Submit your post

Follow Us

500 बच्चों की सेना बनाकर पूरा चिटगांव आज़ाद करवा लिया था इस आदमी ने

2012 के अपने कन्वोकेशन में कोलकाता यूनिवर्सिटी ने दो लड़कियों को मरणोपरांत डिग्री दी थी. ये लड़कियां थीं बीना दास और प्रीतिलता वादेदार, जिनका ग्रेजुएशन 1930 में ही पूरा हो गया था. लेकिन इनकी डिग्री मिलने में 80 साल से ज़्यादा का समय लग गया था. इसकी वजह थी कि ये दोनों मास्टर सूर्य सेन की साथी थीं.

22 मार्च 1894 को पैदा हुए मास्टर सूर्य सेन चिटगांव विद्रोह के मास्टर माइंड थे. सूर्यसेन ने अपने कॉलेज के बच्चों और दूसरे क्रांतिकारियों के साथ एक सेना बनाई और 18 अप्रैल, 1930 को ब्रिटिश शस्त्रागार को लूट लिया. सूर्य ने कुछ दिनों तक चिटगांव को सिर्फ इन्हीं बच्चों के साथ मिलकर आज़ाद बनाए रखा. उनका ये विद्रोह अपने दुस्साह और प्लानिंग के कारण हिंदुस्तान के इतिहास में याद रखा जाता है.

प्रीतिलता वाद्देदार
प्रीतिलता वाद्देदार

सिर्फ हिंसा नहीं थी क्रांति

आज की तारीख में क्रांतिकारियों के बारे में कई लोग भ्रम पाले हुए हैं. उन्हें लगता है कि सभी क्रांतिकारी जेब में पिस्टल और झोले में बम लेकर चलते थे. जहां अंग्रेज़ दिखे, वहीं गोली चला दी. ये सबसे बड़ा भ्रम है. सशस्त्र क्रांति से जुड़े ज़्यादातर क्रांतिकारी दर्शन और राजनीति शास्त्र के अच्छे जानकार थे. साथ ही, इनका ज़्यादातर समय आंदोलनों, प्रदर्शनों में बीतता था. सूर्य सेन कांग्रेस से जुड़े रहे. अनुशीलन समिति की स्थापना की.

बेहतरीन स्ट्रैटजिस्ट

सूर्य सेन का विद्रोह प्लानिंग के स्तर पर बहुत अच्छा था. सेन ने 500 बच्चों की फौज बनाई. कुछ लोगों को ब्रिटिश अफसर बनाकर बैरकों में भेजा. इनके एक साथी लोकनाथ बल को ब्रिटिश सेना ने नया आया अफसर समझकर सलामी भी दी. इन लोगों ने शस्त्रागार पर कब्ज़ा किया और कम्युनिकेशन की सारी चीज़ें खत्म कर दीं. टेलीग्राम के तार, रेलवे लाइन, सब कुछ रोक दिया. सेन की मिलिट्री स्किल्स का एक और नमूना है कि एक तरफ सेना और एक तरफ कॉलेज के लड़के थे. फिर भी 80 सैनिक मारे गए, जबकि कुल 12 क्रांतिकारी शहीद हुए.

3
मुठभेड़ के बाद मारे गए क्रांतिकारी

फरारी और धोखा

चिटगांव को आज़ाद कराने से बड़ी चुनौती से उसे आजाद बनाए रखना, इसलिए सूर्य सेन अपने साथियों के साथ भाग निकले. एक-एक करके कई लोग पकड़े गए या मारे गए. जिन प्रीति लता को कोलकाता यूनिवर्सिटी ने 80 साल बाद डिग्री दी, उन्होंने भी साइनाइड खाकर जान दे दी. सेन 3 साल तक बचते रहे. फिर 1933 में उनके दोस्त नेत्र सेन ने सूर्य सेन को पकड़वा दिया. इसके अगले ही दिन किसी क्रांतिकारी ने नेत्र सेन का गला उनकी पत्नी के सामने काट दिया. पुलिस नेत्र सेन की पत्नी से उस आदमी का नाम पूछती रही, मगर उन्होंने कभी वो नाम नहीं बताया.

बुरी तरह टॉर्चर

पकड़े जाने के बाद सूर्य सेन को बुरी तरह से टॉर्चर किया गया. हथौड़े से उनके सारे दांत तोड़ दिेए गए. नाखून निकाल दिए गए. सारे जोड़ तोड़ दिए गए. बेहोशी की हालत में घसीटते हुए ले जाकर फांसी पर लटका दिया गया. इसके बाद लाश को एक बक्से में बंद करके बंगाल की खाड़ी में फेंक दिया गया.

इससे कुछ ही समय पहले सूर्य सेन ने एक दोस्त को खत में लिखा था:

‘मौत मेरे दरवाजे पर दस्तक दे रही है… मैं खुश हूं… मैंने तुम लोगों के लिए पीछे क्या छोड़ा… एक सपना. आज़ादी का सपना… उम्मीद है कि 18 अप्रैल, 1930 की तारीख तुम लोग कभी नहीं भूलोगे.’


ये भी पढें:

वो क्रांतिकारी जिसकी धरपकड़ के लिए अंग्रेजों ने पूरी CID लगा रखी थी

गांधी जी से नहीं इस नेता से डरते थे अंग्रेज, लॉर्ड क्लीमेंट एटली ने ख़ुद किया था ख़ुलासा

‘अंग्रेजी मैया का दूध पियो, वही पोसती है शूद्रों को’

वीडि‍यो: बेअंत सिंह की मौत की कहानी उनके पोते की ज़ुबानी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

कहानी 'मनी हाइस्ट' के 'बर्लिन' की, जिनका इंडियन देवी-देवताओं से ख़ास कनेक्शन है

कहानी 'मनी हाइस्ट' के 'बर्लिन' की, जिनका इंडियन देवी-देवताओं से ख़ास कनेक्शन है

'बर्लिन' की लोकप्रियता का आलम ये था कि पब्लिक डिमांड पर उन्हें मौत के बाद भी शो का हिस्सा बनाया गया.

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

10 साल पहले भी शाहरुख़ का समीर वानखेड़े से सामना हुआ था, समीर ने ठोका था तगड़ा जुर्माना

जगह थी मुंबई एयरपोर्ट. अब दस साल बाद फिर से दोनों का नाम एक साथ सुर्ख़ियों में है.

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.