Submit your post

Follow Us

श्रीदेवी ने मरकर मेरा भरोसा तोड़ दिया

ऐसी बातें कहने से मुझे नफ़रत है लेकिन श्रीदेवी के साथ हमारे हिस्से का सिनेमा चला गया. सिनेमा वो वाला जो दूरदर्शन पर शुक्रवार और शनिवार की रात हमारे हिस्से आते. जिन फिल्मों में विलेन हीरो को बचपन में चुराता और हीरो ताउम्र हीरे चुराता. विलेन हीरोइन की जुड़वां बहन को सताता और हम बस यही चाहते कि कोई जैकी श्रॉफ या अनिल कपूर अंत में एक-दूसरे को पहचान लें, एक हो जाएं और विलेन को मार दें. हीरो, हीरो की तरह काम करे और बुरा विलेन मर जाए, फिल्में हमारे लिए इतनी ही थी. हमें यही समझ आता. फिर ऐसे में किसी फिल्म में श्रीदेवी नज़र आतीं, जो आंखें चमकाते हुए पूरी शैतानी से विलेन को चाबुकों से पीटने में देर न लगातीं. फिर हमें ये समझ आता कि फिल्मों में हीरोइन भी होती है और वो बस अंत में हीरो से शादी कर लेने के लिए नहीं होती.

28167037_10215558861434557_1428927400679628350_n

मेरे लिए दूरदर्शन ही दुनिया थी, उस दुनिया में सिनेमा सबकुछ था, उस सिनेमा में ‘आज की हीरोइनें’ मतलब करिश्मा, माधुरी और श्रीदेवी हुआ करती थीं. समय के साथ मुझे श्रीदेवी पर भरोसा हो गया. मुझे भरोसा था कि जब तक ये स्क्रीन पर है, इसके साथ कुछ बुरा नहीं होगा. आम हीरोइनें मुसीबत में फंसने के लिए होतीं. वो किडनैप कर ली जातीं और हीरो फंस जाता था. श्रीदेवी पर मुझे भरोसा था, उन्हें कोई यूं ही डरा नहीं पाता था, कमरे में बंद नहीं कर पाता था. श्रीदेवी वो हीरोइन थी, जो बस 21 बरस की होकर करोड़ों की जायदाद अपने चाचा के नाम करने के लिए नहीं सेई-पालीं जातीं.

श्रीदेवी तो वो थीं जो गाने के बीच में भी हीरो को चिढ़ा देतीं, ‘चांदनी-चांदनी करता है.’ उन्होनें एक ज्ञान मुझे थमाया ‘अपनी महबूबा से मिलने खाली हाथ नहीं आते.’ वो पहली पत्रकार थीं, जिससे मुझे नफरत हुई. वो तो बच्चों की गेंद तक नहीं लौटाती थीं. फिर मुझे तब भी उनसे नफरत हुई जब वो काजल बनीं, जब उन्होंने अनिल कपूर को बेच डाला. फिर मुझे तब भी वो खराब लगीं, जब वो फरीदा जलाल के ‘लाडले’ को सरेआम बेइज्जत करतीं. इस सारे वक़्त में मैं ये सीखता गया कि ये लड़की बहुत तेज है. वो सहज-सरल नहीं थीं, बादशाह खान जब अफगानिस्तान से हबीबुल्ला का सिर लाने चला था, तो उसे बेनज़ीर की एक मुस्कान के लिए रिरिया देना पड़ा था. बादशाह खान से बड़ा उस ब्लैक एंड व्हाइट टीवी पर कुछ नहीं आया करता था, खुदा गवाह है, वो अमिताभ थे.

28377806_10215558858394481_4047797945099050097_n

समय आगे बढ़ा, रविवार की एक शाम उसी टीवी पर मैंने सदमा देखी. ये अजीब पागल लड़की थी, जो जाने क्या-क्या करती मुझे समझ नहीं आ रहा था. बस ये याद है कि अंत में वो सोमू को छोड़ गई, वो ठीक हो गई थी. सोमू पागल जैसे इशारे ही करता रहा. यूं चीजें खत्म होना मुझे अजीब सा लगा, बुरा लगा. अब कुछ है ही नहीं, मानो कभी कुछ था ही नहीं.

श्रीदेवी ने मेरा भरोसा तोड़ दिया, इतना जल्दी. अभी तो हमने उनकी सेकेंड इनिंग की तैयारी की थी, अभी तो मैंने मॉम भी नहीं देखी थी. अभी कल तक तो वो बेटी को संभाल रहीं थीं. जिनके हाथ में कैमरे हैं वो पागल हो चुके हैं. छोटी सी बात को मां-बेटी की लड़ाई बताकर वीडियो फैला रहे थे. उन्हीं पागल कैमरे वालों के कारण मैं वो तस्वीर देख रहा हूं, जो दुबई जाते हुए की है. वो एक सफर पर निकली थीं, दूसरे सफर पर चली गईं. ये मेरे साथ धोखा है, मुझे उस ब्लैक एंड व्हाइट टीवी के सामने बैठे-बैठे ये भरोसा हो गया था कि उनको कभी कुछ नहीं होगा.


ये भी पढ़ें:

एक्ट्रेस श्रीदेवी का निधन

श्रीदेवी के किस्से: वो हिरोइन जिसके पांव खुद रजनीकांत छूते थे

मां होना असल में क्या होता है, श्रीदेवी हमें बताती हैं

पत्रकार सीमा साहनी ने कैद होने से ठीक पहले इतिहास रच दिया था

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

जो मोबाइल फोन हमारी ज़िंदगी का सबसे जरूरी हिस्सा बन गए हैं, उनमें चीन का कितना स्टेक है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020