Submit your post

Follow Us

राम मंदिर ट्रस्ट की जमीन बेच फायदा कमाने में बीजेपी मेयर के भतीजे दीप नारायण की क्या भूमिका है?

बात अयोध्या के संपत्ति विवाद की. बीते दिनों 2 करोड़ की ज़मीन का दाम 10 मिनट के अंतराल पर साढ़े 18 करोड़ हो जाने की ख़बर सामने आयी थी. जिसके बाद ट्रस्ट की ओर से सफ़ाई दी गयी. अनुबंध पत्र सामने रखे गए और दावे किए गए कि ज़मीन की ख़रीदफ़रोख़्त में कोई भी गड़बड़ी नहीं हुई है. लेकिन अब मामले में कुछ और ज़मीनें, और कुछ और काग़ज़ आ चुके हैं. इंडिया टुडे पर छपी संतोष कुमार की रिपोर्ट बताती है कि 47 लाख रुपए मूल्य की दो ज़मीनें राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट को 3.5 करोड़ रुपए में बेची गयी हैं.

इस बेचाबाची में किसका नाम आ रहा है?

अयोध्या के मेयर ऋषिकेश उपाध्याय के भतीजे दीप नारायण का. पहले बात 20 लाख वाली ज़मीन की, जिसे हमने नाम दिया है प्लॉट नं एक. रिपोर्ट के हवाले से बात करें, तो दीप नारायण ने 20 फ़रवरी 2021 को महंत देवेंद्र प्रसाद आचार्य से सदर तहसील में पड़ने वाले गांव कोट रामचंद्र में ज़मीन ख़रीदी. गाटा संख्या 135 और ज़मीन का माप 890 वर्ग मीटर. इस ज़मीन के लिए दीप नारायण ने 20 लाख रुपए दिए. जबकि 4 हज़ार रुपए प्रति वर्ग मीटर के सर्किल रेट के मुताबिक़ इस ज़मीन की क़ीमत 35 लाख 60 हज़ार रुपए आँकी गयी थी.

लेकिन तीन महीने बाद 11 मई को दीप नारायण ने ये ज़मीन राम जन्मभूमि ट्रस्ट को बेची. और ज़मीन का ये सौदा हुआ 2.5 करोड़ रुपए में. और इस नए सौदे के मुताबिक़, ज़मीन का भाव 4 हज़ार रुपए प्रति वर्ग मीटर से बढ़कर हो गया 28 हज़ार 90 रुपए प्रति वर्ग मीटर. मोटा गणित कहता है कि दीप नारायण ने ये ज़मीन सर्किल रेट से कम क़ीमत पर ख़रीदी और सर्किल रेट से कई गुना ज़्यादा दाम पर बेच दी राम मंदिर ट्रस्ट को.

अब बात प्लॉट नम्बर दो की

क्षेत्रफल 676. 86 वर्ग मीटर. इस प्लॉट के सौदे में भी दीप नारायण ने केन्द्रीय भूमिका निभाई. 20 फ़रवरी 2021 के दिन दीप नारायण ने इस ज़मीन को ट्रस्ट को 1 करोड़ रुपए में बेच दिया. यानी एक वर्ग मीटर का रेट हुआ लगभग 14 हज़ार 774 रुपए. लेकिन सर्किल रेट चल रहा था 4 हज़ार प्रति वर्ग मीटर का. और इस सर्किल रेट के हिसाब से ज़मीन का दाम 27 लाख 8 हज़ार रुपए का होता.

