Submit your post

Follow Us

कौन हैं चकमा और हाजोंग शरणार्थी, जिन्हें भारत नागरिकता दे रहा है?

तैत्तिरीय उपनिषद में एक सीख है. लिखा है- मातृ देवो भव. पितृ देवो भव. आचार्य देवो भव. अतिथि देवो भव. मेहमान की जगह माता, पिता और गुरु के बराबर. उसका सम्मान ईश्वर के बराबर. ये परंपरा हमारी संस्कृति का फ्लैगशिप है. सात समंदर पार भी मशहूर है. हिंदुस्तानी मेहमान को भगवान समझते हैं. वास्कोडिगामा भारत आया. लौटा तो यहां के किस्से बांचता. कहता, भारत के लोग बड़े दिल वाले हैं. गुड़ की डली के बिना तो पानी भी नहीं देते हैं. सदियों पुरानी इसी परंपरा की कड़ी में अब कुछ शरणार्थियों की चर्चा है. दुश्मन देश से जान बचाकर आए रिफ्यूजी. चकमा और हाजोंग. भारत ने उन्हें ठौर दी. अपनाया. अब नागरिकता भी दे रहा है.

चकमा का मूल कनेक्शन म्यांमार से है. वहां से ये हिमाचल की तलहटी में फैल गए (फोटो: Prothom Alo)
चकमा का मूल कनेक्शन म्यांमार से है. वहां से ये हिमालय की तलहटी में फैल गए (फोटो: Prothom Alo)

बांग्लादेश के रिफ्यूजी अरुणाचल कैसे पहुंचे?
अरुणाचल प्रदेश. कहते हैं, सूरज की पहली किरण उतरती है वहां. लगभग 13 लाख लोगों की आबादी. एक लाख के करीब रिफ्यूजी भी रहते हैं यहां. पिछले 50 सालों से. ये सभी पूर्वी पाकिस्तान से आए थे. चटगांव से. ये पाकिस्तान के बंटवारे से पहले की बात है. अब चटगांव बांग्लादेश में है. 60 के दशक में वहां काप्ताई बांध बन रहा था. इसके कारण जमीन का बड़ा हिस्सा पानी में डूब गया.

60 के दशक में जब चकमा और हाजोंग शरणार्थी बांग्लादेश से भारत आए, तो तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने उनमें से कई को अरुणाचल में बसा दिया...
60 के दशक में जब चकमा और हाजोंग शरणार्थी बांग्लादेश से भारत आए, तो तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने उनमें से कई को अरुणाचल में बसा दिया.

बड़ी संख्या में लोगों को वहां से पलायन करना पड़ा. उसी समय सैकड़ों चकमा और हाजोंग भारत आए. ये लोग मिजोरम स्थित लुसाई पहाड़ी से होकर आए थे. जो लोग पीछे रह गए, वो आज भी वहीं लुसाई हिल्स के इलाकों में रहते हैं.

Chittagong
1971 में पाकिस्तान के विभाजन के बाद बांग्लादेश का गठन हुआ. जब चकमा और हिजोंग शरणार्थी भारत आए, तब चटगांव पूर्वी पाकिस्तान का ही भाग था.

कौन हैं चकमा?
चकमा बौद्ध संप्रदाय से हैं. माना जाता है कि ये पश्चिमी म्यांमार के अराकान पर्वतों से निकले. फिर हिमालय की घाटी में फैल गए. इनकी अपनी भाषा है. अरुणाचल में ही नहीं, पूर्वोत्तर भारत के और कई हिस्सों में इनकी मौजूदगी है. बांग्लादेश और पश्चिमी म्यांमार में तो ये हैं ही. चटगांव से जो शरणार्थी भागकर भारत आए, उनमें ज्यादातर चकमा ही थे.

अरुणाचल के स्थानीय लोग इन शरणार्थियों को नागरिकता दिए जाने का विरोध कर रहे हैं...
अरुणाचल के स्थानीय लोग इन शरणार्थियों को नागरिकता दिए जाने का विरोध कर रहे हैं.

