Submit your post

Follow Us

हसन रूहानी की कहानी, जिन्होंने डूबते ईरान को बचा लिया

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी भारत दौरे पर आए हैं. ये दौरा भारत और ईरान के रिश्तों के लिहाज से काफी अहम है. इसके नतीजे तय करेंगे कि इन दो पुराने दोस्तों की दोस्ती आगे किस राह जाएगी. भारत ईरान से बहुत कुछ चाहता है. ईरान भारत से बहुत कुछ चाहता है. मगर दोनों के इस अलग-अलग ‘चाहना’ में उनके अपने फायदे भी हैं. जो कुछ मामलों में एक-दूसरे के खिलाफ जाते हैं. हसन रूहानी. आजाद हिंदुस्तान से बस एक साल छोटे. 1948 में पैदा हुए. उत्तरी ईरान में एक जगह है- सोरखेह. वहीं पर. ये ईरानी क्रांति से सालों पहले की बात है. तब ईरान में शाह का शासन था. रूहानी का परिवार शाह का विरोधी था. लेकिन और भी कुछ खास बातें हैं, जिसकी वजह से उनके सामने अमेरीका को भी झुकना पड़ा. वही बातें आज हम आपको बताएंगे इस वीडियो में.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

उत्तराखंड चुनाव: ग्रैजुएशन कर दिहाड़ी करने को मजबूर लोगों को उत्तराखंड में किसकी सरकार चाहिए?

लल्लनटॉप टीम दीन दयाल उपाध्याय गंगा ब्रिज पर मजदूरों के दल से मिली.

उत्तराखंड चुनाव: हर की पौड़ी में मोदी समर्थक इस बार किस बात से खफा हैं?

लोकसभा चुनाव में हर बार मोदी को ही वोट दिया, लेकिन...

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले राजा भैया का इंटरव्यू

योगी और अखिलेश पर क्या कहा?

उत्तराखंड चुनाव: हर की पौड़ी में मिले इस गोताखोर को जान बचाने का कितना पैसा मिलता है?

बिना पैसे लिए लोगों को डूबने से बचाने के लिए गंगा में डुबकी लगाता है ये गोताखोर.

उत्तराखंड चुनाव: हर की पौड़ी में बैठे पंडित ने बता दी धर्म संसद की असलियत

दूतावास की नौकरी छोड़ क्यों बने पंडा?

उत्तराखंड चुनाव: जमा देने वाली ठंड में इन फौजियों की कलाबाज़ी देखकर आप हैरत में पड़ जाएंगे!

सोलानी एक्वेडक्ट को रखरखाव की सख्त जरूरत है.

जमघट: यूपी चुनाव 2022 से पहले अखिलेश यादव का इंटरव्यू

योगी के शासन, राजनीतिक वादों और चुनावी रणनीति पर अखिलेश क्या बोले?

जमघट: RLD प्रमुख जयंत चौधरी ने इंटरव्यू में क्या खुलासे किए?

आगामी यूपी चुनाव को लेकर क्या है उनकी रणनीति?

दी लल्लनटॉप शो

दी लल्लनटॉप शो: खान सर की अपील से टल गया RRB भर्ती पर प्रदर्शन!

REET की धांधली पर चुप क्यों अशोक गहलोत सरकार?

दी लल्लनटॉप शो: RRB भर्ती में आगे क्या करेगी मोदी सरकार?

रेल मंत्री के आश्वासन पर भी आशंकित क्यों हैं अभ्यर्थी?

दी लल्लनटॉप शो: ना घोड़ी इनकी है, ना दूल्हा इनका है, फिर भी घोड़ी चढ़ने पर धमकाने वाले कौन हैं ये दबंग?

घोड़ी पर बैठे दूल्हे की जात से समाज के ठेकेदारों को क्या दिक्कत है?

दी लल्लनटॉप शो: भारत में मोदी सरकार के दौरान बढ़ती गरीबी का ये सर्वे आपको दुखी कर देगा

पांच सालों के दौरान सबसे अमीर 20 फीसदी परिवारों की आय 39 फीसदी बढ़ गई है.

दी लल्लनटॉप शो: आईएएस कैडर नियमों में मोदी सरकार के प्रस्तावित संशोधनों पर क्या विवाद हो रहा है?

भाजपा शासित राज्यों के सीएम भी इसके विरोध में हैं.

दी लल्लनटॉप शो: अमेरिका में क्यों 5G टेस्टिंग से कई फ्लाइट लैंड नहीं हो पाई?

5G तकनीक का भारत में क्या असर होगा?

दी लल्लनटॉप शो: मुलायम की बहू BJP में, अखिलेश को फर्क क्यों नहीं पड़ रहा?

यादव परिवार में पड़ी फूट से सपा को नुकसान होगा?

दी लल्लनटॉप शो: पंजाब में भगवंत मान का दांव खेल क्या केजरीवाल कांग्रेस को दे पाएंगे टक्कर?

पंजाब की पॉलिटिक्स में क्या चल रहा है?

पॉलिटिकल किस्से

अरूसा आलम और कैप्टन अमरिंदर सिंह के संबंधों पर सियासत क्यों हो रही है?

अरूसा को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI से भी जोड़ा जा रहा है.

एंटी CAA-NRC प्रोटेस्ट में गोली चलाने वाले गोपाल की महापंचायत में बोली बातें क्यों वायरल हुईं?

हरियाणा के पटौदी में हुई जनसभा में उसके भाषण का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

उत्तर प्रदेश के नेता जितिन प्रसाद, जो दो दशक से कांग्रेसी रहे और अब BJP में शामिल हो गए

2019 के बाद से ही जितिन प्रसाद की भाजपा से नजदीकियां बढ़ रही थीं.

असम का वो नेता, जिसके साथ हुई ग़लती को ख़ुद अमित शाह ने सुधारा था

अब वो राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है.

कैसे मुलायम सिंह ने अजित सिंह से यूपी के मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली?

अजित सिंह के लोकदल अध्यक्ष बनने की प्रक्रिया काफी विवादित रही थी.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बनने जा रहे एमके स्टालिन की कहानी फिल्म से कम नहीं

मद्रास शहर की थाउजेंड लाइट्स विधानसभा सीट से स्टालिन पहली बार चुनाव में उतरे.

केरल चुनाव में जीत के साथ पी विजयन ने 64 बरस पुराना कौन सा मिथक तोड़ दिया?

विजयन महज़ 26 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने थे.

अखिल गोगोई की कहानी, जिन्हें हाईकोर्ट ने जमानत देते वक्त कहा- सिविल नाफरमानी अपराध नहीं

नेतागिरी से दूर भागने वाले अखिल गोगोई जेल से ही चुनाव लड़ने पर मजबूर हुए.