Submit your post

Follow Us

वो वर्ल्ड कप, जिसे जीता ब्राज़ील ने, लेकिन इतिहास में दर्ज हो गया जर्मन गोलकीपर

साल 2002. जनवरी महीने में भारत ने 40 साल बाद चाइना तक सीधी फ्लाइट्स चलाने को मंजूरी दी. लंबी राजनयिक वार्ताओं के बाद यह फैसला लिया गया. एशिया के इतिहास में इसे लैंडमार्क फैसलों में शामिल किया जा सकता है. एशिया के दो सबसे ज्यादा आबादी वाले देश फिर से मित्रता के रास्ते पर चल रहे थे. इधर एशिया में एक और लैंडमार्क चीज घटने वाली थी. इसी साल मई-जून में होने वाला था FIFA वर्ल्ड कप. पहली बार एशिया में आए इस टूर्नामेंट को होस्ट करने वाले देश थे साउथ कोरिया और जापान.

यह वर्ल्ड कप कई मायनों में खास था. पहली बार यह अमेरिका या यूरोप से बाहर हो रहा था. साथ ही पहली बार इसे दो देश संयुक्त रूप से आयोजित कर रहे थे. इसी वर्ल्ड कप से चाइना, इक्वाडोर, सेनेगर और स्लोवेनिया ने अपना वर्ल्ड कप डेब्यू भी किया. लेकिन इनसे पहले डेब्यू किया फीवरनोवा ने. एडिडास की बनाई इस फुटबॉल ने शुरुआत में खूब चर्चा और बाद में उतना ही अपयश बटोरा. ख़ैर, इसकी बात बाद में करेंगे, अभी टूर्नामेंट पर लौटते हैं.

# बदले की ताक में ब्राज़ील

साल 1998 के फाइनल में हारी ब्राज़ील इस बार चूकना नहीं चाहती थी. उनकी टीम के चार R विश्वविख्यात थे. फॉरवर्ड लाइन में रोनाल्डो, रिवाल्डो और रोनाल्डीनियो और उनके साथ डिफेंस में रॉबर्टो कार्लोस. पिछली बार की चैंपियन फ्रांस से लोगों को बहुत उम्मीद थी, लेकिन सब टूट गईं. फ्रेंच टीम इस वर्ल्ड कप में एक भी मैच नहीं जीत पाई और पहले ही राउंड में खेत रही. फ्रेंच प्लेयर्स का प्रदर्शन इतना बुरा रहा, इतना बुरा रहा कि वे तीन मैचों में एक गोल नहीं कर पाए.

इधर ब्राज़ील ने अपना हर मैच ऐसे खेल रही थी, मानो पिछले फाइनल की हार का बदला सबसे लेना है. टर्की, चाइना और कोस्टा-रिका को पीटकर ब्राज़ील धूमधाम से अगले राउंड में पहुंचा.


इधर जर्मनी के लिए खेलने वाले मिरोस्लाव क्लोसे नाम के युवा स्ट्राइकर ने अलग गदर काट रखा था. क्वॉलिफेशन में गोल बरसाने के बाद भाई ने पहले ही मैच में मुंड-हैटट्रिक मार दी. अरे मुंड माने खोपड़ी से, वही वाले गोल जिनको फुटबॉल में ‘हेडर’ कहा जाता है. भाई ने सउदी अरब के खिलाफ तीन गोल मारे, तीनो मुंडी से. जर्मनी ने मैच 8-0 से जीता. जर्मन टीम भी ग्रुप टॉप कर अगले राउंड में आई.

# आगे बढ़ती जर्मनी

नॉकआउट स्टेज में ब्राज़ील ने बेल्जियम को 2-0, इंग्लैंड को 2-1 और टर्की को 1-0 से हराकर फाइनल में एंट्री की. इधर जर्मनी ने पराग्वे, अमेरिका और साउथ कोरिया को 1-0 के समान अंतर से हराया. फाइनल हुआ 30 जून को, जापान के शहर योकोहामा में. जर्मनी ने पूरे वर्ल्ड कप में सिर्फ एक गोल खाया था. उनके गोलकीपर ओलिवर कान घर-घर में पहचाने जाने लगे थे. आलम ये था कि गली क्रिकेट के विकेटकीपर भी खुद को कान बुलाया जाना पसंद करने लगे थे.

