Submit your post

Follow Us

यहां पर अब तक रखी हुई है लेन‍िन की डेड बॉडी

बोल्शेविक क्रांति के कर्ता-धर्ता लेनिन. दुनिया को पहली कम्यूनिस्ट सरकार देने वाला नेता. रूस को साम्यवाद का सर्वेसर्वा बना देने वाला कॉमरेड. 1870 में वोल्गा नदी के किनारे रूस के सिम्बिर्स्क शहर में ‘उल्यानोव’ परिवार में पैदा हुआ वो होनहार लड़का जिसमें दुनिया को उसकी मौत के 90 साल से ज्यादा वक़्त के बाद भी उतना ही इंट्रेस्ट है जितना बोल्शेविक क्रांति के दौरान समूची पृथ्वी को था.

लेनिन को और क़रीब से जानना है तो एक सांस में पढ़ डालो ये पूरा ज्ञान-

Lenin-circa-1887

1- ‘लेनिन’ का असली नाम तो कुछ और ही था

सारी दुनिया जिन्हें ‘लेनिन’ के नाम से जानती, पहचानती है, उसका असली नाम है- व्लादीमिर इलीच उल्यानोव’. लेनिन नाम तो रूस की ज़ार सरकार का माथा खपाने के लिए रखा गया था. ताकि लेनिन को क्रांति की प्लानिंग करते वक़्त छुपने में आसानी रहे. इतिहास को पढ़ने वाले मानते हैं कि ‘लेनिन’ नाम साइबेरिया में लेना नदी से होकर आया है. लेनिन ने कई सारे और नाम भी ट्राय किए थे, जैसे कि के टुलिन, पेत्रोव और भी बहुत कुछ. फिर 1902 में आके ‘लेनिन’ नाम पर सुई आकर अटकी.

 2- कॉलेज से निकाल फेंके गए थे लेनिन

लेनिन के घर में शुरू से ही पढ़ाई-लिखाई वाला माहौल था. लेनिन जब क़ानून की पढ़ाई करने कॉलेज पहुंचे तो उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. वजह थी उनकी क्रांतिकारी तासीर. एक तो लड़का गरम ख़ून वाला तिस पर उसका भाई जबर विद्रोही. लाल रंग को असर तो दिखाना ही था.

इतिहास में दर्ज़ है कि लेनिन के भाई अलेग्जांदर को ज़ार की हत्या का षडयंत्र रचने में शरीक होने के लिए फांसी दे दी गई थी. कॉलेज से निकाले जाने के बावजूद लेनिन ने हार नहीं मानी. लड़के ने बाहर से दिया एक्ज़ाम और 1891 में लॉ की डिग्री हासिल करके ही माना.

3- जब लेनिन को मिला देश-निकाला

61

कॉन्फ़िडेंस का पहाड़ लिए फ़िर उसने ठौर लगाई सेंट पीटर्सबर्ग में.  उद्देश्य था- कर्रा वाला क्रांतिकारी बनना. लड़के की धमक बढ़ने लगी. आवाजें सरकार से टकराने लगीं. तंग आकर वहां की सरकार ने बाकियों की तरह लेनिन को भी खदेड़ दिया और भेज दिया साइबेरिया अज्ञातवास पर.

लेनिन ने वहां शादी की और 3 किताबें भी लिख डालीं . जिनमें से एक थी ‘रूस में पूंजीवाद का विकास’

4. लेनिन चाहते थे, हार जाए रूस- 

1914 में जब पहले विश्व युद्ध का बम फटा, रूस में सबने चाहा कि उसका देश जीत जाए. बस ये लेनिन और बोल्शेविक फ़ौज ही थी जो रूस की हार चाहती थी. उन्हें मालूम था कि ज़ार की फ़ौज हारेगी ही हारेगी. यहां तक कि लेनिन ने रूस के दुश्मन जर्मनी से आर्थिक संधि भी कर ली थी. ज़ार के हारते ही मौके पे चौका मारते हुए लेनिन ने बोल्शेविक क्रांति की धार और तेज कर दी.

 

509-V.-I.-Lenin-India-Stamp-1970

 

5. जब लेनिन ने पढ़े ‘तिलक’ की तारीफ़ में कसीदे

बात उस समय की है जब गांधी को राजनीति का कहकरा सिखाने वाले बाल गंगाधर तिलक से डरकर अंग्रेजों ने 6 साल के लिए उन्हें बर्मा की जेल में फेंकने का फ़ैसला सुनाया.

तिलक पर मुकदमे के अगले ही दिन लेनिन ने एक लेख छापा और उसमें कहा कि तिलक समूची दुनिया की राजनीति में आग लगा देगा, तिलक को दबाया नहीं जा सकता.

 

6- लेनिन की बॉडी अभी तक मौजूद है

1924 में लेनिन के बाद उनके शव को दफनाया नहीं गया था. लेनिन जैसे जिंदादिल नेता को हमेशा जिंदा रखने के लिए बॉडी को ममी में तब्दील कर दिया है. ये ममी  मॉस्को के रेड स्क्वॉयर में रखी है.

 

lenin

 


ये भी पढ़ें-

पुतिन ने अमेरिका को एक झटके में पटक दिया है

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

चीन और जापान जिस द्वीप के लिए भिड़ रहे हैं, उसकी पूरी कहानी

आइए जानते हैं कि मामला अभी क्यों बढ़ा है.

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.