Submit your post

Follow Us

वो कविता जिसके जरिए नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधा

गुरुवार को बजट सत्र का और 16वीं का आखिरी दिन था. संसद की रवायत है कि सत्र के आखिरी दिन प्रधानमंत्री धन्यवाद भाषण देता है. नरेंद्र मोदी गुरुवार को इसी रस्म को निभा रहे थे. उन्होंने पौने दो घंटे का मैराथन भाषण दिया. उनके भाषण से ठीक पहले कांग्रेस संसदीय दल के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे का भाषण हुआ. इस भाषण में उन्होंने सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की कविता का एक हिस्सा पढ़ा जोकि इस तरह था-

“ये हुस्न ओ आब तो ठीक है लेकिन,

गुरुर क्यूं तुमको इस पर है 

मैंने सूरज को हर शाम इसी,

आसमां में ढ़लते देखा है”

इसके जवाब में नरेंद्र मोदी ने इस कविता का दूसरा हिस्सा पढ़ा, जोकि इस तरह था-

 

“जब कभी झूठ की बस्ती में,

सच को तड़पते देखा है ,

तब मैंने अपने भीतर किसी,

बच्चे को सिसकते देखा है”

संसद में चल रहे इस साहित्यिक हमले और जवाबी हमले के बीच हमने सोचा कि क्यों ना पूरी कविता आपको पढ़ा दी जाए. नज़र-ए-करम अता कीजिएगा-

 

‘जब कभी झूठ की बस्ती में, सच को तड़पते देखा है तब मैंने अपने भीतर किसी, बच्चे को सिसकते देखा है

माना तू सबसे आगे है, मगर न बैठ यहां अभी जाना है मैंने दो चार कदम पर मंजिल से, लोगों को भटकते देखा है

धन, दौलत, रिश्ते, शोहरत, मेरी जान भी कोई चीज नहीं मैंने इश्क की खातिर ख़ुल्द से भी, आदम को निकलते देखा है

ये हुस्न ओ आब तो ठीक है लेकिन, गुरुर क्यूं तुमको इस पर है मैंने सूरज को हर शाम इसी, आसमां में ढ़लते देखा है

अपने घर की चारदिवारी में, अब लिहाफ में भी सिहरन होती है जिस दिन से किसी को ग़ुर्बत में, सड़कों पर ठिठुरते देखा है

पहले छोटी छोटी खुशियों को, सब मिल कर साथ मनाते थे अब छोटे छोटे आंगन में, रिश्तों को सिमटते देखा है

तुम आज भी मेरे अपने हो, शायद इंसान हो और जमाने के वरना मौसमों से पहले हमने, अपनों को बदलते देखा है

किस बात पे तू इतराता है, यहां वक्त से बड़ा तो कुछ भी नहीं कभी तारों से जगमग आसमां में, सितारों को टूटते देखा है’

 

जाते-जाते एक और जानकारी देनी थी. सर्वेश्वर दयाल सक्सेना की एक कविता का एक हिस्से का इस्तेमाल गुलजार ने भी किया था. कविता का नाम था , ‘बतूता का जूता’. इसी कविता के एक हिस्से को लेकर गुलज़ार ने इश्किया का गाना लिखा, “इब्ने बतूता, बगल में जूता.” यह कविता हम जल्द ही आपको एक कविता रोज में पढाएंगे. फिलहाल इसका एक हिस्सा आपकी जिज्ञासा शांत करने लिए यहां पसारकर जा रहे हैं.

 

“इब्नबतूता पहन के जूता
निकल पड़े तूफान में
थोड़ी हवा नाक में घुस गई
घुस गई थोड़ी कान में”


जॉर्ज फर्नांडिस की जिंदगी में क्यों लौट आईं लैला कबीर?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?