Submit your post

Follow Us

अफगानिस्तान में तालिबान के समर्थन में जो देश सामने आए हैं, उनमें कुछ के नाम चौंकाने वाले हैं!

अफगानिस्तान में तालिबान ने अपने पांव पूरी तरह जमा लिए हैं. अमेरिका समर्थित अफगानी सरकार गिरने के बाद तालिबान ने 15 अगस्त को राजधानी काबुल पर कब्जा कर लिया. इसके चलते राष्ट्रपति अशरफ गनी को देश छोड़कर भागना पड़ा. देश में अफरातफरी का आलम है. अफगानिस्तान का हाल देखकर दुनिया के तमाम देश आशंकाओं से सहमे हुए हैं. तालिबान (Taliban) का पुराना रिकॉर्ड इन आशंकाओं को बल दे रहा है. अमेरिका, ब्रिटेन, साउथ कोरिया, ऑस्ट्रेलिया, भारत समेत कई देशों ने अपने दूतावास एक तरह से बंद करके राजनयिकों को वापस बुला लिया है. लेकिन इसके बीच कई देश ऐसे भी हैं, जो तालिबान के समर्थन में खड़े हैं. आइए इनके बारे में जान लेते हैं. वीडियो देखिए.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

जमघट: सतीश चंद्र मिश्रा ने इंटरव्यू में मायावती, BJP, SP और UP चुनाव पर क्या बड़ा दावा किया?

स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ बसपा की अनबन पर क्या बोले सतीश चंद्र मिश्रा?

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले संजय निषाद का खास इंटरव्यू

सौरभ द्विवेदी और संजय निषाद के बीच कई मुद्दों पर चर्चा हुई

जमघट: यूपी चुनाव से पहले केशव देव मौर्य का खास इंटरव्यू

सौरभ द्विवेदी और केशव देव मौर्य के बीच किन मुद्दों पर चर्चा हुई?

चंद्रशेखर आजाद और अखिलेश यादव के बीच क्यों नहीं हो पाया गठबंधन?

सपा के ही सहयोगी ओम प्रकाश राजभर मध्यस्थता कर रहे थे

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले स्वतंत्र देव सिंह का इंटरव्यू

जानिए सौरभ द्विवेदी से स्वतंत्र देव सिंह ने इस खास बातचीत में क्या कहा.

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले ओम प्रकाश राजभर का इंटरव्यू

जानिए सौरभ द्विवेदी से ओमप्रकाश राजभर ने इस खास बातचीत में क्या कहा.

मायावती ने BSP उम्मीदवारों की सूची का ऐलान किया, कहा - उत्तर प्रदेश में बसपा की सरकार बनेगी!

अपने बर्थ-डे के मौके पर मीडिया को संबोधित किया

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले संजय सिंह का लल्लनटॉप इंटरव्यू

केजरीवाल और कुमार विश्वास पर क्या बोले संजय सिंह?

दी लल्लनटॉप शो

दी लल्लनटॉप शो: मुलायम की बहू BJP में, अखिलेश को फर्क क्यों नहीं पड़ रहा?

यादव परिवार में पड़ी फूट से सपा को नुकसान होगा?

दी लल्लनटॉप शो: पंजाब में भगवंत मान का दांव खेल क्या केजरीवाल कांग्रेस को दे पाएंगे टक्कर?

पंजाब की पॉलिटिक्स में क्या चल रहा है?

दी लल्लनटॉप शो: PM मोदी के SPG कमांडो को जाट, गुर्जर, यादव क्यों बताया गया?

एलॉन मस्क को भारतीय राज्यों ने क्या न्योता दिया?

दी लल्लनटॉप शो: अलवर रेप केस में अशोक गहलोत की पुलिस अब तक गुनहगारों को क्यों नहीं पकड़ पाई?

पुलिस ने फौरन गश्त पर जाकर बच्ची को क्यों नहीं ढूंढा ?

दी लल्लनटॉप शो: योगी की कैबिनेट से धड़ाधड़ हो रहे इस्तीफे, क्या अखिलेश यादव का माहौल बन रहा है?

क्या इन इस्तीफों का विधानसभा चुनावों में असर दिखेगा?

दी लल्लनटॉप शो: राष्ट्रीय युवा दिवस की बधाइयां देने वाले नेताओं और बेरोज़गार युवाओं से हमारा बड़ा सवाल

देश का युवा क्या सोशल मीडिया के राजनीतिक झगड़ों में फंस कर वक्त बर्बाद कर रहा है?

दी लल्लनटॉप शो: रोज़गार पर डेटा बताता है, चुनाव में वैकेंसी की बात करने वाले नेताओं ने आपसे झूठ कहा था

पिछले पांच सालों में नौकरियों क्यों नहीं दे पाए नेतागण?

दी लल्लनटॉप शो: तीसरी लहर के पीक की भविष्यवाणी हो गई, जनवरी में चढ़ेगी, इस महीने में खत्म हो जाएगी

क्या हमने बूस्टर डोज़ शुरू करने में देर कर दी?

पॉलिटिकल किस्से

अरूसा आलम और कैप्टन अमरिंदर सिंह के संबंधों पर सियासत क्यों हो रही है?

अरूसा को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI से भी जोड़ा जा रहा है.

एंटी CAA-NRC प्रोटेस्ट में गोली चलाने वाले गोपाल की महापंचायत में बोली बातें क्यों वायरल हुईं?

हरियाणा के पटौदी में हुई जनसभा में उसके भाषण का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

उत्तर प्रदेश के नेता जितिन प्रसाद, जो दो दशक से कांग्रेसी रहे और अब BJP में शामिल हो गए

2019 के बाद से ही जितिन प्रसाद की भाजपा से नजदीकियां बढ़ रही थीं.

असम का वो नेता, जिसके साथ हुई ग़लती को ख़ुद अमित शाह ने सुधारा था

अब वो राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है.

कैसे मुलायम सिंह ने अजित सिंह से यूपी के मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली?

अजित सिंह के लोकदल अध्यक्ष बनने की प्रक्रिया काफी विवादित रही थी.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बनने जा रहे एमके स्टालिन की कहानी फिल्म से कम नहीं

मद्रास शहर की थाउजेंड लाइट्स विधानसभा सीट से स्टालिन पहली बार चुनाव में उतरे.

केरल चुनाव में जीत के साथ पी विजयन ने 64 बरस पुराना कौन सा मिथक तोड़ दिया?

विजयन महज़ 26 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने थे.

अखिल गोगोई की कहानी, जिन्हें हाईकोर्ट ने जमानत देते वक्त कहा- सिविल नाफरमानी अपराध नहीं

नेतागिरी से दूर भागने वाले अखिल गोगोई जेल से ही चुनाव लड़ने पर मजबूर हुए.