Submit your post

Follow Us

कांग्रेस की नई लिस्ट में इन तीन नामों के पीछे पार्टी की एक प्लैनिंग छिपी है

555
शेयर्स

लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस की नई लिस्ट जारी हो गई है. इस लिस्ट में कुल 7 नामों का ऐलान हुआ है. नई लिस्ट में कांग्रेस के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी का नाम भी शामिल है. सिंधिया को उनकी पारंपरिक सीट गुना से उतारा है, तो मनीष तिवारी को पंजाब के आनंदपुर साहिब सीट से उम्मीदवार बनाया गया है.

कांग्रेस की इस लिस्ट की तीन मुख्य बातें हैं, जिन्हें बारी-बारी से समझिए.

#1. मनीष तिवारी फिर से चुनावी मैदान में उतर रहे हैं. उन्हें आनंदपुर साहिब टिकट मिला है. पिछले चुनाव यानी कि साल 2014 में भी उनका नाम इसी सीट से फाइनल हुआ था, लेकिन टिकट मिलने के तुरंत बाद उन्होंने चुनाव लड़ने से मना कर दिया था. कहा था स्वास्थ्य खराब है, चुनाव नहीं लड़ सकता. जिसपर विपक्षियों ने कहा था उनका ही नहीं, उनकी पार्टी का भी स्वास्थ्य खराब है, इसलिए मैदान छोड़ दिया. मनीष तिवारी के चुनाव नहीं लड़ने के बाद अंबिका सोनी चुनावी मैदान में उतरी थीं. जिसमें उन्हें अकाली दल के प्रेम सिंह चंदूमाजरा से हार का सामना करना पड़ा था. मनीष तिवारी 2014 से पहले 2009 में लुधियाना से सांसद बने थे. जबकि इसी सीट से वो 2004 में हार गए थे. अब 2019 चुनाव के लिए उन्हें आनंदपुर साहिब सीट से उतारा गया.

मनीष तिवारी के नाम के साथ कांग्रेस ने संगरूर सीट से केवल सिंह ढिल्लों का भी नाम फाइनल किया है. 2 नामों के ऐलान के बाद पंजाब में कांग्रेस ने 11 नामों को फाइनल कर दिया है. अब बाकी की 2 सीटों के लिए पार्टी सामने वाली पार्टी के कैंडिडेट के नाम का इंतजार कर रही है.

#2. ज्योतिरादित्य सिंधिया पर फिर से पार्टी ने भरोसा जताया है. उन्हें पार्टी ने गुना सीट से चुनाव में उतारा है. इससे पहले जब सिंधिया को पश्चिमी यूपी का प्रभारी बनाया गया था तब खबरें आईं कि सिंधिया की जगह उनकी पत्नी प्रियदर्शिनी सिंधिया को गुना सीट से उतारा जाएगा. लेकिन पार्टी ने फिर से  सिंधिया पर ही भरोसा जताया. उसके पीछे बड़ी वजह ये भी है कि हाल ही में पार्टी ने सिंधिया और कमलनाथ के नेतृत्व में मध्य प्रदेश में सरकार बनाई है. पार्टी सिंधिया के ज़रिए लोकसभा चुनाव में भी विधानसभा वाली बढ़त हासिल करने की कोशिश कर रही है. विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने 230 में 114 सीटें हासिल की थी. जबकि मध्यप्रदेश की 29 लोकसभा सीटों में से 26 पर बीजेपी और सिर्फ 3 सीटों पर ही कांग्रेस का कब्ज़ा है.

#3. जम्मू कश्मीर की 6 सीटों के लिए कांग्रेस ने नेशनल कान्फ्रेंस के साथ गठबंधन किया है. दोनों पार्टियों के बीच से फैसला हुआ कि जम्मू और उधमपुर से कांग्रेस अपने प्रत्याशी उतारेगी, वहीं अनंतनाग और बारामुला से दोनों पार्टियों के कैंडिडेट चुनावी मैदान में होंगे. फारूक अब्दुल्ला खुद श्रीनगर सीट से चुनाव लड़ेंगे. काफी वक्त तक ये फैसला नहीं हो पाया था कि लद्दाख की सीट किसके पास जाएगी. कांग्रेस की नई लिस्ट में लद्दाख सीट से रिगिन स्पलबार का नाम है. जिसके बार सारा समीकरण साफ हो गया. पिछले चुनाव में जम्मू कश्मीर में कांग्रेस का खाता भी नहीं खुला था. जबकि बीजेपी ने 3 और पीडीपी ने 3 सीटों पर कब्ज़ा जमाया था. साल 2016 में श्रीनगर सीट से तारीक हामीद कर्रा के इस्तीफे के बाद 2017 में फारूक अब्दुल्ला सांसद बने थे. अब कांग्रेस की नज़र जम्मू कश्मीर में भी पार्टी की स्थिति सुधारने पर है.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Lok sabha elections 2019 Congress gave ticket to jyotiraditya scindia from guna and manish tiwari from anandpur Sahib

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.