Submit your post

Follow Us

गौतम अडाणी के अरबों रुपये डूबने के पीछे की कहानी

आज बात होगी शेयर बाज़ार में चल रही उठापटक की. शेयर बाज़ार में कल से अडाणी ग्रुप की कंपनियों के शेयर ढहने की खबरें आ रही हैं. गौतम अडाणी की कंपनियों में पिछले एक दशक में जितनी बड़ी गिरावट नहीं हुई, वो कल एक दिन में हो गई. आज भी अदाणी ग्रुप की कई कंपनियों के शेयर 5 फीसदी तक नीचे गए. अडाणी ग्रुप से बयान जारी कर कहा जा रहा है कि सब ठीक है. लेकिन शेयर बाज़ार में पैसा लगाने वालों को ऐसा नहीं लगता है. और शेयर गिर रहे हैं. इंवेस्टर्स को करोड़ों रुपये का नुकसान 2 दिन में हो गया है. तो आसान भाषा में समझते हैं कि हो क्या रहा है.

14 जून को इकनॉमिक टाइम्स अखबार ने एक रिपोर्ट छापी. रिपोर्ट में बताया कि तीन विदेशी इंवेस्टर्स के अकाउंट फ्रीज़ किए गए हैं. ये इंवेस्टर्स हैं – एल्बुला इंवेस्टमेंट फंड, क्रेस्टा फंड और एपीएमएस इंवेस्टमेंट फंड. इन तीनों कंपनियों के अकाउंट 31 मई या उससे पहले NSDL ने फ्रीज़ किए थे. NSDL यानी नेशनल सिक्योरिटीज़ डिपॉजिटरी लिमिटेड. शेयर बाज़ार में जितने भी शेयर खरीदे या बेचे जाते हैं उनका हिसाब NSDL के पास होता है. वर्चुअल रूप से डीमैट अकाउंट में NSDL के पास शेयर जमा होते हैं. जैसे किसी आम इंवेस्टर को शेयर बाज़ार में ट्रेडिंग करने के लिए डीमैट अकाउंट बनाना पड़ता है वैसे ही विदेशी इंवेस्टर्स को भी ट्रेडिंग के लिए अकाउंट खोलना पड़ता है. तो NSDL ने तीन विदेशी निवेशकों के अकाउंट फ्रीज़ कर दिए. अकाउंट फ्रीज़ करने का मतलब है कि उस अकाउंट से ना तो शेयर खरीदे जा सकते हैं और ना बेचे जा सकते हैं. हालांकि ऐसा भी नहीं है कि NSDL ने पहली बार कोई अकांउट फ्रीज़ किया हो. NSDL की वेबसाइट पर 9 हज़ार से ज़्यादा अकाउंट्स फ्रीज़ होने की जानकारी है. लेकिन ये तीन अकाउंट खास हैं. क्योंकि इनका अडाणी ग्रुप की कंपनियों में बहुत बड़ा इंवेस्टमेंट है. 43 हज़ार 500 करोड़ रुपये का. ये तीनों विदेशी इंवेस्टर्स अडाणी ग्रुप के टॉप 12 इंवेस्टर्स में आते हैं. तो ये ख़बर बाज़ार में फैल गई कि अडाणी ग्रुप के विदेश इंवेस्टर्स के अकाउंट फ्रीज़ हो गए हैं. इस खबर से जैसा कि आमतौर पर होता है, शेयर बाज़ार में पैनिक शुरू हो गया. लोगों ने अडाणी ग्रुप की कंपनियों से शेयर निकालने शुरू कर दिए और कंपनियों के शेयर धड़ाम से नीचे गिरने लगे. शेयर्स में 25 फीसदी तक की गिरावट आई.

अडाणी ग्रुप ने क्या कहा?

