Submit your post

Follow Us

जब फैंस बोले- माराडोना का गलती से हाथ ज़रूर लगा पर गोल तो ईश्वर ने किया था

आज ही का दिन था. 22 जून, 1986. ठीक 34 साल पहले. फ़ीफ़ा वर्ल्ड कप का क्वॉर्टर-फाइनल हुआ था, अर्जेंटीना और इंग्लैंड के बीच में. और इसी मैच में फुटबॉल के इतिहास का सबसे बदनाम गोल मारा गया. सबसे दैवीय भी. गोल करनेवाले खिलाड़ी थे अर्जेंटीना के स्टार माराडोना.

1982 के बाद अपने दूसरे फ़ीफ़ा वर्ल्ड कप में माराडोना पहले ही छा चुके थे. इंग्लैंड के खिलाफ इस मैच में भी दोनों गोल माराडोना ने ही किए थे. उनके कमाल खेल की वजह से इस मैच में अर्जेंटीना 2-1 से इंग्लैंड को हरा कर आगे बढ़ी. इसी क्वॉर्टर-फाइनल मैच में माराडोना ने जो दूसरा गोल किया वो ऐतिहासिक बन गया था. इसलिए नहीं कि वो गोल कमाल का था, बल्कि इसलिए कि वो गोल ‘साक्षात भगवान ने’ किया था. हां, यही सच है. माराडोना का तो बस बायां हाथ गलती से लग गया था.

हुआ ये था कि सेकंड हाफ में जब 6 मिनट रह गए थे, तब माराडोना लेफ़्ट साइड की कमान संभाले हुए थे. वो दौड़ते हुए अन्दर आए. गेंद तक पहुंचे. और एकदम आड़ा शॉट मारा. होर्गे वेल्डैनो की ओर. ये पास एक नीचा पास था.

माराडोना यहीं रुके नहीं थे. उनके दिमाग में एक अलग ही खेल चल रहा था. शतरंज की माफ़िक. वो अगली तीन-चार चालें सोच चुके थे. वो दौड़ते रहे. गेंद अभी कहीं और थी, और वो कहीं और. वन-टू मूवमेंट की चाह में वो बस गेंद देखते हुए आगे बढ़ गए थे. माराडोना का नीचा पास वेल्डैनो के कुछ पीछे ही था, लेकिन वो इंग्लैण्ड के स्टीव हॉज के पास पहुंच गया. स्टीव लेफ़्ट साइड में मिडफील्डर थे जो डिफेंड करने आ खड़े थे.

इंग्लैंड के लेफ्ट मिडफील्डर स्टीव हॉज ने पूरी कोशिश की बॉल को वहीं रोक लेने की. लेकिन बॉल निकल कर पेनल्टी एरिया की तरफ बढ़ गई. माराडोना तो इसी फ़िराक में थे, और दौड़ते हुए उधर ही बढ़ रहे थे. इंग्लैंड के गोलकीपर पीटर शिल्टन बाहर निकल कर चले आए और बॉल को गोल होने की पहुंच से बाहर करने की कोशिश की. 6 फुट 1 इंच के शिल्टन से माराडोना करीब आठ इंच छोटे थे. तब भी गज़ब की फुर्ती दिखाते हुए वे बॉल के पास पहुंच गए. माराडोना के बाएं हाथ से बॉल लगी और उड़ते हुए गोल में चली गई. माराडोना के साथी थोड़ी सोच में पड़ गए, लेकिन माराडोना जश्न मनाना शुरू कर चुके थे.

रीप्ले में दिखता है कि बॉल माराडोना के हाथ से ही लग कर गई थी. मैच के रेफरी थे अली बिन नेस्सेर. उन्होंने बाद में कहा कि वो देख ही नहीं पाए थे कि बॉल हाथ से लगी थी, इसलिए उन्होंने कोई ऐतराज़ नहीं जताया.

इस गोल को याद करते हुए माराडोना थोड़ा शर्माते हुए कहते हैं कि इस गोल में थोड़ा सा माराडोना का सर था और ‘बाकी थोड़ा सा ऊपर वाले का हाथ था’. तब से इस पूरी घटना को ‘हैण्ड ऑफ़ गॉड’ गोल का नाम मिल गया.

2005 में माराडोना ने टीवी पर ईमानदारी से बताया कि बॉल तो उनके सर से लगी ही नहीं थी. उन्होंने जानबूझ कर अपना बायां हाथ लगा दिया था, जिससे वो गोल हो सका था. और उन्हें तुरंत पता चल चुका था कि वो गोल वैलिड नहीं था.

खैर जो भी हो. गोल तो हो गया. अर्जेंटीना वो मैच भी जीत गई. फिर फाइनल भी जीत गई. जब फ़ीफ़ा वर्ल्ड कप जीत गई तो ‘हैण्ड ऑफ़ गॉड’ का मामला भी रफ़ा दफ़ा ही समझो. और फिर जैसा कहे जाने की परम्परा है, माराडोना का नाम इतिहास के पन्नों में स्वर्णाक्षरों में शामिल हो गया. अब चाहे वो सोना थोड़ी झूठ की परत वाला ही क्यों ना हो.


ये स्टोरी पारुल तिवारी ने लिखी है. पारुल ‘दी लल्लनटॉप’ के साथ इंटर्नशिप कर रही थीं. 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020