Submit your post

Follow Us

एक बार सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र ने भी झूठ बोला था

राजा हरिश्चंद्र को बच्चे नहीं हो रहे थे. उन्होंने वरुण देवता की पूजा की और उनसे कहा कि अगर आप मुझे एक बेटा दे दें तो मैं उसी को यज्ञ पशु बना कर आपका यज्ञ करूंगा. वरुण देवता ने कहा ओके और डील डन हो गई.

हरिश्चंद्र का बेटा हुआ और उसका नाम रखा गया रोहित. वरुण भगवान ने कहा चलो बेटा अब यज्ञ कराओ. हरिश्चंद्र को बच्चे पर प्यार आ रहा था. उसने कहा जब बच्चा 10 महीने का हो जाएगा तभी यज्ञ के लायक होगा. भगवान वरुण बोले ठीक. फिर 10 महीने बाद वरुण के पूछने पर हरिश्चंद्र ने कहा कि बच्चे के दांत निकल आने दीजिए. फिर यज्ञ करेंगे.

ऐसे ही बहाने मार मारकर हरिश्चंद्र ने भगवान वरुण को कई बरसों तक टहलाया. दरअसल हरिश्चंद्र को बच्चे से मोह हो गया था और अब वो उसे खोना नहीं चाहते थे सो झूठ बोलकर टरका रहे थे.जब रोहित को पता चला कि उसके पापा तो उसकी जान के अगेंस्ट लोन लिए हुए हैं, वो जंगल की ओर निकल लिया.

कुछ सालों बाद उसे पता चला कि वरुण देवता ने पापा हरिश्चंद्र पर अटैक कर दिया है और वो बीमार पड़ गए हैं. वो घर जाने को हुआ पर इंद्र ने उसे रोक लिया. 6 साल बाद रोहित ने अजीतर्ग नाम के एक गरीब ब्राह्मण से उनके बेटे शुन:शेप को खरीदा. उसको यज्ञ पशु बनाकर यज्ञ करने के बाद हरिश्चंद्र की बीमारी खत्म हुई और वरुण ने उनको माफ किया.

(श्रीमद्भागवत महापुराण)


वीडियो- देश के कोने कोने में ऐसे मनाते हैं मकर संक्रांति

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.