पूरी उम्मीद थी कि फाइनल बराबरी का होगा. उम्मीद हो भी क्यों ना, रोनाल्डो के छह गोल्स के जवाब में जहां क्लोसे थे, वहीं कान को टक्कर देने के लिए ब्राज़ील के पास मार्कोस थे ही. उस वर्ल्ड कप का फाइनल खेली जर्मन टीम को वर्ल्ड कप इतिहास की सबसे घटिया फाइनलिस्ट कहा जाता है. दस्तावेज उठाकर देखिए, यही लिखा मिलेगा कि ओलिवर कान न होते, तो जर्मनी वर्ल्ड कप फाइनल नहीं खेल पाता.

दूसरी ओर मार्कोस का कमाल ब्राज़ीली R चौकड़ी के आगे अनदेखा रह गया. ख़ैर, फाइनल शुरू हुआ. 32 टीमों के साथ शुरू हुआ वर्ल्ड कप अब दो प्लेयर्स की जंग बनकर रह गया था. ब्राज़ीली रोनाल्डो बनाम जर्मन कान. मैच का पहला पूरा हाफ बीत गया, ओलिवर कान रावण की सभा में अंगद बने डटे रहे. ब्राज़ीली टीम की तमाम कोशिशें नाकाम रहीं. दूसरा हाफ शुरू हुआ. इसके 21 और कुल 66 मिनट तक पूरा ब्राज़ील मिलकर कान को हिला नहीं पाया.

# खेत रहे द ‘टाइटन’

लेकिन हर चट्टान के जीवन में वो दिन आता है, जब उसे टूटना पड़ता है. ऐसा ही हुआ. मैच के 67वें मिनट में रिवाल्डो ने काफी दूर से एक शॉट लिया. कैमरे की नज़र से लगा कि इसे तो कान बेहद आसानी से रोक लेंगे, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. बॉल आई और कान के हाथों से छिटक सीधे रोनाल्डो के पैरों पर गिर गई. रोनाल्डो के पैरों पर बॉल गिराने का मतलब यूट्यूब फैन के सामने टिकटॉक की बड़ाई कर देना. बस, रोनाल्डो ने फट से बॉल को कान के पीछे गोल में धकेल दिया.

यह बहुत बड़ी ग़लती थी और कान को इसका अंदाजा हो गया था. इस गोल के कुछ ही मिनट बाद, मैच का 79वां मिनट. जर्मन डिफेंडर्स की सुस्ती का पूरा फायदा उठाकर रोनाल्डो ने मैच का दूसरा गोल दाग दिया. जर्मनी एक भी गोल नहीं कर पाई. ब्राज़ील वर्ल्ड चैंपियन बन गया. मैच के बाद अपने गोलपोस्ट पर निराश बैठे कान की तस्वीर अमर हो गई. हर फुटबॉल प्रेमी को निराश ओलिवर कान की वह तस्वीर ताउम्र याद रहेगी. बाकी दुनिया तो इस वर्ल्ड कप से रोनाल्डो की हेयरस्टाइल ही याद रखती है.

बाद में कान को गोल्डेन बॉल मिली. यह फुटबॉल वर्ल्ड कप में बेस्ट प्रदर्शन करने वाले प्लेयर को दी जाती है. ‘द टाइटन’ के नाम से मशहूर रहे कान यह गोल्डेन बॉल जीतने वाले इकलौते गोलकीपर हैं. कान ने इस वर्ल्ड कप में गोल्डेन ग्लव्स भी जीते थे. यह टूर्नामेंट के बेस्ट गोलकीपर को मिलने वाला सम्मान है. कान यह डबल जीतने वाले इकलौते गोलकीपर भी हैं.


वो बच्चा, जो 21 की उम्र में ‘कौड़ियों’ में बिककर इटली आया, 25 में सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर बन गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

चीन और जापान जिस द्वीप के लिए भिड़ रहे हैं, उसकी पूरी कहानी

आइए जानते हैं कि मामला अभी क्यों बढ़ा है.

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.