Submit your post

Follow Us

वीरभद्र ने जो सीट बेटे के लिए छोड़ी, वहां कौन जीता?

274
शेयर्स

सीट- शिमला ग्रामीण 

जिला- शिमला

विक्रमादित्य सिंह ने 4880 मतों से चुनाव जीता है.

वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य को कुल 28275 वोट मिले हैं.

भाजपा के डॉ प्रमोद शर्मा को 23395 वोट मिले हैं. 

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव 2017 में शिमला ग्रामीण की ये सीट 6 बार के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की सीट रही है. मगर इस बार वीरभद्र ने अपनी ये सीट बेटे विक्रमादित्य सिंह के लिए छोड़ी थी. विक्रमादित्य के लिए ये राज्य की राजनीति में डेब्यू था. इससे पहले वो स्टूडेंट पॉलिटिक्स कर चुके हैं. पिता की राजनैतिक जमीन पर उतरे विक्रमादित्य ने अपनी पूरी कोशिश की थी खुद को स्थापित नेता प्रोजेक्ट करने की. सामने थे भाजपा के डॉ. प्रमोद शर्मा. प्रमोद हिमाचल एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज (HAS) अधिकारी रह चुके हैं और अभी शिमला यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर हैं. भाजपा से पहले प्रमोद निर्दलीय चुनाव लड़ चुके हैं. ये उनका चौथा चुनाव है. पिछली बार TMC के टिकट से लड़े थे.

2012 चुनाव– 2012 में ही ये सीट बनी थी. ये इलाका पहले सुन्नी-कुमारसैन और कसुम्पटी में आता था. पिछली बार वीरभद्र सिंह यहां से 20,000 के मार्जिन से जीते थे. भाजपा के ईश्वर रोहाल को हराया था.

2017_11$largeimg01_Wednesday_2017_132332301
वीरभद्र के राजनीतिक उत्तराधिकारी हैं विक्रमादित्य.

तीन फैक्टर:
# वीरभद्र सिंह के नाम का सिक्का चलता है. बेटे के लिए सीट छोड़ने का फैसला काम आया.
# भाजपा के प्रमोद शर्मा ने खुद को यहां का बताया था, वहीं विक्रमादित्य ने पिता वीरभद्र के पांच साल के काम के नाम पर वोट मांगे थे.
# भाजपा यहां वीरभद्र के खिलाफ माहौल नहीं बना पाई.

शिमला ग्रामीण सीट से लल्लनटॉप वीडियो देखिए-

ये भी पढ़ें-

हिमाचल में सेब लाने वाले की बहू की सीट पर कौन जीता?

हिमाचल में धूमल के हारने पर कौन बनेगा मुख्यमंत्री?

उस सीट पर कौन जीत रहा है जहां मोदी ने अपनी दोस्त को टिकट दिया है?

हिमाचल में सलमान खान के रिश्तेदार जीते या हारे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गुजरात चुनाव 2017

गुजरात और हिमाचल में सबसे बड़ी और जान अटका देने वाली जीतों के बारे में सुना?

एक-एक वोट कितना कीमती होता है, कोई इन प्रत्याशियों से पूछे.

गुजरात विधानसभा चुनाव के चार निष्कर्ष

बहुमत हासिल करने के बावजूद चुनाव के नतीजों से बीजेपी अंदर ही अंदर सकते में है.

गुजरात में AAP का क्या हुआ, जो 33 सीटों पर लड़ी थी!

अरविंद केजरीवाल का गुजरात में जादू चला या नहीं?

गुजरात चुनाव के बाद सुशील मोदी को खुला खत

चुनाव के नतीजे आने के बाद भी लिचड़ई नहीं छोड़ रहे.

इस चुनाव में राहुल और हार्दिक से ज्यादा अफसोस इन सात लोगों को हुआ है

इन लोगों ने थोड़ी मेहनत और की होती, तो ये गुजरात की विधानसभा में बैठने की तैयारी कर रहे होते.

राहुल गांधी ने चुनाव में हार के बाद ये 8 बातें बोली हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की क्रेडिबिलिटी पर ही सवाल खड़े कर दिए.

गुजरात में हारे कांग्रेस के वो बड़े नेता जिन पर राहुल गांधी को बहुत भरोसा था

इनके बारे में कांग्रेस पार्टी ने बड़े-बड़े प्लान बनाए होंगे.

बीजेपी के वो 8 बड़े नेता जो गुजरात चुनाव में हार गए

इनको प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाएं और तमाम टोटके नहीं जिता सके.

पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश में जीत के बाद ये 5 बातें कहीं

दोनों प्रदेशों में भगवा लहराया मगर गुजरात की जीत पर भावुक दिखे पीएम.

ये सीट जीतकर कांग्रेस ने शंकरसिंह वाघेला से बदला ले लिया है

वाघेला ने इस सीट पर एक निर्दलीय प्रतायशी को वॉकओवर दिया था.