अब बात फिर से मोटे गणित की

दीप नारायण ने प्लॉट नम्बर एक जिस दिन ख़रीदा, प्लॉट नम्बर दो उसी दिन बेच दिया. दिन था 20 फ़रवरी का. एक ही तारीख़ को प्लॉट नम्बर एक सर्किल रेट से कम दाम पर ख़रीदा गया, और सर्किल रेट से ज़्यादा भाव पर प्लॉट नम्बर दो ट्रस्ट को बेच दिया गया. अब इस पूरे चक्र में मेयर ऋषिकेश उपाध्याय के रोल पर भी सवाल उठ रहे हैं. इसलिए नहीं कि उनके भतीजे दीप नारायण का नाम सामने आ रहा है, बल्कि इसलिए क्योंकि उन पर आरोप हैं कि प्लॉट बेचने वाले विक्रेताओं से वो मिले, और मंदिर निर्माण के लिए ज़मीन दान में देने का आग्रह किया. प्लॉट नम्बर एक यानी 20 लाख वाली ज़मीन के पहले कथित मालिक महंत देवेंद्र प्रसाद आचार्य ने आजतक से बातचीत में कहा कि ज़मीन ख़रीदने के लिए ट्रस्ट ने हमसे सीधे संपर्क नहीं किया था. मेयर ऋषिकेश उपाध्याय मिले थे और कहा रामलला ट्रस्ट को ज़मीन की आवश्यकता है. मुझे लगा कि वो ट्रस्ट से अधिकृत हैं, इसलिए ज़मीन रामजी के लिए दे दी.

लेकिन मामला इतना साफ़ नहीं दिखता है. इस ज़मीन को दीप नारायण को बेचने वाले महंत देवेंद्र प्रसाद आचार्य पर भी भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं. और आरोप लगाए हैं अयोध्या के चौबुर्जी मंदिर के महंत बृज मोहन दास ने. उन्होंने कहा है कि लैंड रिकार्ड्स में यह जमीन दशकों से बृजमोहन दास के गुरुओं के नाम रही. ये जमीन नजूल की है और सरकारी है. देवेंद्र प्रसाद आचार्य कभी इसके मालिक हुए ही नहीं.

अब इस मामले में अयोध्या के मेयर ऋषिकेश उपाध्याय ने कहा है कि पूरा जवाब 1-2 दिनों में क़ानूनी तौर पर देंगे. ज़मीन के विक्रेताओं से सीधे मिलने से इंकार किया और अपने भतीजे की बात पर चुप्पी साध गए.

दूसरी तरफ जिस हरीश पाठक और कुसुम पाठक के ओर से ट्रस्ट को 18.5 करोड़ और 8 करोड़ की ज़मीन बेची गयी, वो भी पुलिस की लिस्ट में भगोड़ा अपराधी निकला. ऐसे में ट्रस्ट पर सवाल उठाए जा रहे हैं कि क्या ट्रस्ट ने अपनी ओर से कोई सत्यापन नहीं किया?

विपक्षी दलों ने बीजेपी को घेरा

पूरे मामले पर राजनीति भी शुरू हो चुकी है. आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा है कि करोड़ों रामभक्त मंदिर के लिए दान कर रहे है और भाजपा के नेता 13 गुना माल कमा रहे हैं. भाजपा के नेता चंदा चोरी कर रहे हैं. इसलिए राम मंदिर का निर्माण नही हो पा रहा है.

कांग्रेस के महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी केंद्र सरकार और राज्य सरकार से इस मसले पर पांच सवाल पूछे हैं.

1. क्या कारण है कि भगवान श्रीराम के मंदिर निर्माण के चंदे की खुली लूट करने वाले पापियों के खिलाफ कोई भी कार्यवाही करने बारे मोदी – आदित्यनाथ जी पूरी तरह से चुप हैं?
2. क्या पीएम-सीएम देश को बताएंगे कि 79 दिनों में जमीन की कीमत 12 सौ 50 प्रतिशत कैसे बढ़ी?
3. जब भाजपा सरकार द्वारा भूमि की कीमत मात्र 4 हज़ार रु. प्रति वर्गमीटर आंकी गई, तो फिर राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट ने इसे 28 हज़ार 090 रु. प्रतिवर्ग मीटर में क्यों खरीदा?
4. क्या भाजपा नेता राम मंदिर निर्माण के लिए इकट्ठे किए गए चंदे को चूना लगा, मुनाफे की लूट में लगे हैं?
5. श्री राम मंदिर निर्माण के लिए दिए गए हजारों करोड़ के चंदे में कितनी और रजिस्ट्रियों में खुली लूटपाट हुई है? क्या सुप्रीम कोर्ट के तत्वाधान में पूरे मामले की जाँच व पैसे के लेनदेन का ऑडिट कर सारे तथ्य देशवासियों के समक्ष नहीं रखे जाने चाहिए?

