Submit your post

Follow Us

लसिथ मलिंगा: वो गेंदबाज जिसकी गेंदों की वजह से अंपायर की पैंट उतरने की नौबत आ गई!

घुंघराले सुनहरे बाल, छिदी हुई भौंहें, शरीर पर टैटू, एक सुपरस्टार सा आत्मविश्ववास और सरल स्वभाव. चेहरे पर हमेशा रहने वाली एक मुस्कुराहट जो विकेट मिलने और चौका या छक्का लगने पर एक समान रहती थी. हर गेंद को फेंकने से पहले उसे चूमना और बॉलिंग एक्शन के तो क्या ही कहने. ऐसा एक्शन जो अच्छे-अच्छे बल्लेबाजों को दुविधा में डाल दे. वेस्ट इंडीज़ के ड्वेन ब्रावो के अलावा शायद ही कोई गेंदबाज़ हो जो इस खिलाड़ी जितनी अच्छी स्लो गेंद डाल सकता हो. यॉर्कर ऐसी कि जिसके सामने भारतीय गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह की यॉर्कर भी फीकी लगे.

ये सब खूबियां जिस एक गेंदबाज़ में हों उसे लसिथ मलिंगा नहीं तो क्या कहेंगे. आप चाहें तो इन्हें T20 फॉर्मेट का ग्रेटेस्ट ऑफ़ ऑल टाइम यानी GOAT भी कह सकते हैं. एक ऐसा गेंदबाज़ जिसने समुद्र के तट पर टेनिस की गेंद से खेलने से लेकर इंटरनेशनल क्रिकेट का नामी सितारा बनने तक का सफर तय किया. एक ऐसा गेंदबाज़ जिसके बॉलिंग एक्शन के चलते बीच मैच में अंपायर्स की पैंट बदलवाने तक की मांग उठ गई. एक ऐसा गेंदबाज़ जिसने मुंबई इंडियंस के लिए अपने श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड से पंगा ले लिया.

मंगलवार 14 सितम्बर को इस गेंदबाज़ ने इंटरनेशनल क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया. तो क्यों ना इस मौके पर हम इस दिग्गज गेंदबाज़ के क्रिकेटिंग करियर को आपके साथ साझा करें. इस स्टोरी के जरिए आज आपको बताएंगे लसिथ मलिंगा के क्रिकेट करियर का पूरा सफर और उससे जुड़े कुछ मजेदार किस्से.

#समुद्र तट से हुई क्रिकेट की शुरुआत

श्रीलंका के अमूमन बच्चों की तरह लसिथ मलिंगा के क्रिकेट करियर की शुरुआत भी समुद्र किनारे से हुई. गाले शहर के रथगमा बीच पर अपने साथ के कुछ बच्चों को टेनिस की गेंद से क्रिकेट खेलता देख मलिंगा भी उनके साथ शामिल हो गए. जाते ही उन्होंने अपने अपरंपरागत एक्शन से वहां खेल रहे लड़कों को हैरान कर दिया. देखते ही देखते मलिंगा रथगमा बीच के हीरो बन गए. साथी खिलाड़ियों को ना उनका एक्शन समझ आता था और ना ही तेज़ रफ़्तार से आती उनकी गेंदें दिखाई देती थीं.

फिर मलिंगा के जीवन में वो दिन भी आया जब एक पूर्व श्रीलंकाई तेज़ गेंदबाज़ की नजर उन पर पड़ी. एक ऐसे गेंदबाज़ की जिसने श्रीलंका क्रिकेट के लिए पहले अपने खेल से योगदान दिया और फिर अपनी कोचिंग से. जिन्होंने अपनी कोचिंग से लसिथ मलिंगा समेत नुवान कुलाशेखरा, नुवान प्रदीप, लहिरू कुमार और धामिका प्रसाद जैसे तेज़ गेंदबाज़ श्रीलंकाई टीम को दिए. एक ऐसे कोच जिसने मलिंगा को बनाया यॉर्कर किंग.

#कोच ने पहली नज़र में पहचाना हुनर

साल था 1998. इंटरनेशनल क्रिकेट से रिटायरमेंट लेने के बाद श्रीलंका के तेज़ गेंदबाज़ चम्पका रमानायके एक प्राइवेट अकैडमी के लिए कुछ नए टैलेंट्स की तलाश कर रहे थे. तलाश करते-करते वे एक दिन उस बीच पर आ पहुंचे जहां मलिंगा खेल रहे थे. वहां मलिंगा नाम के हीरे की मुलाकात रमानायके जैसे जोहरी से हुई. उन्होंने बल्ला पकड़ा और लड़कों को गेंद डालने के लिए कहा.

