Submit your post

Follow Us

कविता की प्रतीक्षा में कितने युग व्यतीत हुए

प्रसिद्ध हिंदी फिक्शन लेखक, कवि, गीतकार और स्क्रिप्ट राइटर डॉ. दुष्यंत के पहले काव्य संग्रह (2005) पर ही उन्हें राजस्थानी अकादमी द्वारा पुरस्कार मिला था. मूलतः किसान परिवार से संबंध रखने वाले दुष्यंत साहित्यिक पत्रिका के ‘शब्दक्रम’ के संस्थापक और संपादक रह चुके हैं. उनकी कहानियों का पहला संग्रह जुलाई की एक रात,  जून 2013 में पेंगुइन ने प्रकाशित किया. डॉक्टर दुष्यंत कई नौकरियां करने और छोड़ने के बाद 2007 में राजस्थान पत्रिका समूह के ‘डेली न्यूज़’ में शामिल हो गए थे और बाद में लगभग एक दशक तक ‘रविवार’ के विशेषांक के प्रमुख रहे. गीतकार के रूप में उनका ‘एमटीवी साउंड ट्रिपिन’ के लिए लिखा एक गीत और रणदीप हुड्डा अभिनीत फ़िल्म ‘लाल रंग’ का ‘बावली बूच’ काफी सराहा गया है. आज एक कविता रोज़ में पढ़िए उनकी कविता-

 

ब्रह्मसूत्र भाष्य का विलुप्त पृष्ठ 

 

आकाश कुसुम की प्रतीक्षा में
वन्ध्यापुत्र की कल्पना सा!
कैसा अपरिचित हो जाता है कविता का लोक!

अग्नि की अंतिम यात्रा के उस प्रतिपल में
जब बोध होता होगा
इतना सुदीर्घ निरापद जीवन व्यतीत किया क्या व्यर्थ !

कोई जोगी करता होगा हस्तगत चिलम
अपने नवीनतम और प्रशिक्षु शिष्य को डांटते हुए!
जैसे कभी स्वप्न में आकर डांटा होगा
महर्षि बादरायण ने शंकर दा को!

उस क्षण लौटती होगी चेतना
शृंगेरी के मठ के निकट बहती तुंगा नदी का प्रवाह
शंकर के शास्त्रार्थ का साक्षी बना होगा

और वो नदी
गंगा से अधिक सौभाग्यशाली!
और सहचरी नदी भद्रा मौन विरल, निरंतर।
तभी जन्मी होगी कोई कविता
देश की परिधि से परे
देह की परिधि में आवृत्त!
‘जला है जिस्‍म जहां, दिल भी जल गया होगा ‘!

कितना अभूतपूर्व था
जोगी के श्रीमुख से भाष्य पाठ के उपरांत पृथ्वी का कंपन!
जैसे कांपते होठों से अंगारे रखे हों
प्रिय की देह पर
गरजते मेघों की ध्वनि के बीच किसी वर्षा की रात्रि पर्जन्यवत् !

और प्रकंपित पृथ्वी के छोर पर
विद्रोही जोगी भोग कर गया होगा
मांसल प्रेम का परम बोधि क्षण!
परमपद की नाव
हिचकोले खाती हुई लगी होगी पार समय के!
युगबोध सिमट गया होगा
एक लौकिक क्षण में हठात्!

एक जोगन आई होगी किसी अज्ञात द्वीप से
पृथ्वी के अंतिम छोर से
लिखने कोई गीत अपने अधरों से!
जोगी की श्यामल, केशित पीठ के किनारों पर
लिखे होंगे मधुर बंध!
प्रत्येक बंध की स्मृति
एक चिन्ह शेष रहा होगा
दंतपंक्ति का निर्मल, उज्ज्वल अवशेष
लालिमावत् सूर्यास्त की!
वह ठिठकी हुई श्वास का गीत
रात के किसी प्रहर तानपुरे पर बजता हुआ !

जोगी ने कहा –
सुनो, क्षण की नियति है
सांस के अंश से महाभूत हो जाना!
जोगन ने निशब्द कहा –
महसूस करो! बिन्दु की नियति है
ब्रह्मांड का बीज हो जाना!

दो देहों का संयुक्त अनुभव :
अधरों के संयोग से पृथ्वी का विराट चुंबन!
सानिध्य का वैभव कल्पनातीत!
और यह केलि-प्रसंग
ऐतिहासिक प्रमाणों से सर्वथा परे!
चतुर्दिक एक स्मृति- व्योम!

कवियों को कहां तनिक विराम, विश्राम?
उनका जीवन है सतत प्रयोजन, अपलक दर्शन
सर्वक्षण बोध कालातीत!
कवि कहां कर पाते हैं ‘नेति नेति’ कहके
शब्दों से प्रस्थान!
सिखा देते शंकर दा उन्हें कदाचित्!

सरस्वती नदी के तट पर रचा होगा अनुष्टुप
उत्तरकथा स्वरूप।
इस तट के आदि‍ सृजन – प्रथमवेद को
किया होगा अर्पित!
तदंतर,
कविता की प्रतीक्षा में
कितने युग व्यतीत हुए
कितने प्रकाशवर्ष दूर!

अनंतिम प्रेम की अंतिम कविता
सचमुच अपरिचय का काव्यशास्त्र रचती है!
अपरिचय प्रतीक्षा का महाकाव्य!
संयोग और संभोग
कहीं विस्तृत मध्य में,
अस्तित्व के धूसर अक्षरों का
कोलाज होते हैं सदियों के माथे पर!


कुछ और कविताएं यहां पढ़िए:

‘पूछो, मां-बहनों पर यों बदमाश झपटते क्यों हैं

‘ठोकर दे कह युग – चलता चल, युग के सर चढ़ तू चलता चल’

मैं तुम्हारे ध्यान में हूं!

जिस तरह हम बोलते हैं उस तरह तू लिख

‘दबा रहूंगा किसी रजिस्टर में, अपने स्थायी पते के अक्षरों के नीचे’


लल्लनटॉप कहानियों को खरीदने का लिंक: अमेज़न 

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

सौरव गांगुली पर क्विज़!

सौरव गांगुली पर क्विज़. अपना ज्ञान यहां चेक कल्लो!

चीन और जापान जिस द्वीप के लिए भिड़ रहे हैं, उसकी पूरी कहानी

आइए जानते हैं कि मामला अभी क्यों बढ़ा है.

भारतीयों के हाथ में जो मोबाइल फोन हैं, उनमें चीन की कितनी हिस्सेदारी है

'बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स' के ट्रेंड्स के बीच ये बातें जान लीजिए.

कॉन्ट्रोवर्सियल पेंटर एमएफ हुसैन के बारे में कितना जानते हैं आप, ये क्विज खेलकर बताइये

एमएफ हुसैन की पेंटिंग और विवाद के बारे में तो गूगल करके आपने खूब जान लिया. अब ज़रा यहां कलाकारी दिखाइए.

'हिटमैन' रोहित शर्मा को आप कितना जानते हैं, ये क्विज़ खेलकर बताइए

आज 33 साल के हो गए हैं रोहित शर्मा.

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.