Submit your post

Follow Us

डेंगू से जुड़ी इन पांच अफ़वाहों के बारे में जानिए!

देश के कई हिस्सों में डेंगू बुख़ार के केसों में तेज़ी देखी जा रही है. राजधानी दिल्ली का भी हाल बुरा है. 2017 में दिल्ली में डेंगू से 10 मौतें हुई थी. और इस साल ये आंकड़ा 9 तक पहुंच गया है. इस स्टोरी के लिखे जाते वक़्त तक दिल्ली में ही 2708 लोग डेंगू से पीड़ित है. और दिल्ली ही क्यों, यूपी बिहार और तमाम राज्यों में ऐसी हालात है. ऐसे में लल्लनटॉप आपके लिए लेकर आया है डेंगू से जुड़े पांच मिथ, जो आपको ज़रूर जानने चाहिए. ये ऐसे मिथ हैं, जो लोग आपको हवा में बता दे रहे हैं. और आपको लग रहा है कि मानने में हर्ज क्या है. लेकिन बिना सोचे समझे मत मानिए और इन अफ़वाहों के बारे में जानिए. देखें वीडियो.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

चंद्रशेखर आजाद और अखिलेश यादव के बीच क्यों नहीं हो पाया गठबंधन?

सपा के ही सहयोगी ओम प्रकाश राजभर मध्यस्थता कर रहे थे

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले स्वतंत्र देव सिंह का इंटरव्यू

जानिए सौरभ द्विवेदी से स्वतंत्र देव सिंह ने इस खास बातचीत में क्या कहा.

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले ओम प्रकाश राजभर का इंटरव्यू

जानिए सौरभ द्विवेदी से ओमप्रकाश राजभर ने इस खास बातचीत में क्या कहा.

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले संजय सिंह का लल्लनटॉप इंटरव्यू

केजरीवाल और कुमार विश्वास पर क्या बोले संजय सिंह?

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले योगी आदित्यनाथ का इंटरव्यू

लखीमपुर, बेरोजगारी और एके शर्मा पर यह बोले योगी.

लल्लनटॉप जमघट में UP के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पूरी बातचीत, 13 जनवरी शाम 5 बजे से देखिए

चुनाव के गणित के सारे समीकरणों पर बात हुई है.

UP चुनाव: इन आदिवासियों ने लल्लनटॉप टीम को जो बताया वो सबको जानना चाहिए

इलेक्शन कवरेज में टीम पहुंची सोनभद्र

UP चुनाव: वाराणसी के मुसहर बच्चों की डरा देने वाली कहानी

बच्ची ने बताया स्कूल में उनके साथ किस तरह भेदभाव हो रहा!

दी लल्लनटॉप शो

दी लल्लनटॉप शो: अलवर रेप केस में अशोक गहलोत की पुलिस अब तक गुनहगारों को क्यों नहीं पकड़ पाई?

पुलिस ने फौरन गश्त पर जाकर बच्ची को क्यों नहीं ढूंढा ?

दी लल्लनटॉप शो: योगी की कैबिनेट से धड़ाधड़ हो रहे इस्तीफे, क्या अखिलेश यादव का माहौल बन रहा है?

क्या इन इस्तीफों का विधानसभा चुनावों में असर दिखेगा?

दी लल्लनटॉप शो: राष्ट्रीय युवा दिवस की बधाइयां देने वाले नेताओं और बेरोज़गार युवाओं से हमारा बड़ा सवाल

देश का युवा क्या सोशल मीडिया के राजनीतिक झगड़ों में फंस कर वक्त बर्बाद कर रहा है?

दी लल्लनटॉप शो: रोज़गार पर डेटा बताता है, चुनाव में वैकेंसी की बात करने वाले नेताओं ने आपसे झूठ कहा था

पिछले पांच सालों में नौकरियों क्यों नहीं दे पाए नेतागण?

दी लल्लनटॉप शो: तीसरी लहर के पीक की भविष्यवाणी हो गई, जनवरी में चढ़ेगी, इस महीने में खत्म हो जाएगी

क्या हमने बूस्टर डोज़ शुरू करने में देर कर दी?

दी लल्लनटॉप शो: PM सुरक्षा चूक मामले में मोदी सरकार ने SC में क्या-क्या कहा?

इसकी सुनवाई CJI एनवी रमना की तीन सदस्य बेंच कर रही है.

दी लल्लनटॉप शो: फिरोजपुर में PM मोदी की सुरक्षा चूक में 'ब्लू बुक' के नियम किसने तोड़े?

पंजाब पुलिस या SPG ने, ऐसे मालूम चल जाएगा

दी लल्लनटॉप शो: PM मोदी का काफिला पंजाब में आंदोलनकारियों ने रोका, ज़िम्मेदार CM चन्नी या अमित शाह?

मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने क्या सफाई दी?

पॉलिटिकल किस्से

अरूसा आलम और कैप्टन अमरिंदर सिंह के संबंधों पर सियासत क्यों हो रही है?

अरूसा को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI से भी जोड़ा जा रहा है.

एंटी CAA-NRC प्रोटेस्ट में गोली चलाने वाले गोपाल की महापंचायत में बोली बातें क्यों वायरल हुईं?

हरियाणा के पटौदी में हुई जनसभा में उसके भाषण का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

उत्तर प्रदेश के नेता जितिन प्रसाद, जो दो दशक से कांग्रेसी रहे और अब BJP में शामिल हो गए

2019 के बाद से ही जितिन प्रसाद की भाजपा से नजदीकियां बढ़ रही थीं.

असम का वो नेता, जिसके साथ हुई ग़लती को ख़ुद अमित शाह ने सुधारा था

अब वो राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है.

कैसे मुलायम सिंह ने अजित सिंह से यूपी के मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली?

अजित सिंह के लोकदल अध्यक्ष बनने की प्रक्रिया काफी विवादित रही थी.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बनने जा रहे एमके स्टालिन की कहानी फिल्म से कम नहीं

मद्रास शहर की थाउजेंड लाइट्स विधानसभा सीट से स्टालिन पहली बार चुनाव में उतरे.

केरल चुनाव में जीत के साथ पी विजयन ने 64 बरस पुराना कौन सा मिथक तोड़ दिया?

विजयन महज़ 26 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने थे.

अखिल गोगोई की कहानी, जिन्हें हाईकोर्ट ने जमानत देते वक्त कहा- सिविल नाफरमानी अपराध नहीं

नेतागिरी से दूर भागने वाले अखिल गोगोई जेल से ही चुनाव लड़ने पर मजबूर हुए.