इसके बाद अडाणी ग्रुप ने डैमेज कंट्रोल की कोशिश शुरू की. दोपहर बाद अडाणी ग्रुप ने एक बयान जारी किया. कहा कि जो रिपोर्ट्स चल रही हैं वो पूरी तरह से गलत हैं और इंवेस्टिंग कम्यूनिटी को गुमराह करने के लिए चलाई जा रही हैं. इससे इंवेस्टर्स का आर्थिक नुकसान हो रहा है और अडाणी ग्रुप की छवि खराब हो रही है.’ बयान में अडाणी ग्रुप ने बताया कि NSDL ने उनकी कंपनी के शेयर वाले खाते फ्रीज़ नहीं किए हैं. अडाणी ग्रुप ने बाद में NSDL का जवाब भी सार्वजनिक किया. जिसके मुताबिक अडाणी ग्रुप के शेयर वाले खाते फ्रीज़ नहीं हुए हैं.

इस बयान के बाद अडाणी ग्रुप के शेयर कुछ हद तक ऊपर उठे लेकिन नुकसान की पूरी भरपाई नहीं हुई. दूसरी तरफ ये भी कंफ्यूज़न रहा कि एक तरफ तो NSDL की वेबसाइट पर तीन विदेशी अकाउंट्स का विवरण है और दूसरी तरफ NSDL और अडाणी ग्रुप दोनों कह रहे हैं कि अडाणी ग्रुप वाले शेयर्स का अकाउंट फ्रीज़ नहीं हुआ.

बाद में ये जानकारी आई कि तीनों विदेशी इंवेस्टर्स के अकाउंट फ्रीज़ तो हुए हैं, लेकिन ये वो अकाउंट नहीं हैं जिनसे अडाणी ग्रुप के शेयर खरीदे गए हैं. इंवेस्टर्स मल्टीपल अकाउंट रख सकते हैं. और NSDL ने उनका कोई और अकाउंट फ्रीज़ किया होगा.

अकाउंट क्यों फ्रीज़ हुए?

अगर फ्रीज़ होने वाले अकाउंट अडाणी ग्रुप से नहीं जुड़े, तो भी बात खत्म नहीं हो जाती. अकाउंट क्यों फ्रीज़ हुए हैं, किस एजेंसी के कहने पर हुए हैं, क्या मार्केट रेग्यूलेटर सेबी के आदेश पर ऐसा हुआ है, ये सारी बातें अभी साफ नहीं हुई है. तो क्या ये कोई शेयर बाज़ार में बड़ी गड़बड़ी का मामला है?

यहां तक तो बात सिर्फ अडाणी ग्रुप और उसके विदेश इंवेस्टर्स के अकाउंट्स की थी. शेयर बाज़ार में कुछ भी होता है तो उसका असर छोटे निवेशकों पर भी पड़ता है. अडाणी ग्रुप की कंपनियों के शेयर गिरने से उसके छोटे निवेशकों का भी नुकसान हुआ है. अर्थव्यवस्था धरातल पर है तब भी शेयर बाज़ार तेज़ छलागें लगाता दिखता है. इसलिए RBI की तरफ से भी कई बार कहा गया है कि ये शेयर बाज़ार का बबल है, फूट भी सकता है. तो अडाणी ग्रुप के शेयर गिरने उसका एक संकेत समझना चाहिए?

तो बात ऐसी है कि शेयर बाज़ार से जल्दी अमीर बनने के चक्कर में अपना नुकसान मत करवा लीजिएगा. अपनी मेहनत की कमाई का पैसा सोच-समझकर निवेश करिए. हमने शेयर बाज़ार को कई बार गिरते देखा है. और अर्थव्यवस्था के मौजूदा हाल को देखते हुए इसका अंदेशा अभी जताया जा रहा है. इसलिए बतौर निवेशकों को आगे और सतर्क रहने की ज़रूरत है.


विडियो- क्रिप्टोकरेंसी के खिलाड़ी WazirX को ED ने कैसा नोटिस जारी कर दिया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.