रमानायके कहते हैं कि उन्हें मलिंगा के एक्शन की वजह से उनकी पहली गेंद दिखी ही नहीं. और वहीं वे समझ गए कि इस लड़के में कुछ ख़ास हुनर है. रमानायके सीधे मलिंगा के पास गए और बोले,

‘तुम गाले क्रिकेट क्लब के लिए फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेलने आ रहे हो.’

बस फिर क्या था, मलिंगा का अपरंपरागत बॉलिंग एक्शन और रमानायके के अपरंपरागत कोचिंग के तरीके. जिसने टेनिस गेंद से खेलने वाले एक लड़के को इंटरनेशनल क्रिकेट का जगमगाता सितारा बना दिया.

#रमानायके ने बनाया मलिंगा को ‘Yorker King’

रमानायके मानते हैं कि किसी भी खिलाड़ी को कोचिंग देते वक़्त उसकी बुनियादी शक्ति से छेड़छाड़ नहीं करनी चाहिए. और मलिंगा की बुनियादी शक्ति थी उनका ‘बेढंगा सा’ एक्शन. रमानायके जानते थे कि ऐसे एक्शन के साथ गेंदबाज़ी में एक्यूरेसी लाना बहुत मुश्किल है. उदाहरण के तौर पर ऑस्ट्रेलिया के शॉन टेट को ही ले लीजिए. जनाब गेंद तो 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से करते हैं, पर सीधी विकटों में गेंद करने में उनकी जान निकल जाती है. ऐसा मलिंगा के साथ ना हो इसका रमानायके ने पूरा ख्याल रखा.

रमानायके पिच की बैटिंग क्रीज़ पर एक जोड़ी जूते चिपका देते थे. और मलिंगा को उन पर निशाना लगाने के लिए कहते थे. मलिंगा कई-कई घंटों तक उन जूतों पर निशाना साध गेंदबाज़ी करते थे. वे इस हुनर में इतने निपुण हो गए कि जब इंटरनेशनल क्रिकेट में आये तो ऐसा लगता था कि ये आदमी आंख बंद करके भी बल्लेबाज़ के गट्टे तोड़ देगा.

#इंटरनेशनल क्रिकेट से आया बुलावा

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपनी रफ़्तार का लोहा मनवाने के बाद मलिंगा को साल 2004 के ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट दौरे के लिए श्रीलंका की टीम में चुन लिया गया. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया पहुंचते ही अपने नाम का डंका बजा दिया. सीरीज़ शुरू होने से पहले हुए एक टूर मैच में मलिंगा ने 90 रन देकर ऑस्ट्रेलिया के 6 विकेट चटका दिए. इसके बाद उन्हें अपना पहला इंटरनेशनल टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला.

मलिंगा यहां भी नहीं चूके और 2 मैचों की सीरीज़ में वे चौथे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ रहे. उन्होंने कुल 10 विकेट चटकाईं जिसमें दो बार चार-चाकर विकेट झटके. फिर क्या था, मलिंगा ने उसी साल वनडे में भी डेब्यू कर लिया. जिसके बाद हुआ एक ऐसा रोमांचक किस्सा जिसमें अंपायर्स के पैंट उतरने पर बात आ गई.

Malinga Celebration 1
लसिथ मलिंगा की फाइल फ़ोटो (पीटीआई)

#मलिंगा की वजह से अंपायर्स की पैंट पर आई आफत

साल 2005 में श्रीलंका की टीम न्यूज़ीलैंड के दौरे पर थी. सीरीज़ का पहला टेस्ट नेपियर में खेला जा रहा था. न्यूज़ीलैंड की टीम बल्लेबाज़ी कर रही थी. क्रीज़ पर थे कीवी कप्तान स्टीफन फ्लेमिंग और गेंद थी मलिंगा के हाथ में. तभी कुछ ऐसा हुआ जो आपको कभी क्रिकेट में सुनने को शायद ना मिले. फ्लेमिंग ने मैदान में अंपायरिंग कर रहे अंपायर्स से उनकी पैंट बदलने को कहा. फ्लेमिंग का तर्क था कि अंपायर्स की घाड़े रंग की पैंट के रंग के कारण उन्हें मलिंगा की गेंद को देखने में दिक्कत हो रही है. फ्लेमिंग ने कहा कि मलिंगा का एक्शन ऐसा है कि लाल गेंद अंपायर्स की काली पैंट में खो सी जाती है और उन्होंने अंपायर्स को हल्के या सफ़ेद रंग की पैंट पहनने का इलाज भी बता दिया.

