Submit your post

Follow Us

प्रिय इंग्लैंड, पिच पर लघुशंका करने वालों को संभालिए किंग कोहली को हम देख लेंगे

नैतिक. मोरल. अख़लाक़ी. भाषाएं अनेक और मतलब सिर्फ एक- पहले से तय नियमों के मुताबिक आचरण करना. यानी जो तय हो चुका है उस पर अक्षरशः खरा उतर कर दिखाना. ये नैतिकता का तकाज़ा है कि आप परिपाटी ना बदलें. रैंचो के पापा श्यामलदास छांछड़ की भाषा में कहें तो, ‘जैसा चल रहा है वैसा चलने दें.’ लेकिन इस नैतिकता की एक अजब कहानी है. ये हम अक्सर सामने वाले के पास ही देखना चाहते हैं.

मतलब हम चाहे जैसे हों, हमारा प्रतिद्वंद्वी हमें नैतिक चाहिए. सारे नियम-कायदे मानने वाला जेंटलमैन. और क्रिकेट को तो शुरुआत से ही जेंटलमेन्स गेम कहा जाता है. पहले मुझे लगता था कि ऐसे इसलिए होगा क्योंकि इसमें पूरे कपड़े पहनकर खेलते हैं. लेकिन फिर टोनी कक्कड़ आए और उन्होंने धीमे-धीमे-धीमे-धीमे समझाया कि क्रिकेट को जेंटलमेन्स गेम कहने के पीछे कई सारी वजहें हैं.

# Moral High Ground & Barmy Army

अब वजहें हैं तो रहने दीजिए. उन पर फिर कभी बात करेंगे. अभी बात नैतिकता या नैतिक उच्च भूमि, अरे वही मोरल हाई ग्राउंड पर. जिसकी आड़ लेकर ऑलमोस्ट पूरा इंग्लैंड हमारी क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली पर हमलावर है. इंग्लिश फ़ैन्स, पत्रकार, पूर्व क्रिकेटर… सभी लोग कोहली की आलोचना कर रहे हैं. उन्हें स्तरहीन बता रहे हैं. और इसने प्रेरित होकर औपनिवेशिक मानसिकता से पीड़ित कुछ भारतीय भी अपने ही कप्तान को भला-बुरा बोल रहे हैं.

और कोहली से जुड़ी इनकी तमाम समस्याओं में सबसे ताजा है कोहली का ट्रम्पेट सेलिब्रेशन. ट्रम्पेट मतलब वही तुरही जो अक्सर युद्ध या फिर मंगल अवसरों पर बजाई जाती है. लेकिन क्रिकेट की दुनिया में ये जुड़ी है बार्मी आर्मी से. वही बार्मी आर्मी जिसे 1994-95 की एशेज सीरीज के दौरान कुछ सरफिरों ने शुरू किया था, और अब ये एक लिमिटेड कंपनी है.

सरफिरा सुनकर बमकिए मत, बार्मी अंग्रेजी भाषा में Crazy या Mad के लिए यूज होने वाला एक स्लैंग है. ऑक्सफोर्ड के मुताबिक स्लैंग का अर्थ‘बहुत अनौपचारिक शब्‍द और मुहावरे जो बोलचाल की भाषा में अधिक प्रयुक्त होते हैं’ होता है.

हां तो ये बार्मी आर्मी मैचों के दौरान भरपूर बियर पीकर शोर मचाने, विपक्षी प्लेयर्स को किसी भी हद तक जाकर परेशान करने और अपनी तुरहीबाजी के लिए प्रसिद्ध है. और इंग्लैंड की हर सीरीज में उपस्थित रहने वाले ये फ़ैन्स क्रिकेटर्स के साथ मैदान में मौजूद कॉमेंटेटर्स और साथी फ़ैन्स तक को इरीटेट करने के मास्टर माने जाते हैं. इनका ध्येय वाक्य ‘क्रिकेट देखने को और मनोरंजक और बहुत ज्यादा पॉपुलर बनाना’ है.’

और अपनी इस कोशिशों के तहत सालों पहले ये पूर्व ऑस्ट्रेलियन पेसर मिशेल जॉनसन को डिप्रेशन तक भेज चुके हैं. साल 2009 के लॉर्ड्स टेस्ट में जॉनसन पूरी कोशिश करके भी अपनी लय में नहीं आ पा रहे थे. और इसके बाद बार्मी आर्मी ने उनके लिए जो गाना लिखा, वो गाना जॉनसन के बचे हुए पूरे करियर में उन्हें नीचा दिखाता रहा. अगली एशेज में जॉनसन गाबा में खूब पिटे और टीम से बाहर हो गए. और इन सबके बीच बार्मी आर्मी के उस गाने ने जॉनसन को मेंटली बहुत परेशान किया. इस मामले में उन्होंने फॉक्स के साथ एक इंटरव्यू में कहा था,

‘2009 की एशेज सीरीज प्लान के मुताबिक नहीं गई. मैंने गेंदें इधर-उधर फेंकी. और उसी वक्त बार्मी आर्मी ने वो गाना बना दिया. मीडिया, बार्मी आर्मी सब मुझ पर चढ़ गए. खेलते वक्त मेरे दिमाग में वही गाना बजता रहता था. और इमोशनली इसने मुझे पर बहुत गहरा प्रभाव डाला, और मैं टूट सा गया.’

