Submit your post

Follow Us

शादी में थप्पड़बाजी करने वाले DM के साथ अब क्या हुआ?

त्रिपुरा का वेस्ट त्रिपुरा डिस्ट्रिक्ट. यहां के डीएम रहे शैलेष कुमार यादव (Shailesh Kumar Yadav) का एक वीडियो पिछले दिनों वायरल हुआ था. 26 अप्रैल को वो नाइट कर्फ्यू में अगरतला शहर के हालात देखने निकले थे. इस दौरान रात 10 बजे के बाद तक शादियां चल रही थीं. डीएम ने इन शादियों में छापा मारा. वायरल वीडियो में डीएम साहब पंडित को थप्पड़ मारते, दूल्हे को धकियाते और मेहमानों पर भड़कते नज़र आ रहे थे. कुछ पुलिसवाले भी इस वीडियो में दिख रहे थे, मेहमानों पर लाठीचार्ज करते हुए. आनन फानन में डीएम को छुट्टी पर भेज दिया गया, उसके बाद उन्हें डीएम पद से हटा दिया गया. अब त्रिपुरा हाईकोर्ट के आदेश के बाद उनका ट्रांसफर अगरतला से बेलोनिया में कर दिया गया है. देखें वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

UP चुनाव: कोरोना से परेशान आगरा की टूरिज्म और होटल इंडस्ट्री ने PM मोदी, CM योगी से क्या मांग की?

लल्लनटॉप अड्डा में पर्यटन और फुटवियर उद्योग के लोगों से बताईं अपनी समस्याएं.

UP चुनाव: बहराइच के इस सरकारी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे अलग लेवल के स्टार हैं

जैनब और सज्जाद अली का टेलेंट देखते ही रह जाएंगे.

UP चुनाव: बहराइच के घंटाघर में जुटे लोग संगीत सोम के बूचड़खाने का ज़िक्र क्यों करने लगे?

विधानसभा चुनाव में बहराइच का झुकाव कहां है?

UP चुनाव: राजा सुहेलदेव और गाजी मियां की लड़ाई की असली कहानी बहराइच की इस दरगाह में खुली

दरगाह के अधिकारी ने गाजी मियां का पूरा इतिहास बताया.

UP चुनाव: घाघरा नदी के कटान से बहराइच का एक गांव कैसे लुप्त हो गया?

कटान से परेशान इस गांव के लोगों ने सरकार से क्या मांग की?

UP चुनाव: विपश्यना ध्यान की संपूर्ण डीटेल आपको इस वीडियो में मिलेगी

श्रावस्ती के विपश्यना ध्यान केंद्र में लल्लनटॉप को क्या पता लगा?

UP चुनाव: लखीमपुर खीरी कांड का वो दिन, किसानों ने एक-एक कर सबकुछ बता दिया

लखीमपुर खीरी में किसानों को कौन रौंदते हुए गुजरा था?

UP चुनाव: अजय मिश्रा टेनी के गांव वालों ने लखीमपुर खीरी कांड पर किसानों को यह क्या कहा?

लखीमपुर खीरी कांड को लेकर बनबीरपुर ने कई अहम बातें बताई हैं.

दी लल्लनटॉप शो

दी लल्लनटॉप शो: भारत में ऑमिक्रोन आने से तीसरी लहर शुरू होने की आशंका?

बच्चों को वैक्सीन लगाने पर सरकार ने क्या कहा?

श्री कृष्ण जन्मभूमि मथुरा में 'शाही ईदगाह मस्जिद' की जगह मंदिर बना लेंगे केशव प्रसाद मौर्य?

हिंदुत्ववादी राजनीति की गोलबंदी के लिए मुद्दे की तलाश मथुरा पर होगी खत्म?

दी लल्लनटॉप शो: बांग्लादेश बॉर्डर पर तस्करों की गायों वाली ट्रिक चौंकने वाली है

BSF के नए नियम पर क्या मोदी सरकार सही है?

दी लल्लनटॉप शो: कृषि कानून वापस हुए, अब NRC और CAA को लेकर मोदी सरकार ने ये संकेत दिया

MSP पर कमेटी बनाने के लिए भी सरकार ने संयुक्त किसान मोर्चा से 5 नाम मांगे हैं.

दी लल्लनटॉप शो: जो ट्रॉमा सेंटर 6 लाख लोगों की जान बचा सकते थे, कब बनाएगी मोदी सरकार?

सड़कों हादसों को कैसे टाला जा सकता है?

दी लल्लनटॉप शो: कोरोना के नए वेरिएंट को अब तक का सबसे खतरनाक क्यों कहा जा रहा है?

भारत में तीसरी लहर आ सकती है?

दी लल्लनटॉप शो: भारत में आबादी अब बढ़ने के बजाय घटने लगेगी?

मुसलमानों पर आबादी बढ़ाने के आरोप कितने सही?

दी लल्लनटॉप शो: मोदी सरकार संसद में बिल लाकर क्रिप्टोकरेंसी को बैन करने वाली है?

इंदिरा गांधी पर क्या बोले यहां के लोग?

पॉलिटिकल किस्से

अरूसा आलम और कैप्टन अमरिंदर सिंह के संबंधों पर सियासत क्यों हो रही है?

अरूसा को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI से भी जोड़ा जा रहा है.

एंटी CAA-NRC प्रोटेस्ट में गोली चलाने वाले गोपाल की महापंचायत में बोली बातें क्यों वायरल हुईं?

हरियाणा के पटौदी में हुई जनसभा में उसके भाषण का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

उत्तर प्रदेश के नेता जितिन प्रसाद, जो दो दशक से कांग्रेसी रहे और अब BJP में शामिल हो गए

2019 के बाद से ही जितिन प्रसाद की भाजपा से नजदीकियां बढ़ रही थीं.

असम का वो नेता, जिसके साथ हुई ग़लती को ख़ुद अमित शाह ने सुधारा था

अब वो राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है.

कैसे मुलायम सिंह ने अजित सिंह से यूपी के मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली?

अजित सिंह के लोकदल अध्यक्ष बनने की प्रक्रिया काफी विवादित रही थी.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बनने जा रहे एमके स्टालिन की कहानी फिल्म से कम नहीं

मद्रास शहर की थाउजेंड लाइट्स विधानसभा सीट से स्टालिन पहली बार चुनाव में उतरे.

केरल चुनाव में जीत के साथ पी विजयन ने 64 बरस पुराना कौन सा मिथक तोड़ दिया?

विजयन महज़ 26 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने थे.

अखिल गोगोई की कहानी, जिन्हें हाईकोर्ट ने जमानत देते वक्त कहा- सिविल नाफरमानी अपराध नहीं

नेतागिरी से दूर भागने वाले अखिल गोगोई जेल से ही चुनाव लड़ने पर मजबूर हुए.