Submit your post

Follow Us

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने किया चुनाव प्रबंधन छोड़ने का ऐलान

ममता बनर्जी के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने चुनाव प्रबंधन का काम छोड़ने का ऐलान किया है. ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी की जीत तय है फिर भी प्रशांत ऐसा फैसला ले रहे हैं. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वे जीवन भर यह सब नहीं कर सकते हैं. ऐसा नहीं है प्रशांत ने पहली बार ये बात कही है. हाल ही में ‘दी लल्लनटॉप’ के संपादक सौरभ द्विवेदी के साथ एक इंटरव्यू में प्रशांत ने कहा था कि वे आने वाले वक्त में कभी यह काम छोड़ देंगे. हालांकि उन्होंने ये नहीं बताया था कि इतनी जल्दी वह ऐसा फैसला करने वाले हैं.

तब उन्होंने और क्या कहा था वह भी आपको बताएंगे. लेकिन उससे पहले बताते हैं कि अब उन्होंने क्या कुछ कहा है. प्रशांत ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैं काफी कुछ कर चुका हूं. मैं अब जिंदगी में और कुछ करना चाहता हूं. जीवन भर यही काम करता नहीं रह सकता. मैं अपने आस पास मौजूद लोगों को हर बातचीत में ये कहता रहा हूं.

चुनाव आयोग पर साधा निशाना

आजतक की एक खबर के मुताबिक उन्होंने चुनाव आयोग पर तीखे हमले करते हुए उसे बीजेपी की ‘बी टीम’ बताया. उन्होंने इतना पक्षपात करने वाला चुनाव आयोग मैंने कभी नहीं देखा. सब पार्टियों को साथ आना चाहिए और आयोग पर रिफॉर्म के लिए दबाव बनाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के दौर में भी 8 चरणों में चुनाव कराए जाने का केवल यही मकसद था कि बीजेपी के नेता अधिक से अधिक प्रचार कर सकें. प्रशांत किशोर ने कहा कि चुनाव आयोग ने पीएम नरेंद्र मोदी समेत तमाम नेताओं को पूरा वक्त दिया कि वो बीजेपी के लिए प्रचार कर सकें.

इंडिया टुडे के साथ बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि अमित शाह से ये कौन पूछेगा कि आखिर वो किस आधार पर बीजेपी को 200 सीटों का दावा कर रहे थे? हर चरण के बाद वो सीटों की संख्या बता रहे थे. क्या उनके पास कोई क्रिस्टल बॉल थी. वो 120-130 सीट नहीं कहते थे बल्कि सीधे कहते थे कि चौथे चरण के बाद हम 121 सीटें जीत रहे हैं.

उन्होंने चुनावी रणनीतिकार के बतौर अपनी पारी समाप्ति की घोषणा करते हुए कहा,

“मेरी कंपनी आईपैक में काफी योग्य लोग हैं. जो लोग यहां काम करते हैं, मुझे उनके काम का क्रेडिट मिल जाता है. अब वक्त है कि वो जिम्मेदारी अपने हाथ में लें और जो कुछ करना चाहते हैं वो करें. मैं वो नहीं करना चाहता जो अब तक करता आया हूं. मैं अपने जीवन में कुछ और चीजों के बारे में सोचना चाहता हूं.”

लल्लनटॉप से बातचीत के दौरान किया था इशारा

सौरभ द्विवेदी के एक सवाल के जवाब में प्रशांत किशोर ने कहा था कि वे राजनीति में निश्चित तौर पर आएंगे. उन्होंने कहा था कि मेरे जीवन का ध्येय, जो मैं कर रहा हूं, करते रहना नहीं है. प्रशांत ने कहा था,

पहली बात कि मैं किसी को चुनाव नहीं जिताता हूं. मैंने कई इंटरव्यू में पहले भी कहा है कि हमारे जैसे लोगों को काफी ओवररेट किया गया है. देखिए जब पार्टियां जीतती हैं, तो पार्टी के लीडर्स जीतते हैं. उनका काम और उनकी नाकामी ज्यादा बडा फैक्टर है. प्रशांत किशोर या प्रशांत किशोर जैसे लोग या जो ऐसी संस्थाएं हैं. We can only contribute at the margin (हम केवल थोड़ा योगदान दे सकते हैं).

मैंने JDU ज्वाइन करके पॉलिटिक्स में कुछ करने की कोशिश की. सफलता नहीं मिली. फिर जो काम जानते थे, समझते थे, जिस क्षेत्र में अपनी थोड़ी बहुत जगह बनाई हुई थी, उसमें वापस लौटे हैं. इसमें कुछ अच्छा करके अगर दिखाएंगे, तो मुझे पूरा विश्वास है कि बेहतर समझ के साथ राजनीति में फिर से उतरा जा सकता है. और काम वहां पर किया जा सकता है. ये गारंटी नहीं है कि मैं फिर वहां फेल नहीं हो जाऊंगा. लेकिन मैं फेलियर से डरता नहीं हूं. फिर ट्राई करेंगे, अगर फिर सफल नहीं हुए, तो फिर से और बेहतर बनने का प्रयास करेंगे.


वीडियो- बंगाल चुनाव: क्या करने वाले हैं प्रशांत किशोर, सौरभ द्विवेदी को इंटरव्यू में बताया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.