Submit your post

Follow Us

'आजा आजा गिव मी अ किस' मजरूह ने किस कलम से लिखा होगा

984
शेयर्स

मेरा माइक्रोमैक्स वाला दोस्त कहता है, पैसा हाथ का मैल है. आईफोन वाला दोस्त कभी ये नहीं कहता. इसीलिए वो आईफोन वाला है. पैसे की बड़ी अहमियत है साहब इस दुनिया में. इसे जानने के लिए दुनिया के बड़े लेखकों का साहित्य न पढ़ो. बस उनका लाइफ स्टाइल देख लो.

आदमी को इसके लिए क्या क्या करना पड़ता है. ये तब समझ में आया जब दारा सिंह को घाघरा चोली पहन नाचते देखा. पहलवान फिलिम लाइन में आया तो फिल्मकार उसका मनमाना यूज करने लगे. उसी तरह एक बड़े मारके के कवि और शायर हुए हैं. मजरूह सुल्तानपुरी. फिल्मी म्यूजिक और शायरी को ऐसे अनमोल नगीने दिए हैं मजरूह ने कि कलेजा फड़फड़ाने लगे. लेकिन एक गाना देखा कुछ दिन पहले. फिल्म ‘लव’ का. गाना था “आजा आजा गिव मी अ किस.”

एडिटर की जॉब आदमी में ऐसे घुस जाती है भाईसाब कि वो राह चलते सड़क किनारे साइन बोर्ड्स पर नजर रखता है. सबमें मात्रा, अनुस्वार, सरौता वाला स और पेटचिरवा ष को ध्यान से देखता है. एक भी गलती पकड़ में आए तो मन ही मन खुद को शाबाशी देता है. माइक्रो साइज का राइटर होने के नाते मेरा ध्यान भी पहले इस गाने के लिरिसिस्ट की तरफ गया. नाम देखा तो सांस अटक गई. सांप सूंघ गया. काटो तो खून नहीं. ये गाना मजरूह सुल्तानपुरी ने लिखा था. मैंने खुद को चिकोटी काटी. लेकिन ये सपना नहीं था जो टूट जाता. ये हकीकत था और मेरे सामने चल रहा दो कौड़ी का टुच्चा गाना भी हकीकत थी.

घंटों चिंतन मनन करने के बाद यही समझ में आया कि किसी मजबूरी ने उनसे ये लिखवाया होगा. उनकी कलम ने बीच में स्याही पोंक दी होगी ये लिखने से पहले. उनके टूटे कूलर ने वो पन्ने हवा में उड़ा दिए होंगे जिसमें ये लिख रहे थे. फिर भी मजबूरी के मारे मजरूह फिर उठाकर लिखने लगे होंगे. ‘हाय मजबूरियां मेरे हालात की.’ जरूरत किसी से कब क्या करा ले, कोई नहीं जानता.

कुछ ऐसी ही मजबूरी रही होगी जब जावेद अख्तर ने ‘मैं हूं ना’ फिल्म का ‘गोरी गोरी गोरी गोरी गोरी गोरी, कभी कभी कहीं कहीं चोरी चोरी’ लिखा होगा. और गुलजार ने ‘झूम बराबर झूम’ का ‘किस ऑफ लव’ लिखा होगा. लेकिन खुशी की बात है कि मजरूह हों, जावेद या गुलजार. सबने ऐसे नाम डुबाऊ पीस एक दो ही लिखे हैं. बाकी हर जगह गानों से इनकी ममता टपकती रही है.

एक किस्सा किसी ने सुनाया था सत्यजीत राय का. सत्यजीत से किसी ने पूछा कि आप इतनी अच्छी फिल्म बनाते हैं. पर कभी कभी ऐसी घटिया फिल्म बना देते हैं कि यकीन नहीं होता कि आपने बनाई है. ऐसा लगता है कि आप जान बूझ कर ये करते हैं. क्यों?
सत्यजीत ने उनको बताया था कि यही घटिया फिल्में कमाई कराती हैं. अच्छी वाली सिर्फ तारीफ कराती हैं. तो मैं कमाऊ फिल्मों से पैसा कमाकर तारीफ कमाने वाली फिल्में बनाता हूं.

इन लोगों का जवाब भी यही होगा अगर कोई पूछे तो. है कि नहीं?

क्या मजबूरी रही होगी कि दारा सिंह घाघरा पहन के नाचे थे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

इन नौ सवालों का जवाब दे दिया, तब मानेंगे आप ऐश्वर्या के सच्चे फैन हैं

कुछ ऐसी बातें, जो शायद आप नहीं जानते होंगे.

अमिताभ बच्चन तो ठीक हैं, दादा साहेब फाल्के के बारे में कितना जानते हो?

खुद पर है विश्वास तो आ जाओ मैदान में.

‘ताई तो कहती है, ऐसी लंबी-लंबी अंगुलियां चुडै़ल की होती हैं’

एक कहानी रोज़ में आज पढ़िए शिवानी की चन्नी.

मोदी जी का बड्डे मना लिया? अब क्विज़ खेलकर देखो कितना जानते हो उनको

मितरों! अच्छे नंबर चइये कि नइ चइये?

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

इस क्विज़ में परफेक्ट हो गए, तो कभी चालान नहीं कटेगा

बस 15 सवाल हैं मित्रों!

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

इंग्लैंड के सबसे बड़े पादरी ने कहा वो शर्मिंदा हैं. जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

KBC क्विज़: इन 15 सवालों का जवाब देकर बना था पहला करोड़पति, तुम भी खेलकर देखो

आज से KBC ग्यारहवां सीज़न शुरू हो रहा है. अगर इन सारे सवालों के जवाब सही दिए तो खुद को करोड़पति मान सकते हो बिंदास!

क्विज: अरविंद केजरीवाल के बारे में कितना जानते हैं आप?

अरविंद केजरीवाल के बारे में जानते हो, तो ये क्विज खेलो.

क्विज: कौन था वह इकलौता पाकिस्तानी जिसे भारत रत्न मिला?

प्रणब मुखर्जी को मिला भारत रत्न, ये क्विज जीत गए तो आपके क्विज रत्न बन जाने की गारंटी है.