बार्मी-आर्मी के ऐसे तमाम कुख्यात कांड हैं. जिनमें ये लोग नैतिकता को दूसरे कॉन्टिनेंट में प्रवाहित कर स्टैंड से क्रिकेट के मजे लेते हैं. एक लाइन में कहना हो तो बार्मी-आर्मी ऐसे लोगों का समूह है जो दुनियाभर को ठेंगे पर रख खुद के मजे को प्राथमिकता देते हैं. तो इन्हें तो मोरल हाई ग्राउंड लेना सूट नहीं करता. और इन्होंने लिया भी नहीं, ब्रावो! अभिनंदन.

# Former English Cricketers

माइकल वॉन नाम के आधे भारतीय को छोड़ दें तो कई पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर्स भी कोहली से गुस्सा हैं. उनका मानना है कि जेंटलमेंस गेम में कोहली जैसों की जगह नहीं है. क्योंकि ये Classless हैं. अद्भुत विवेचना ब्रो. मतलब अब मैदान के अंदर पैशन दिखाने वाले लोग क्लासहीन माने जाएंगे. क्योंकि वो तथाकथित एलीट लोगों की तरह मुंह पर हाथ रखकर नहीं हंसते और ना ही आधी रात को दारू पीकर बार में हंगामा काटते हैं.

मेरे प्यारे अंग्रेज क्रिकेटरों, यहां आपका ध्यान एक लोकोक्ति की ओर ध्यान आकर्षित कराना चाहूंगा.

‘wear one’s heart on one’s sleeve’
बोले तो अपनी भावनाएं छिपाने की जगह खुलकर जाहिर करना. और जैसा कि मशहूर लेखक और अमेरिकी पादरी चार्ल्स स्विंडॉल ने भी कहा है,
‘Life is 10% what happens to you and 90% how you react to it.’

उप-महाद्वीप की भाषा हिंदी में कहें तो, जीवन 10 परसेंट आपके साथ घटी घटना और 90 परसेंट उस घटना पर आपका रिएक्शन है. यानी रिएक्शन इज इम्पॉर्टेंट. घटना है ये इम्पॉर्टेंट नहीं है, हमारा रिएक्शन क्या है, वो इम्पॉर्टेंट है. और जब हमारा कप्तान बिना हिंसक या बेहूदा हुए अपनी भावना जता रहा है या रिएक्ट कर रहा है, तो आपको समस्या क्या है?

स्पोर्ट्स इज ऑल अबाउट इमोशंस. देखने वाले हर विकेट और हर बाउंड्री पर सीट से उछलते हैं तो उस घटना में शामिल रहे लोग कैसे खुद को रिएक्ट करने से रोकें? जाहिर है कि आपका रिएक्शन मर्यादा के अंदर होना चाहिए. लेकिन सवाल वही है कि ये मर्यादा कौन तय करेगा? मुट्ठी भर अंग्रेज? जिनके प्लेयर जीत का जश्न पिच पर लघुशंका करके मनाते हैं?

या वो अंग्रेज खेल पत्रकार जिनके अंदर दुनिया भर का सेक्सिज्म, रेसिज्म और बेहूदगी भरी है जो आए दिन सामने आती ही रहती है. जिनके लेखों में सचिन भी सर्वकालिक महान नहीं हो पाए. या फिर वो फैन जो अपनी टीम के हारने के बाद सामने वाली टीम के फ़ैन्स के साथ मारपीट करते हैं? जाहिर तौर पर ऐसा नहीं है कि सारे अंग्रेज पत्रकार या क्रिकेटर ऐसे ही हैं. लेकिन एक बात तो यह है कि इस आबादी का एक बड़ा हिस्सा आज भी श्रेष्ठताबोध से घिरा है. उनके लिए फ्लिंटॉफ का टी-शर्ट उतारना पैशन है और गांगुली द्वारा उसका जवाब देना अपमान.

वो भूल जाते हैं कि उनके ही पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल ने कहा था,

‘कुछ लोगों के लिए फ्री स्पीच का मतलब यह है कि वे अपनी मनमर्जी से कुछ भी कहने के लिए स्वतंत्र हैं, लेकिन अगर कोई पलटकर कुछ भी कह दे, तो वह बेहूदगी हो जाती है.’

और कोहली निश्चित तौर पर यहां सिर्फ पलटकर जवाब दे रहे थे. वो भी बिना किसी अग्रेशन या बेहूदगी के. अपनी तुरहीबाजी के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध बार्मी आर्मी को उनकी ही भाषा में सरस जवाब देने में क्या गलत है? आप इंटेलेक्चुअल लोगों से अच्छे तो ये तुरहीबाज निकले, जिन्होंने कोहली के पलट सेलिब्रेशन को फुल स्पोर्टी लिया. और अगले मैच की तैयारी में लग गए. अब आप लोगों को भी अगर आंख बंद कर ज्ञान बांटने से फुर्सत मिल गई हो, तो आप भी दर्दनिवारक मलिए, काम पर चलिए.


इंग्लैंड के फ़ैन्स ‘बार्मी आर्मी’ को विराट का ये सेलिब्रेशन क्यों चुभ रहा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.