Submit your post

Follow Us

राजा भरत की थी 'बागबान' फैमिली

दुष्यंत ओर शकुंतला की कहानी तो आपको याद  होगी. फिर भी एक डिटेल्ट रीकैप दे देते हैं. दुष्यंत एक भोकाली राजा था ओर शकूंतला ऋषि विश्वामित्र और अप्सरा मेनका की बेटी थी. दोनों का मिलन हुआ ऋषि कण्व के आश्रम के पास, जिन्होंने शकुंतला को पाला था. हुआ इश्क और शकुंतला हो गई प्रेगनेंट. दुष्यंत निकले परदेसी, साथ क्या निभाते. बेटा भरत बड़ा हुआ बिना पापा के.
भरत बना राजा. रानियां थीं तीन. पर कोई भी बेटा उसे राजा बनने लायक नहीं लगता था. पत्नियों को लगा कि भरत गुस्साकर गोली न मार दें तो तीनों ने अपने अपने बच्चों को घर से रुखसत कर दिया.
इधर देवों में अलग भसड़ कटी हुई थी. बृहस्पति के भाई उतथ्य की वाइफ ममता प्रेगनेंट थी. बृहस्पति आउट ऑफ कंट्रोल हो गए और भाई की वाइफ के साथ जोर जबरदस्ती कर दिए. जब ममता की डिलिवरी हुई तो बृहस्पति और उतथ्य के बीच मैटर हो गया कि बच्चे का बाप कौन है. मां ने भी बच्चे को बृहस्पति की रिस्पॉन्सिबिलिटी बताकर छोड़ दिया.
तब मरुद्रणों ने उस बच्चे को पाला पोसा. बच्चे का नाम हुआ भारद्वाज. बाद में उसे भरत ने अडॉप्ट कर के राजा बना दिया.
स्रोतः श्रीमद्भागवत महापुराण

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

आज इस जादूगर की बरसी है.

चाचा शरद पवार ने ये बातें समझी होती तो शायद भतीजे अजित पवार धोखा नहीं देते

शुरुआत 2004 से हुई थी, 2019 आते-आते बात यहां तक पहुंच गई.

रिव्यू पिटीशन क्या होता है? कौन, क्यों, कब दाखिल कर सकता है?

अयोध्या पर फैसले के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड रिव्यू पिटीशन दायर करने जा रहा है.