Submit your post

Follow Us

पिटीं, यौन शोषण हुआ, फिर भी कितनी हिम्मती हैं वेश्याओं की ये बेटियां

इंडिया में वैश्यावृत्ति गैर कानूनी है. उनके साथ यौन उत्पीड़न और मारपीट रोज़ की बात है. जो ग्राहक आता है, कोई जरूरी नहीं है कि वो कॉन्डम पहनने को राजी हो जाए. ऐसे में सेक्स वर्कर्स को यौन संबंधी बीमारियां होने का खतरा बना रहता है.वेश्या अगर प्रेगनेंट हो जाए, ग्राहकों के लिए वो ‘किसी काम की नहीं रह जाती’. फिर भी कुछ हैं जो प्रेगनेंसी के बावजूद काम करती रहती हैं. क्योंकि उन्हें पैसों की सख्त जरूरत होगी.

सेक्स वर्कर्स
एक रेड लाइट एरिया में सेक्स वर्कर्स (सोर्स: रॉयटर्स)

कहते हैं रेड लाइट इलाकों में लड़कों के पैदा होने से ज़्यादा लड़कियां के पैदा होने पर खुशी होती है. आज भी हमारे समाज में ऐसे लोग हैं जिन्हें लड़के या लड़की के पैदा होने पर बराबर खुशी नहीं होती. रेड लाइट इलाकों में या तो लड़की का जन्म ऐसा माना जाता है कि एक और सेक्स वर्कर पैदा हो गई, या उसे नई आशा की किरण की तरह देखा जाता है.

इन सेक्स वर्कर्स की बेटियों को आवाज़ मिली ‘रेड लाइट एक्सप्रेस’ से’.

लाल बत्ती एक्सप्रेस

क्रांति एक NGO है. ये NGO लड़कियों को सशक्त बनाने की दिशा में काम करता है. ये लड़कियां मुंबई के रेड लाइट इलाकों में रहती थीं. क्रांति से जुड़ने के बाद से ये सामाज में बदलाव लाने की दिशा में काम कर रही हैं. इन्होंने मिलकर 'रेड लाइट एक्सप्रेस' नाम का एक ग्रुप बनाया. इस ग्रुप ने लंदन के एडिनबर्ग फ्रिंज में परफॉर्म किया, जिसे दुनिया का सबसे बड़ा आर्ट फ़ेस्टिवल माना जाता है.
क्रांति एक NGO है. ये NGO लड़कियों को सशक्त बनाने की दिशा में काम करता है. ये लड़कियां मुंबई के रेड लाइट इलाकों में रहती थीं. क्रांति से जुड़ने के बाद से ये सामाज में बदलाव लाने की दिशा में काम कर रही हैं. इन्होंने मिलकर ‘रेड लाइट एक्सप्रेस’ नाम का एक ग्रुप बनाया. इस ग्रुप ने लंदन के एडिनबर्ग फ्रिंज में परफॉर्म किया, जिसे दुनिया का सबसे बड़ा आर्ट फ़ेस्टिवल माना जाता है.

15 लड़कियां हैं. इनकी उम्र 15 से 22 के बीच में हैं और हर एक की मां सेक्स वर्कर है. ये शो करके सबके सामने अपनी कहानियां बयां करती हैं. इन्होंने न सिर्फ़ एडिनबर्ग फ्रिंज में परफॉर्म किया है बल्कि लंदन के कम्यूनिटी सेंटर्स और चर्च में भी परफ़ॉर्म किया है. ये शो एक रेल यात्रा के रूप में होता है. इसमें हर लड़की अपनी-अपनी कहानी सुनाती है, जिसमें उनके रेड लाइट एरिया में पैदा होने का ज़िक्र होता है.

इनके अनुभव

सेक्स वर्कर की बेटी होने के कारण इन्हें कई मुसीबतों का सामना करना पड़ा. यौन उत्पीड़न न सिर्फ़ इनकी मां के लिए बल्कि इनके लिए भी रोज़ की बात थी. इनमें से कुछ के साथ बचपन में रेप हुआ. या तो उन लोगों ने किया जो असलियत में तो इनके पिता नहीं थे, लेकिन इनकी मां उन्हें इनका पिता बनाकर लाई थीं. या फिर किसी बाहरी व्यक्ति ने रेप किया. ये सोचकर रेप किया कि एक सेक्स वर्कर की बेटी भी सेक्स वर्कर होगी.

kranti
लाल बत्ती एक्सप्रेस की परफॉर्मेंस

बीबीसी की एक डॉक्यूमेंट्री में 21 साल की संध्या ने आपबीती बताई है. वो जिस रेड लाइट इलाके में पैदा हुई, वहां उसे कभी खतरा महसूस नहीं हुआ. उसे डर हमेशा इससे बाहर की दुनिया से लगा. 10 साल की उम्र में उसका रेप हो गया. लोगों ने स्कूल में उसके साथ हमेशा भेदभाव किया. वो बताती है कि लोग उसकी मां के सेक्स वर्कर होने और उसके दबे रंग की वजह से उसे बहुत छेड़ते थे.

