Submit your post

Follow Us

योगी आदित्यनाथ के ये चाचा न होते, तो वो सीएम न बनते

अजय सिंह बिष्ट. योगी आदित्यनाथ बने. वाया गोरखनाथ पीठ. मगर इस पीठ में तो हजारों संन्यासी हैं. फिर महंत अवैद्यनाथ ने आदित्यनाथ को ही अपना उत्तराधिकारी क्यों चुना. पहले मठ की गद्दी का वारिस बनाया और फिर चार साल में ही लोकसभा की अपनी सीट दे दी. ये सिर्फ योग्य युवा के पक्ष में लिया फैसला था या इसमें रिश्तेदारी का भी एंगल था.

शुरुआत करते हैं 23 साल पीछे से. साल 1994. ऋषिकेश का ललित मोहन शर्मा पीजी कॉलेज. यहीं पर मैथ्स में एमएससी कर रहे थे अजय. साथ में पिता आनंद सिंह का ट्रांसपोर्ट का काम भी संभाल रहे थे. साल 1986 में वन विभाग की नौकरी छोड़ने के बाद आनंद ने तीन बसें और एक ट्रक बना लिया था. सब ठीक चल रहा था. लेकिन फिर पिता को अजय की खोज खबर मिलनी बंद हो गई. कुछ महीनों बाद पता चला कि अजय गोरखपुर में है. और अब वह अजय नहीं रहा. योगी बन गया है. और उसे योगी बनाया है महंत अवैद्यनाथ ने. जो खुद आनंद के ममेरे भाई थे.

 

महंत अवैद्यनाथ
महंत अवैद्यनाथ

 

अजय से पहले कृपाल की कहानी

महंत अवैद्यनाथ. बचपन का नाम कृपाल सिंह बिष्ट. जन्म 28 मई, 1921. माता-पिता का जल्दी देहांत हो गया. और फिर कृपाल ने घर छोड़ दिया. घर जो गांव में था. कांदी नाम था गांव का. गांव ने कृपाल को याद किया. उसके जाने के दशकों बाद. अपने स्वार्थ के लिए. क्योंकि कांदी का कृपाल अब महंत अवैद्यनाथ बन गया था. माननीय विधायक, मणिराम विधानसभा. गांव वाले पहुंच गए और अपने यहां पानी की खराब स्थिति का रोना रोने लगे. महंत अवैद्यनाथ ने उन्हें 40 हजार रुपये की मदद दी. इसके बाद अवैद्यनाथ का अपने गांव और इलाके से नए सिरे से संबंध बना.

कृपाल का अजय कनेक्शन

कांदी के पास ही था पंचूर गांव. जहां रहते थे आनंद सिंह बिष्ट. आदित्यनाथ के पिता. जो रिश्ते में अवैद्यनाथ के मामा के लड़के थे. और सरल ढंग से समझें. आनंद सिंह के पिता यानी आदित्यनाथ के बाबा की बहन के बेटे थे अवैद्यनाथ. उस हिसाब से गोरखपुर के महंत अजय सिंह बिष्ट के चाचा हुए. और इन्हीं महंत चाचा के संसर्ग में अजय सिंह बिष्ट आए ग्रेजुएशन के दिनों में. और फिर पीजी अधूरा छोड़ उनके पास चले गए. उसी साल अवैद्यनाथ ने उन्हें अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया.

 

सरकार ने महंत अवैद्यनाथ पर 2015 में डाक टिकट जारी किया था
सरकार ने महंत अवैद्यनाथ पर 2015 में डाक टिकट जारी किया था

 

ये सब अचानक नहीं हुआ. नब्बे के दशक की शुरुआत में अवैद्यनाथ अपनी हिंदू महासभा वाली टेक छोड़ बीजेपी में आ चुके थे. बीजेपी ने भी उन्हें राम जन्मभूमि का एक अहम चेहरा बनाने से गुरेज नहीं किया. नतीजतन 1989 में वह हिंदू महासभा से गोरखपुर सांसद बने, मगर दो ही साल बाद 1991 में बीजेपी के टिकट पर चुने गए. इस दौरान वह देश के कई इलाकों में प्रवचन और मंदिर आंदोलन के प्रचार के लिए जाते. उत्तराखंड में उनके कई कार्यक्रम चलते. जाहिर सी वजहों से. और इन्हें पर्दे के पीछे से संघ करवाता. उन दिनों ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रहे अजय सिंह बिष्ट इन सबमें खूब सक्रिय रहते. और यहीं से उनका महंत चाचा से स्नेह बढ़ता गया. अवैद्यनाथ को भी उनमें अपना वारिस नजर आया.