फ्लेमिंग ने बाद में इस बात की पुष्टि करते हुए कहा था,

‘हमें उस समय गेंद को देखने में बहुत दिक्कतें हुईं जब मलिंगा मुझे आउट करने के लिए एक विशेष लाइन और लेंथ से गेंदबाज़ी कर रहे थे. हमने ड्रेस बदलवाने के लिए कहा था. अंपायर्स खिलाड़ियों की मदद के लिए होते हैं ना कि अड़चन पैदा करने के लिए.’

हालांकि मैदान पर मौजूद वेस्ट इंडीज़ के अंपायर स्टीव बकनर (अरे! वही अंपायर जिसे हमारे सचिन तेंडुलकर पाजी से पता नहीं कौनसी दुश्मनी थी) ने इस समस्या का समाधान निकाला. उन्होंने अपनी पैंट के चारों तरफ गेंदबाज़ का पकड़ाया हुआ सफ़ेद रंग का स्वेटर लपेट लिया. लेकिन मैच में दूसरे अंपायर ऑस्ट्रेलिया के डैरेल हेयर ने ऐसा कुछ भी करने से इनकार कर दिया. कहा कि ICC जो पोशाक देती है, वो वही पहन के अंपायरिंग करेंगे.

#किंग ऑफ़ ‘Hat Trick’

साल 2007 का 50-ओवर वर्ल्ड कप. श्रीलंका के सामने थी साउथ अफ्रीका. उसे जीतने के लिए 26 गेंदों में चार रनों की जरूरत थी और पांच विकेट हाथ में थे. मलिंगा ने फिर वो कर दिखाया जो आजतक कोई गेंदबाज़ वनडे क्रिकेट में नहीं कर पाया. उन्होंने अपनी चार लगातार गेंदों पर अफ्रीका के चार विकेट चटका दिए. हालांकि एक ओवर में नहीं. मलिंगा के इस रिकॉर्ड को कोई भी गेंदबाज़ वनडे क्रिकेट में नहीं तोड़ पाया है.

इसके अलावा मलिंगा ने वनडे में दो और हैट्रिक लीं हैं. एक ऑस्ट्रेलिया और एक केन्या की टीम के खिलाफ. मलिंगा वनडे क्रिकेट में तीन हैट्रिक लेने वाले इकलौते गेंदबाज़ हैं. बात यही नहीं है. मलिंगा के नाम T20 क्रिकेट में भी दो हैट्रिक हैं. यानी कुल मिलाकर मलिंगा के नाम इंटरनेशनल क्रिकेट में पांच हैट्रिक हैं. उनके अलावा सिर्फ पकिस्तान के वसीम अकरम के नाम दो से ज्यादा हैट्रिक हैं. अकरम के नाम वनडे में दो और टेस्ट में भी दो हैट्रिक हैं.

मलिंगा चार गेंदों में चार विकेट लेने का कारनामा दो बार करने वाले भी दुनिया के एकमात्र गेंदबाज़ हैं. न्यूज़ीलैंड के खिलाफ पालेकेले में हुए एक T20 मैच में वे यह कारनामा कर चुके हैं. उनके अलावा अफ़ग़ानिस्तान के रशीद खान साल 2019 में आयरलैंड के खिलाफ T20 में चार गेंदों में चार विकेट ले चुके हैं.

Malinga Celebration
लसिथ मलिंगा की फाइल फ़ोटो (पीटीआई)

#मलिंगा, IPL और विवाद

मलिंगा को साल 2008 में मुंबई इंडियंस ने तीन लाख पचास हज़ार डॉलर में खरीदा था. और ऐसा खरीदा कि फिर जाने ही नहीं दिया. मलिंगा जब तक IPL का हिस्सा रहे, मुंबई के लिए ही खेले. इसके लिए उन्होंने श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड से भी पंगा ले लिया था.

साल 2011 में मलिंगा ने टेस्ट फॉर्मेट से संन्यास लेने का फैसला लिया. उन्होंने अपने घुटने की चोट को इस फैसले का कारण बताया था. श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड को यह बात कतई पसंद नहीं आई कि एक खिलाड़ी चोट के चलते अपने देश के लिए टेस्ट खेलने से इनकार कर रहा है, लेकिन IPL खेल रहा है. इसके बाद श्रीलंकाई फैंस और बोर्ड के मलिंगा के साथ रिश्ते काफी बदल गए.

