The Lallantop
Logo
लल्लनटॉप का चैनलJOINकरें

'How to Kill Your Husband' लिखने वाली राइटर पर पति की हत्या का केस दर्ज हो गया

साल 2018 में लेखिका नैंसी क्रैम्प्टन ब्रोफी के पति की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

post-main-image
बाईं तरफ़ कास्टडी में लेखिका नैंसी क्रैम्प्टन ब्रोफी और दाईं तरफ़ सांकेतिक फोटो

अमेरिका की रहने वाली नैंसी क्रैम्प्टन. राइटर हैं. अब उन पर एक केस शुरू हो गया है. उन पर अपने पति डेनियल ब्रोफी की हत्या का आरोप है. दरअसल नैंसी ने 2011 में एक लेख लिखा था, जिसका टाइटल था- How to murder your husband यानी अपने पति की हत्या कैसे करें. इसके छपने के सात साल बाद उनके पति डेनियल ब्रोफी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

नैंसी क्रैम्प्टन एक चर्चित रोमांस राइटर हैं. 2 जून, 2018 को उनके पति डेनियल ब्रोफी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. डेनियल पेशे से शेफ थे. 63 साल के थे. जिस वक्त गोली चली वो वो ऑरेगॉन में एक कलिनरी इंस्टीट्यूट में थे. कलिनरी इंस्टीट्यूट्स में खाना बनाने की कला सिखाई जाती है. 5 सितंबर को पुलिस ने नैंसी को गिरफ्तार किया. और तीन साल बाद अप्रैल 2022 में इस मामले की कोर्ट में सुनवाई शुरू हुई है.

रुपयों के लिए पति की हत्या का आरोप?

घटना के बाद पुलिस ने मौके की तलाशी ली. देखा कि डेनियल के शरीर में और मौके पर किसी भी तरह के संघर्ष के निशान नहीं थे. इसके साथ ही उनका पर्स, फोन और गाड़ी की चाभियां सबकुछ सलामत थी. पुलिस ने घटना वाले दिन की CCTV फुटेज खंगाली. फुटेज में नैंसी की कार घटना वाली जगह के पास से आती और जाती दिख रही है.

Cctv

डेनियल की हत्या के समय उनकी पत्नी नैन्सी को वहीं आस पास के इलाके में देखा गया. (सांकेतिक फोटो)

पुलिस को नैंसी पर शक हुआ और शक के आधार पर उसे गिरफ्तार कर लिया गया. हत्या की बात होती है तो हत्या के मोटिव का सवाल उठता है. प्रोसीक्यूशन लॉयर ने नैंसी पर आरोप लगाया कि उन्होंने अपने पति के इंश्योरेंस के पैसों के लालच में उनकी हत्या की. उनके मुताबिक, डेनियल की मौत के बाद इंश्योरेंस के तौर पर नैंसी को 1.4 मिलियन डॉलर यानी करीब 10 करोड़ रुपये मिलने वाले थे.

हालांकि, नैंसी ने खुद पर लगे आरोपों को मानने से इनकार किया है

---------------------------------------------------------------------------

वीडियो - मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी ने नए सवाल उठाए, कहा - आरोपी गोरखपुर पुलिस को ही क्यों मिलें ?