स्कूल के उलट सेक्स वर्कर्स की कम्यूनिटी में लोग उसे बहुत प्यार देते थे. हर दूसरी औरत उसे उसकी मां से कम प्यार नहीं देती थी.

‘मेरा बैकग्राउंड कभी मेरी कमज़ोरी नहीं बन सकता’

रानी 16 साल की है. एक सेक्स वर्कर की बेटी है. बचपन में जिस दिन उसके पिता की मौत हुई, उसी शाम उसकी मां एक आमदी को घर ले आई और कहा अब ये तुम्हारे पिता हैं. उसके बाद दो साल तक न सिर्फ उसकी मां ने बल्कि उसने भी ‘पिता’ की बहुत मार सही. फिर वो ‘क्रांति’ NGO से जुड़ गई. रानी कहती है कि वो तो निकल आई लेकिन आज भी उसकी मां रोज़ उस आदमी की मार खाती होगी.

लेकिन इस पर रानी मानती है कि खुद को या दूसरों को देने के लिए माफ़ी दुनिया का सबसे बेहतरीन तौफ़ा है. उसने अपने मां और ‘पिता’ को माफ़ कर दिया है और वो ज़िंदगी में आगे की तरफ़ देख रही है.

लाल बत्ती एक्प्रेस ग्रुप की मेंबर्स
लाल बत्ती एक्प्रेस ग्रुप की मेंबर्स

‘मैं गाना चाहती हूं’

कविता ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया को बताया कि वो एक सूफ़ी सिंगर बनना चाहती थी. लेकिन वो बस चार साल की थी जब उसके पिता की मौत हो गई. इसके बाद घर के हालात ऐसे नहीं रहे कि वो अपने सपनों को पूरा कर पाती. लेकिन अब जब वो लाल बत्ती एक्सप्रेस का हिस्सा है. तो अपना सपना जीती है. लोगों को अपने साथ बीती कहानी सुनाती है. कविता ने ब्रिटेन की सेक्स वर्कर्स से भी बात की है. वो कहती है कि दोनों ही जगह संघर्ष एक जैसा है. कुछ तो खुद इस काम में शामिल हुईं और ज़्यादातर को इसमें धकेला गया.

क्रांति इन लड़कियों को बचपन में लगे सदमें से बाहर निकालने के लिए इनकी काउंसिलिंग भी करवाता है. जो कुछ भी इनके साथ हुआ वो बदल तो नहीं सकता. लेकिन इससे इनकी आज और आगे की ज़िंदगी बेहतर हो गई है. ये लड़िकियां न सिर्फ़ अपनी ज़िंदगी बदल रही हैं बल्कि दूसरों को लिए भी प्रेरणा बन रही हैं. ये अपनी पहचान को लेकर बिलकुल भी शर्मिंदा नहीं हैं, बल्कि जो इन्हें लेकर ग़लत सोच रखते हैं उन्हें शर्मिंदा होने की ज़रूरत है. इन पर हुए अत्याचर इन्हें रोक नहीं सकते.

 

ये आर्टिकल टीना ने अंग्रेज़ी में लिखा है और इसे रुचिका ने हिंदी में ट्रान्सलेट किया है.


ये भी पढ़ें:

असम में एक 12 साल की बच्ची का रेप हुआ है, मीडिया में हवा तक नहीं है

नागालैंड में चल रहे सियासी घमासान के पीछे इस महिला का हाथ है

उन्हें लूटा, पीटा, रेप कर प्रेगनेंट किया जाता है, फिर भी वो आपकी स्मृति में नहीं रह पातीं

इस वीडियो में जो बात सबसे ज्यादा परेशान करने वाली है, उसे कम ही लोग देख पाएंगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

'द्रविड़ ने बहुत नाजुक शब्दों से मुझे धराशायी कर दिया था'

रामचंद्र गुहा की किताब 'क्रिकेट का कॉमनवेल्थ' के कुछ अंश.

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

पहले स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर की कहानी, जिनका सबसे हिट रोल उनके लिए शाप बन गया

शुद्ध और असली स्पाइडरमैन टोबी मैग्वायर करियर ग्राफ़ बाद में गिरता ही चला गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.