क्या है हाजोंग शरणार्थियों का इतिहास?
हाजोंग आदिवासी समुदाय से आते हैं. बांग्लादेश, पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर भारत में इनकी खासी तादाद है. इस समुदाय के ज्यादातर लोग आज भी खेती-किसानी से जुड़े हुए हैं. जो हाजोंग भारत के नागरिक हैं, उन्हें अनुसूचित जनजाति (ST) का दर्जा मिला हुआ है. लेकिन बांग्लादेश से भागकर आए लोगों की बात अलग है. वो भारत के नागरिक नहीं थे.

जब इन शरणार्थियों को अरुणाचल में बसाया गया था, तब उनकी संख्या 5,000 के करीब थी. अब ये बढ़कर एक लाख हो गए हैं...
जब इन शरणार्थियों को अरुणाचल में बसाया गया था, तब उनकी संख्या 5,000 के करीब थी. अब ये बढ़कर एक लाख हो गए हैं.

चकमा और हाजोंग शरणार्थियों पर सरकार ने क्या फैसला किया है
अरुणाचल में कई अनुसूचित जनजातियां रहती हैं. बाहर से आए लोगों को वहां बसाने पर जमीन और बाकी विशेषाधिकारों का मसला खड़ा हो जाता है. स्थानीय लोग तो इसका विरोध कर ही रहे हैं. 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई करते हुए एक समय-सीमा तय की थी. सरकार से कहा था कि तीन महीने के भीतर चकमा और हाजोंग शरणार्थियों को नागरिकता दो. सरकार ने इसके खिलाफ अपील की. राज्य सरकार ने दलील दी कि इससे प्रदेश की जनसांख्यिकी बिगड़ जाएंगी. कई मूल आदिवासी जनजातियां अपने ही यहां अल्पसंख्यक बन जाएंगी. इससे उनके लिए मुश्किलें खड़ी हो जाएंगी. लेकिन दलीलों का कोई असर नहीं हुआ.

अरुणाचल सामरिक दृष्टि से भारत के लिए काफी अहमियत रखता है. आंतरिक सुरक्षा के मद्देनजर भी अरुणाचल की राजनैतिक और सामाजिक स्थिरता काफी मायने रखती है...
अरुणाचल सामरिक दृष्टि से भारत के लिए काफी अहमियत रखता है. आंतरिक सुरक्षा के मद्देनजर भी अरुणाचल की राजनैतिक और सामाजिक स्थिरता काफी मायने रखती है.

कोई चारा न देखकर प्रदेश और केंद्र सरकार ने बीच का रास्ता निकालने का फैसला किया. तय किया गया है कि नागरिकता दे दी जाएगी. लेकिन उनके अधिकार सीमित होंगे. उन्हें अरुणाचल की मूल जनजातियों के बराबर अधिकार नहीं मिलेंगे. उन्हें जमीन पर मालिकाना हक भी नहीं मिलेगा. इनर लाइन परमिट मिल सकता है. इससे उन्हें नौकरी और यात्रा में सुविधा मिलेगी.

चकमा जनजाति के विकिपीडिया पेज पर किसी ने एडिटिंग करके भारत सरकार द्वारा रोहिंग्या मुस्लिमों को डिपोर्ट करने पर अपनी नाराजगी जताई है...
चकमा जनजाति के नाम पर एक विकिपीडिया पेज है. किसी ने यहां एडिटिंग करके चकमा , हाजोंग को नागरिकता देने और रोहिंग्या को डिपोर्ट करने के फैसलों की तुलना की है.

कौन हैं रोहिंग्या मुसलमान, जो जान बचाने के लिए यहां वहां भाग रहे हैं


ये भी पढ़ें:

1,000 से ऊपर मुसलमान मार दिए गए हैं और कहीं ये खबर नहीं बताई गई

इन 40,000 मुसलमानों को भारत से भगाया क्यों जा रहा है?

‘अगर मैं बांग्लादेशी या अमेरिकन होती तो कभी मेरा रेप नहीं होता’

रोहिंग्या मुसलमानों की मदद कर मिसाल पेश कर रहे ये लोग

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.