजार हाथ

हां जी बेटा. सी क्यूकंबर के करीब दो हजार से ज्यादा हाथ होते हैं. ये समंदर तल से चिपका बैठा रहता है. पर इसकी बिरादरी के कुछ सी क्यूकंबर समंदर तल से बढ़कर ऊपरी और निचली सतह पर भी आ जाते हैं. इसकी करीब 1250 प्रजातियां होती हैं.

2. पॉटी की जगह से सांस! छी!

सी क्यूकंबर का जो एनस एरिया होता है. उसमें होते हैं बहुत सारे होल. अब जगह की बचत कोई इससे सीखे. ये साहब जहां से सांस लेते हैं, वहीं से पॉटी भी करते हैं.  किफायती जीव. इन्हीं छेदों से वो पानी का ऑक्सीजन ऑब्जर्व कर लेता है.

3. भाईसाब 12 इंच का कैसा होगा!

सी क्यूकंबर की हाइट प्रजाति पर डिपेंड करती है. कुछ का साइज 0.12 इंच तो कुछ का साइज 3.3 फीट तक होता है. आम तौर पर इनकी ज्यादातर प्रजातियां 3.9 से 12 इंच लंबी होती हैं.

4. खतरा होने पर अंगदान

दुश्मनों से निपटना कोई सी क्यूकंबर से सीखे. खतरा होने पर ये अपने अंदरूनी अंगों को शिकारी की तरफ बाहर छोड़ देता है. जो ये छोड़े हुए अंग होते हैं, ये डेढ़ से पांच हफ्ते में अपने आप फिर निकल आते हैं.

5. माइंड इट!

भाई के दिमाग नहीं होता है. सारा कम्युनिकेशन और बाकी काम करता है नर्वस सिस्टम से. सेंस की काबिलियत बहुत अच्छी नहीं होती.

6. खाने में नहीं है चूजी

क्रेडिट: Reuters

खाने पीने के मामले में ज्यादा डिमांडिंग नहीं है. समंदर तल पर जो मिलता है, भाग्य का लिखा समझ खा लेता है. पानी में मिलती है एक छोटी चीज, प्लानक्टन. उसे भी खा लेता है. मछलियां और व्हेल भी प्लानक्टन खाती हैं.

7. फैमिली बढ़ाने के लिए नहीं चाहिए पार्टनर

फैमिली बढ़ाने के लिए इसे पार्टनर की जरूरत नहीं होती. सेल्फ री-प्रोडक्शन करता है, बोले तो खुद से ही सेक्स. सी क्यूकंबर खूब सारे अंडे और स्पर्म सेल्स पानी में छोड़ देता है. कई स्टेज से गुजरने के बाद एक अडल्ट सी क्यूकंबर तैयार होता है.

8. कई बार सेक्स चेंज

अच्छा है सी क्यूकंबर को कोई फॉर्म नहीं भरना होता है. क्योंकि जेंडर वाली जगह पर मेल या फीमेल नहीं लिख सकता. क्योंकि एक लाइफ में सी क्युकंबर अपना सेक्स कई बार बदल सकता है. मतलब फीमेल से मेल. या मेल से फीमेल.

9. वैक्यूम क्लीनर सी क्युकंबर

अब बात समंदर की सफाई की. समंदर में जो गंदगी होती है. सी क्युकंबर उसे खाते जाते हैं. कुछ तो ऐसे होते हैं जो साल में करीब 130 किलो से ज्यादा गाद और गंदगी खा जाते हैं.

10. 5 से 10 साल की जिंदगी

वैसे तो इनकी उम्र उनकी प्रजाति पर डिपेंड करती है. फिर भी ये माना जाता है कि ज्यादातर सी क्युकंबर 5 से 10 साल की जिंदगी जी लेते हैं. कुछ जगहों के लोग तो सी क्युकंबर को खा भी डालते हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
10 things to know about sea cucumbers

पोस्टमॉर्टम हाउस

गैंग्स ऑफ वासेपुर की मेकिंग से जुड़ी ये 24 बातें जानते हैं आप!

अनुराग कश्यप की इस क्लासिक को रिलीज हुए 7 साल हो चुके हैं. दो हिस्सों वाली इस फिल्म के प्रोडक्शन से बहुत सी बातें जुड़ी हैं. देखें, आप कितनी जानते हैं.

कबीर सिंह: मूवी रिव्यू

It's not the goodbye that hurts, but the flashbacks that follows.

क्या हुआ जब दो चोर, एक भले आदमी की सायकल लेकर फरार हो गए

सायकल भी ऐसी जिसे इलाके में सब पहचानते थे.

मूवी रिव्यू: गेम ओवर

थ्रिल, सस्पेंस, ड्रामा, मिस्ट्री, हॉरर का ज़बरदस्त कॉकटेल है ये फिल्म.

भारत: मूवी रिव्यू

जैसा कि रिवाज़ है ईद में भाईजान फिर वापस आए हैं.

बॉल ऑफ़ दी सेंचुरी: शेन वॉर्न की वो गेंद जिसने क्रिकेट की दुनिया में तहलका मचा दिया

कहते हैं इससे अच्छी गेंद क्रिकेट में आज तक नहीं फेंकी गई.

मूवी रिव्यू: नक्काश

ये फिल्म बनाने वाली टीम की पीठ थपथपाइए और देख आइए.

पड़ताल : मुख्यमंत्री रघुवर दास की शराब की बदबू से पत्रकार ने नाक बंद की?

झारखंड के मुख्यमंत्री की इस तस्वीर के साथ भाजपा पर सवाल उठाए जा रहे हैं.

2019 के चुनाव में परिवारवाद खत्म हो गया कहने वाले, ये आंकड़े देख लें

परिवारवाद बढ़ा या कम हुआ?

फिल्म रिव्यू: इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड

फिल्म असलियत से कितनी मेल खाती है, ये तो हमें नहीं पता. लेकिन इतना ज़रूर पता चलता है कि जो कुछ भी घटा होगा, इसके काफी करीब रहा होगा.