Submit your post

Follow Us

सूरजकुंड मेले की वो जापानी औरत!

Umesh Pant‘दी लल्लनटॉप’ के रीडर उमेश पंत सूरजकुंड मेले से लौटकर आए हैं, पर खुमार अभी उतरा नहीं है. कलाकारों के सृजन को वह दुनिया के बेहतरी से जोड़कर देखते हैं. इस मेले पर एक खूबसूरत वीडियो कोलाज भी उन्होंने बनाया है.


मेरे घर की दीवारों पर अब राजस्थान की कुछ कठपुतलियां मुस्कुरा रही हैं. दक्षिण भारत की कुछ लकड़ी की चिड़ियाएं मूक चहचहा रही हैं. कुछ रंग-बिरंगे कागज़ के सिपाही मेरी दीवार से मुझे लिखता हुआ देख जाने क्या सोच रहे हैं. और वो एक जापानी मुस्कराहट मेरी आंखों के सामने अब भी नाच रही है.

सूरजकुंड मेले से लौटे दो दिन हो गए हैं पर कुछ है जो भीतर रह गया है. ‘देश की विविधता’ नाम की ये चीज़ जब राजनीतिक शब्दावलियों में प्रयोग होती है तो उसमें जाति, धर्म और न जाने कितने अलगाववादी विचार जुड़ जाते हैं. लेकिन यही शब्दावली जब कला का रूप ले लेती है तो न जाने कितने रंग बिखेर देती है दुनिया में और दुनिया पहले से ज़्यादा खूबसूरत नज़र आने लगती है.

सूरजकुंड के मेले में देश ही नहीं दुनिया के न जाने कितने रंग बिखरे हुए थे. और उन्हीं के बीच में थी सुंदर आंखों वाली वो जापानी महिला.

जापान की वो महिला एक छोटे से स्टाल में बैठी अपनी भाषा में कुछ लिख रही थी, लोग उसके इर्द-गिर्द जमा होते और वो उनमें से किसी को भी बुला लेती और उसे अपनी भाषा सिखाने लगती. कागज़ पर एक ब्रश से उतरते वो काले अक्षर एकदम भावहीन थे लेकिन उन्हें लिखना सिखाती उस औरत की देहभाषा को मैं अपने कैमरे से पकड़ने की कोशिश कर रहा था.

Surajkund (2)

60 साल से ऊपर की वो औरत अपनी भाषा से कितना प्यार करती थी ये ब्रश के एक-एक स्ट्रोक पर ध्यानमग्न होकर निगाहें जमाए उस औरत के चेहरे के बदलते भावों को देखकर पता लग रहा था. और कोई जब उसकी भाषा को उस काले रंग के ज़रिये ठीक ठीक पकड़ लेता तो वो इतनी खुश हो जाती कि तालियां बजाने लगती.

कॉन्गो से आया वो शख्स भीड़ के किसी हिस्से में थिरकता, मुस्कुराता और लोगों के साथ फोटो खिंचाता. एक बायस्कोप वाला खुद मेले को बायस्कोप में दिखती चीजों की तरह देखता, बच्चों को बायस्कोप की दुनिया से रूबरू कराता. सैकड़ों कलाकार थे उस मेले में जिनके बनाए खिलौने, चित्र, स्केच, और रोजमर्रा के इस्तेमाल की चीजें देखकर लगता था कि अनजान सी जगहों पर बैठे अजनबी लोग कितना कुछ रच रहे होते हैं, और यह रचा जाना ही तो है जो दुनिया को बेहतर बनाता है.

मेले के उस रंग को कैद करने का प्रयास करता ये वीडियो कोलाज देखिएगा. ये भी कमाल है कि कैमरे में कैद हो गई चीजें कई बार हमें आज़ाद करने में मदद करती हैं.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?