Submit your post

Follow Us

पिछली सरकार में सबसे फिसड्डी मंत्रियों में गिनती होती थी, इस बार फिर मिला मौका

164
शेयर्स

सदानंद गौड़ा

कहां से सांसद: बैंगलोर नॉर्थ

पिछली सरकार में कौनसा मंत्रालय: पिछली सरकार में चार अलग-अलग मंत्रालयों के मंत्री रहे.
1. Minister of Railways: 26 मई 2014 नवंबर 2014
2.Minister of Law and Justice: 9 नवम्बर 2014 – 5 जुलाई 2016
3.Minister of Statistics: 5 जुलाई 2016 से अब तक
4.Minister of Chemicals and Fertilizers:14 नवंबर 2018 से अब तक.

क्यों बनाया गया मंत्री

सदानंद गौड़ा की पिछली सरकार में बतौर मंत्री प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा. उन्हें शुरुआत में रेल का भारी-भरकम महकमा दिया गया. लेकिन वहां से अच्छा प्रदर्शन नहीं होने की वजह से वहां से हटाकर कानून मंत्री बनाया गया. यहां भी उनका काम खास प्रभावी नहीं रहा. ऐसे में उन्हें सांख्यकी महकमे का मंत्री बनाया गया जोकि वजन के हिसाब से काफी हल्का माना जाता है. रासायनिक खाद का मंत्रालय उन्हें संयोग से मिला. क्योंकि इस मंत्रालय को संभालने वाले अनंत कुमार का निधन हो गया. ऐसे में सवाल यह उठता है कि उन्हें फिर से मंत्रिमंडल में क्यों लिया गया?

इसे समझने के लिए कर्नाटक की सियासत समझनी जरुरी है. कर्नाटक में दो बड़ी बिरादरियां है जो सूबे के सियासी मुस्तकबिल को तय करती हैं. पहली है लिंगायत और दूसरी है वोक्कालिगा. कर्नाटक में कद्दावर बीजेपी नेता येदियुरप्पा लिंगायत समुदाय से आते हैं. और सदानंद गौड़ा वोक्कालिगा समुदाय से. बीजेपी दोनों बिरादरियों में संतुलन साधने की कोशिश में लगी हुई है. ऐसे में सदानंद गौड़ा को केंद्र सरकार में फिर से लिया गया है. कर्नाटक में जेडी(एस.) और कांग्रेस की गठबंधन सरकार चल रही है लेकिन वहां का सियासी मौसम नाजुक बना हुआ है. बीजेपी हर संभावना के लिए खुद को तैयार करके रख रही है.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Narendra Modi Cabinet 2019: Sadanand Gowda sworn in as Minister

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.