संन्यास के फौरन बाद महंत ने अजय से लगातार कहा. अपने माता-पिता को खत लिखकर संन्यास के बारे में सूचित करो. पर उन्होंने ऐसा नहीं किया. चिट्ठी लिखते, मगर पोस्ट नहीं करते. लेकिन आनंद सिंह और उनकी पत्नी सावित्री देवी को इस बारे में पता चल गया था. वह मठ पहुंचे. महंत से मिले. बेटे को देखा और लौट आए. और फिर लौटकर आज तक नहीं गए हैं. बेटे से मिलते तो अभी भी हैं, मगर दिल्ली वगैरह में. मठ नहीं जाते. उधर अजय भी संन्यासी बनने के चार साल बाद घर लौटे. मगर संन्यास के ही एक विधान के कारण.

 

22 जुलाई 2016 को प्रधानमंत्री मोदी ने महंत अवैद्यनाथ की मूर्ति का अनावरण किया. साथ में हैं योगी आदित्यनाथ. (फोटोःनरेंद्र मोदी डॉट इन)
22 जुलाई 2016 को प्रधानमंत्री मोदी ने महंत अवैद्यनाथ की मूर्ति का अनावरण किया. साथ में हैं योगी आदित्यनाथ. (फोटोःनरेंद्र मोदी डॉट इन)

 

बेटा रोया, मां रोई

आदित्याथ को लौटकर घर आना था. संन्यासी बनने की एक जरूरी प्रक्रिया के पालन के लिए. जिसके तहत किसी भी संन्यासी को भिक्षुक बनने पर अपनी माता से पहली भिक्षा मांगनी पड़ती है. तभी उसका संन्यास सही मायनों में शुरू माना जाता है. और ये हुआ साल 1998 में. तब तक योगी आदित्यनाथ सांसद बन चुके थे. वह घर आए. साथ में उनके गुरु महंत अवैद्यनाथ थे. माता ने भिक्षा दी. फल, चावल और रुपए. और फिर जोर-जोर से रोनी लगीं. योगी भी रोने लगे. ये सब ब्यौरे उनकी बहन शशी ने एक मैगजीन से बात करते हुए बताए. उनके मुताबिक इसके बाद सब बदल गया. अब उनसे बड़े भाई बहन भी उन्हें महाराज जी कहते हैं. सब उनके पैर छूते हैं. बस माता-पिता को छोड़कर.

योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने की अंदर की कहानी यहां देखेंः


ये भी पढ़ेंः

योगी आदित्यनाथ का तिलिस्म महीन धागे का बना है, कभी भी टूट जाएगा

पुलिस में सुधार चाहते हैं योगी, तो मुल्ला की बात मान लें

जो महज़ 26 साल की उम्र में सांसद बने, अब वो यूपी के सीएम बने

योगी आदित्यनाथ के बारे में वो पांच बातें, जो राजनीतिक नहीं हैं

मिलिए यूपी के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सभी मंत्रियों से

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

क्विज़: नुसरत फतेह अली खान को दिल से सुना है, तो इन सवालों का जवाब दो

आज बड्डे है.

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

ये क्विज जीत नहीं पाए तो तुम्हारा बचपन बेकार गया

आज कार्टून नेटवर्क का हैपी बड्डे है.

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

रणबीर कपूर की मम्मी उन्हें किस नाम से बुलाती हैं?

आज यानी 28 सितंबर को उनका जन्मदिन होता है. खेलिए क्विज.

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

करीना कपूर के फैन हो तो इ वाला क्विज खेल के दिखाओ जरा

बेबो वो बेबो. क्विज उसकी खेलो. सवाल हम लिख लाए. गलत जवाब देकर डांट झेलो.

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

रवनीत सिंह बिट्टू, कांग्रेस का वो सांसद जिसने एक केंद्रीय मंत्री के इस्तीफे का प्लॉट तैयार कर दिया!

17 सितंबर को किसानों के मुद्दे पर बिट्टू ऐसा बोल गए कि सियासत में हलचल मच गई.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो उनको कितना जानते हो मितरों

अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

KBC में करोड़पति बनाने वाले इन सवालों का जवाब जानते हो कि नहीं, यहां चेक कर लो

करोड़पति बनने का हुनर चेक कल्लो.

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

विधायक विजय मिश्रा, जिन्हें यूपी पुलिस लाने लगी तो बेटियां बोलीं- गाड़ी नहीं पलटनी चाहिए

चलिए, विधायक जी की कन्नी-काटी जानते हैं.

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

नेशनल हैंडलूम डे: और ये है चित्र देखो, साड़ी पहचानो वाली क्विज

कभी सोचा नहीं होगा कि लल्लन साड़ियों पर भी क्विज बना सकता है. खेलो औऱ स्कोर करो.