और बात यहीं नहीं टिकती है. अयोध्या में संत समाज की बैठक हुई और बैठक में ये मुद्दा उठा. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के पूर्व अध्यक्ष महंत ज्ञान दास जी के अध्यक्षता में संतों की बैठक हो रही थी तो रघुवंश संकल्प सेवा ट्रस्ट के अध्यक्ष स्वामी दिलीप दास ने इस मुद्दे को उठाया. उन्होंने कहा,

“जिस राम के साथ यह विश्वासघात कर रहे हैं, वह राजा राम या योद्धा राम नहीं हैं. वह युवा राम नहीं है, वह बालक राम हैं. अबोध राम है, जो बोल नहीं सकता. लेकिन जिसको बच्चे की परवरिश की जिम्मेदारी मिली, उसकी ही जन्मभूमि पर नियत खराब हो गई हो, वह बच्चे के भविष्य के साथ क्या कर सकता है. इसका निर्णय आप स्वयं करें.”

इसी मीटिंग में इस पूरे मामले की एक हाई लेवल की जांच का प्रस्ताव भी सामने आया.

इस पूरे मसले पर रामजन्मभूमि ट्रस्ट और पदाधिकारियों का क्या कहना है?

ट्रस्ट ने अपनी वेबसाइट पर ज़मीन की ख़रीद फ़रोख़्त का ब्यौरा डाला है. लेकिन जिन दो नयी ज़मीनों की हम बात कर रहे हैं, उनका ब्यौरा नहीं उपलब्ध है. और ताज़े आरोपों को ट्रस्ट के पदाधिकारियों ने चुनावी और राजनीति से प्रेरित बताया है. ‘पत्रिका’ में छपी 20 जून 2021 की खबर के मुताबिक़, ट्रस्टी कामेश्वर चौपाल ने कहा है कि 2022 में यूपी में विधानसभा चुनाव हैं, इसलिए सभी विपक्षी पार्टियों की संयुक्त बैठक में भाजपा को घेरने की रणनीति बनी. ये आरोप इसी साज़िश का हिस्सा है. ट्रस्ट ने कहा है कि जनवरी महीने में ट्रस्ट की बैठक में वास्तुशास्त्रियों ने मंदिर की परिकल्पना दोषपूर्ण बतायी थी. परकोटा और ख़ाली जगह की ज़रूरत थी. इसलिए और ज़मीन ख़रीदने का निर्णय हुआ.

सवाल तो हैं कि मेयर और मेयर के भतीजे की संलिप्तता क्या है? मीडिया रिपोर्ट्स अगर सही हैं तो सर्किल रेट से कम और ज़्यादा दाम पर ख़रीद फ़रोख़्त कैसे हुई, ये भी साफ़ होना चाहिए. क्योंकि ये पैसा राम मंदिर के निर्माण के लिए लोगों द्वारा दिया गया चंदा है. ऐसे में पारदर्शिता दरकार होना कहीं से ग़लत नहीं है.


विडियो- अयोध्या ज़मीन विवाद के बीच पत्रकार ने चंपत राय का नाम ज़मीन घोटाले में लिया, FIR दर्ज

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

जिन मीम्स को सोशल मीडिया पर शेयर कर चौड़े होते हैं, उनका इतिहास तो जान लीजिए

कौन सा था वो पहला मीम जो इत्तेफाक से दुनिया में आया?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

पार्टियों को चुनाव निशान के आधार पर पहचानते हैं आप?

चुनावी माहौल में क्विज़ खेलिए और बताइए कितना स्कोर हुआ.

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

लगातार दो फिफ्टी मारने वाले कोहली ने अब कहां झंडे गाड़ दिए?

राहुल के साथ यहां भी गड़बड़ हो गई.

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

रोहित शेट्टी के ऊपर ऐसी कड़क Quiz और कहां पाओगे?

14 मार्च को बड्डे होता है. ये तो सब जानते हैं, और क्या जानते हो आके बताओ. अरे आओ तो.

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

आमिर पर अगर ये क्विज़ नहीं खेला तो दोगुना लगान देना पड़ेगा

म्हारा आमिर, सारुक-सलमान से कम है के?

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

परफेक्शनिस्ट आमिर पर क्विज़ खेलो और साबित करो कितने जाबड़ फैन हो

आज आमिर खान का हैप्पी बड्डे है. कित्ता मालूम है उनके बारे में?