Submit your post

Follow Us

इरफान पठान: हमारा वो क्रिकेटर जिसमें दुनिया ने कभी कपिल देव को देखा था

एक वक्त था जब इंडिया में एक 19 साल का बॉलर आया था. लेफ्ट आर्म स्विंग बॉलर. उसकी गेंद बड़े से बड़े धुरंधर बल्लेबाजों को गच्छा दे जाती थी. 2004 में जब एक अरसे बाद टीम इंडिया पाकिस्तान खेलने गई, इस बॉलर ने हैट्रिक ले ली थी. नाम है इरफान पठान. बॉलिंग में चलने के बाद राहुल द्रविड़ और ग्रेग चैपल की जोड़ी ने उसे बल्ला भी थमाया और वो ओपनिंग से लेकर वन डाउन पर बैटिंग करने लगा. सफल भी रहा. उस वक्त दुनिया ने पठान के टैलंट को देखकर कहा- ये इंडिया का नया कपिल देव है.

कारण साफ था कि इंडिया ने कपिल के बाद कोई फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर देखा नहीं था. अब पठान के बाद टीम में हार्दिक पंड्या इस रोल में हैं. हालांकि न तो पंड्या को कपिल देव कहलाना पसंद है और न ही कपिल को ये पसंद है कि किसी खिलाड़ी को कपिल कहा जाए. क्योंकि कपिल देव कहते हैं कि ऐसा करके हम उस प्लेयर पर गैरजरूरी दबाव बनाते हैं. मगर जब यही सवाल दी लल्लनटॉप ने इरफान से पूछा तो इस ऑलराउंडर ने कहा, “मुझे लगता है कि जब किसी प्लेयर को कपिल देव कहा जाता है तो वो नेगेटिव नहीं पॉजिटिव बात है. कपिल देव अपने लंबे करियर में बतौर बॉलर, बैट्समैन, कप्तान और फील्डर खुद को प्रूव करके कपिल देव बने हैं. इसलिए अगर मीडिया किसी प्लेयर को कपिल देव कहता है तो उसे पॉजिटिव तरीके से लेने की जरूरत है.”

3 all rounders
इंडिया के तीन फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर्स- कपिल, इरफान और हार्दिक.

दिसंबर 2003 में अपना करियर शुरू करने वाले पठान ने 29 टेस्ट, 120 वनडे और 24 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले हैं. टेस्ट में एक सेंचुरी और 6 हाफ सेंचुरी लगाई हैं. वहीं बॉलिंग में पठान ने 100 टेस्ट विकेट और 173 वनडे विकेट लिए हैं. 33 साल के इरफान पठान इन दिनों जम्मू-कश्मीर की रणजी टीम के साथ बतौर मेन्टॉर और प्लेयर काम कर रहे हैं. पूछने पर कि क्या इंडिया में ऑलराउंडर बनना मुश्किल काम है, पठान कहते हैं,” ऐसा नहीं है कि हमारे पास ऑलराउंडर्स नहीं हैं. हमारे पास अश्विन और जडेजा जैसे स्पिनिंग ऑलराउंडर्स हैं. मगर फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर्स नहीं हैं. अभी टीम में सिर्फ हार्दिक पंड्या फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर है. जब मैं टीम में था तो मैं वो रोल निभाता था. फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर्स पूरी दुनिया में गिने-चुने होते हैं और जिन टीमों पास ये हैं वो एक लग्जरी है. फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर्स होना इसलिए भी मुश्किल होता है क्यों एक प्लेयर का जो फ्रंट फुट बैटिंग में है, वहीं बॉलिंग में भी होता है. इसलिए इन प्लेयर्स का वर्कलोड ज्यादा होता है मतलब इंजरी के चांसेज भी उतने ही ज्यादा. उस लेवल तक फिटनेस बेहद कम प्लेयर्स का हो पाता है.”

इंग्लैंड की काउंटी क्रिकेट में मिडलसेक्स के लिए खेल चुके इरफान कहते हैं कि इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और साउथ अफ्रीका में कंडीशंस का ऑलराउंडर्स पैदा करने में बड़ा हाथ होता है. “इन देशों में बेहद कम स्पिन ऑलराउंडर्स मिलते हैं. मगर अपने यहां देख लीजिए. स्पिन ऑलराउंडर्स काफी मिलेंगे. अब हार्दिक पंड्या को ही देख लीजिए. ट्रेंट ब्रिज में हुए तीसरे टेस्ट में पंड्या को 5 विकेट मिले क्योंकि वहां की कंडीशन्स से हेल्प मिल रहा था. उससे पहले टेस्ट में पंड्या का बॉलिंग में उतना खास प्रदर्शन नहीं रहा है. तो जहां फास्ट बॉलर्स को ज्यादा मदद मिलेगी वहां फास्ट बॉलिंग ऑलराउंडर्स होंगे ही.”

Pathan1
इरफान पठान ने 6 साल पहले अपना आखिरी वऩडे मैच खेला था.

अब जब हर सीरीज में टी-20 मैच रखे जा रहे हैं और लगभग हर देश में टी20 लीग्स बन रही हैं, ऐसे में प्लेयर्स पर ये दबाव है कि वो बैट और बल्ले दोनों से अपना योगदान दें. तो क्या ये ऑलराउंडर्स का कल्चर नहीं पैदा कर रहा है, इस पर पठान कहते हैं कि यूटिलिटी प्लेयर्स और ऑलराउंडर्स में फर्क है. जो भी क्रिकेटर बैटिंग और बॉलिंग कर ले वो यूटिलिटी प्लेयर है मगर एक पूरा ऑलराउंडर होना अलग ही स्किल है. आज के वक्त में पूरी दुनिया में कितने क्वालिटी ऑलराउंडर्स हैं. आंद्रे रसेल और बेन स्टोक्स के अलावा क्रिस वोक्स या सैम करेन भी सामने आए हैं. मगर इन दोनों को अभी काफी कुछ साबित करना बाकी है.

वहीं इंडिया टेस्ट टीम में पृथ्वी शॉ को जगह मिलने पर पठान ने कहा कि वो शानदार क्रिकेटर है जिससे बहुत उम्मीदें हैं. “पृथ्वी की एक खास बात ये है कि वो अपनी पारी में मजेदार शॉट्स खेलता है और इसलिए लंबे स्कोर भी कर पाता है. उसका डिफेंस और स्ट्रोकप्ले काफी स्ट्रॉन्ग है. उम्मीद है वो मौका मिलते ही अपने इस टैलंट की धाक इंटरनेशनल क्रिकेट में भी जमाएगा. वैसे भी अभी टीम को ओपनर्स की जरूरत है.”


Also Read

क्या इंग्लैंड में सीरीज जीतने की कुंजी राहुल द्रविड़ के पास थी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.