Submit your post

Follow Us

खराब फोन को ठीक करने की जिम्मेदारी आपकी, एप्पल, गूगल की ये तैयारी चलेगी?

Right To Education (शिक्षा का अधिकार), Right to Information (सूचना का अधिकार) जैसे शब्द आपने सुने ही होंगे. लेकिन Right to Repair आपने नहीं सुना होगा. अब आप कहोगे ये क्या बला है तो जनाब इसका संबंध आपके स्मार्टफोन, लैपटॉप और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक्स प्रोडक्ट्स से है. सीधे शब्दों में कहें तो आपकी जेब से वास्ता है राइट टू रिपेयर का. इतना जान लीजिए कि भले अभी आपने राइट टू रिपेयर का नाम नहीं सुना हो लेकिन इसका प्रभाव इतना तगड़ा है कि Apple, Samsung और Google जैसे दिग्गज कंपनियां इसकी जद में हैं. इसी मुहिम के चलते ये कंपनियां स्मार्टफोन खराब होने पर DIY(do it yourself) का ऑप्शन दे रही हैं. देखें वीडियो.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

केशव प्रसाद मौर्य को हराने वाली पल्लवी पटेल की कहानी जिनके खिलाफ उनकी बहन ने प्रचार किया

पल्लवी पटेल सपा की टिकट पर कौशांबी की सिराथू सीट से चुनाव लड़ी थीं.

UP में जीता मायावती का इकलौता विधायक कौन है, कहानी जान लेनी चाहिए

BSP का वो विधायक जो पार्टी से अकेला ही विधानभवन में बैठेगा.

योगी के कौन से 10 मंत्री हार गए, एक की हार तो सिर्फ 473 वोटों से हुई

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य समेत 10 मंत्री अपनी सीट नहीं बचा पाए हैं.

इलाहाबाद दक्षिण से नंद गोपाल गुप्ता नंदी फिर जीते, सपा के रईस चंद्र शुक्ला को इतने वोटों से हराया

प्रयागराज की यह विधानसभा भी हाई प्रोफाइल सीटों में गिनी जाती है.

UP में दो पति-पत्नी लड़े, एक तो बुरा हारे, दूसरे में पत्नी ने कैसे बचा ली सीट?

उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से बीजेपी की सरकार बन रही है.

यूपी में सपा की हार में अखिलेश ने क्या 'पॉज़िटिव पॉइंट' खोज लिया?

अखिलेश वोट प्रतिशत और सीटों में इजाफे को लेकर संतुष्ट नजर आ रहे हैं.

ओम प्रकाश राजभर की सीट पर क्या BJP के कालीचरण राजभर ने खेल कर दिया?

इस सीट पर बसपा ने शादाब फातिमा और कांग्रेस ने ज्ञान प्रकाश सिंह को चुनाव में उतारा था.

'यूपी छोड़ दूंगा' वाले बयान को लेकर लोगों ने मुनव्वर राणा को जमकर ट्रोल कर दिया!

चुनाव शुरू होने से पहले आया था मुनव्वर राणा का बयान.

दी लल्लनटॉप शो

दी लल्लनटॉप शो: सरकार महंगाई को लेकर अपनी ही नीति का पालन क्यों नहीं कर पा रही?

यूक्रेन का बहाना कब तक?

दी लल्लनटॉप शो: हेट स्पीच लॉ की सिफारिश 5 साल से लंबित, कानून बनाने में कहां दिक्कत आ रही है?

ओवैसी जूनियर को लेकर अदालत ने क्या फैसला दिया?

दी लल्लनटॉप शो: खरगोन में रामनवमी हिंसा पर नरोत्तम मिश्रा की कार्रवाई क्या सही है?

धार्मिक दंगे भारतवर्ष का पीछा कब छोड़ेंगे?

दी लल्लनटॉप शो: PM मोदी- जो बाइडन की बातचीत से रूस-यूक्रेन में सुलह होगी?

मुश्किल वक्त में भारत की विदेश नीति किस तरह आकार ले रही है?

दी लल्लनटॉप शो: निर्वस्त्र कर बंद किया, पैर चैन से बांधा, सीधी, बलिया, बालासोर में पुलिस बर्बरता क्यों हुई?

महंगाई को लेकर RBI गवर्नर ने क्या चिंता जताई है?

दी लल्लनटॉप शो: कैग रिपोर्ट में सामने आया, आधार, रेलवे और ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में क्या गड़बड़ी?

संसद में बजट सत्र के आखिरी दिन क्या हुआ?

दी लल्लनटॉप शो: इलेक्टोरल बॉन्ड में किसने किसको क्या दिया, पता क्यों नहीं चलता?

इलेक्टोरल बॉन्ड ही पॉलिटिकल फंडिंग का सबसे बड़ा स्रोत होते हैं.

दी लल्लनटॉप शो: SDMC ने नवरात्र में मीट बैन किया, क्या उन्हें हिंदू परंपराओं और शास्त्रों की जानकारी है?

क्या इस बात के प्रमाण हैं, कि नवरात्र के दौरान मांसाहार वर्जित है?

पॉलिटिकल किस्से

अरूसा आलम और कैप्टन अमरिंदर सिंह के संबंधों पर सियासत क्यों हो रही है?

अरूसा को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI से भी जोड़ा जा रहा है.

एंटी CAA-NRC प्रोटेस्ट में गोली चलाने वाले गोपाल की महापंचायत में बोली बातें क्यों वायरल हुईं?

हरियाणा के पटौदी में हुई जनसभा में उसके भाषण का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

उत्तर प्रदेश के नेता जितिन प्रसाद, जो दो दशक से कांग्रेसी रहे और अब BJP में शामिल हो गए

2019 के बाद से ही जितिन प्रसाद की भाजपा से नजदीकियां बढ़ रही थीं.

असम का वो नेता, जिसके साथ हुई ग़लती को ख़ुद अमित शाह ने सुधारा था

अब वो राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है.

कैसे मुलायम सिंह ने अजित सिंह से यूपी के मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली?

अजित सिंह के लोकदल अध्यक्ष बनने की प्रक्रिया काफी विवादित रही थी.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बनने जा रहे एमके स्टालिन की कहानी फिल्म से कम नहीं

मद्रास शहर की थाउजेंड लाइट्स विधानसभा सीट से स्टालिन पहली बार चुनाव में उतरे.

केरल चुनाव में जीत के साथ पी विजयन ने 64 बरस पुराना कौन सा मिथक तोड़ दिया?

विजयन महज़ 26 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने थे.

अखिल गोगोई की कहानी, जिन्हें हाईकोर्ट ने जमानत देते वक्त कहा- सिविल नाफरमानी अपराध नहीं

नेतागिरी से दूर भागने वाले अखिल गोगोई जेल से ही चुनाव लड़ने पर मजबूर हुए.