मलिंगा 2008 से लेकर 2019 तक मुंबई के लिए खेलते हुए चार IPL टाइटल, दो चैंपियंस लीग के टाइटल और एक बार पर्पल कैप जीत चुके हैं. 2019 में मुंबई ने उन्हें कोचिंग का जिम्मा सौंपा. लेकिन फिर उन्हें लगा कि मलिंगा जैसे खिलाड़ी को बाहर बैठाना सही नहीं है, सो वापस टीम में ले लिया. मलिंगा ने निराश नहीं किया. 2019 के फ़ाइनल में चेन्नई सुपर किंग्स को आखिरी ओवर में जीत के लिए 9 रन चाहिए थे. मलिंगा ने सिर्फ सात ही दिए और मुंबई को चौथी बार IPL विजेता बनाया.

#श्रीलंका को वर्ल्ड कप जितवाने वाले दूसरे कप्तान

वेस्ट इंडीज़ क्रिकेट के पूर्व खिलाड़ी और बल्लेबाज़ी के लीजेंड में से एक सर विवियन रिचर्ड्स ने एक बार कहा था,

‘अरविन्द डी सिल्वा के बाद श्रीलंकाई क्रिकेट के साथ अगर कुछ अच्छा हुआ है तो वह मलिंगा है.’

और इस बात को लसिथ मलिंगा ने काफी हद तक सही भी साबित किया है. अगर सिर्फ आंकड़ों की बात करें तो. नहीं तो श्रीलंका क्रिकेट में एक से एक दिग्गज पैदा हुआ है. लेकिन अरविन्द डी सिल्वा और मलिंगा के अलावा कोई भी दिग्गज श्रीलंका को वर्ल्ड कप नहीं दिलवा पाया. साल 2014 के T20 वर्ल्ड कप से पहले दिनेश चांदीमल को कप्तानी से हटा दिया गया. और मलिंगा को कप्तान बनाया गया.

मलिंगा ने यहां भी निराश नहीं किया. इंडिया को फ़ाइनल में मात देकर श्रीलंका ने अपना पहला T20 वर्ल्ड कप जीता. हालांकि 2016 के T20 वर्ल्ड कप से पहले मलिंगा ने चोट के चलते अपना नाम वापस ले लिया था. ये चोट ही थी जिसने मलिंगा को समय-समय पर आगे बढ़ने से रोका.

Malinga Injury
लसिथ मलिंगा की फाइल फ़ोटो (पीटीआई)

#इंजरी ने अड़ाई टांग

मलिंगा को साल 2008 में पहली इंजरी हुई. घुटने में लगी चोट के चलते उन्हें दो साल के लिए क्रिकेट से दूर रहना पड़ा. टीम में वापसी करते ही उन्हें फिर टखने की चोट के चलते कुछ महीनों के लिए क्रिकेट से दूर होना पड़ा. उनके घुटने की चोट ने उन्हें 2015 में फिर से तंग किया. जिसके कारण उन्होंने जैसे-तैसे 2015 का वर्ल्ड कप खेला. लेकिन 2016 के वर्ल्ड कप से पहले फिर टीम से बाहर हो गए.

इस सबके बावजूद मलिंगा का करियर यादगार रहा. उनके बनाए रिकार्ड्स अपने आप में काफी हैं लसिथ मलिंगा के हुनर का परिचय देने के लिए. मलिंगा के नाम T20 इंटरनेशनल क्रिकेट में 107 विकेट हैं. दुनिया में सबसे ज्यादा. T20 इंटरनेशनल में 100 विकेट लेने वाले मलिंगा पहले गेंदबाज़ बने. IPL में सबसे पहले 100 और 150 विकेट लेने का कारनामा भी मलिंगा ने ही किया है. IPL में मलिंगा के नाम सबसे ज्यादा 170 विकेट हैं. वहीं अगर सभी T20 मुक़ाबलों की बात करें तो मलिंगा के नाम 390 विकेट हैं.


विराट कोहली की कप्तानी के मसले पर क्या बोला BCCI?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

तमिल जनता आखिर क्यों कर रही है 'फैमिली मैन-2' का विरोध, क्या है LTTE की पूरी कहानी?

जब ट्रेलर आया था, तबसे लगातार विरोध जारी है.

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.