Submit your post

Follow Us

बिहार चुनाव: कहलगांव सीट से कांग्रेस के दिग्गज नेता सदानंद सिंह के बेटे शुभानंद मुकेश हारे

कहलगांव विधानसभा सीट. भागलपुर जिले के तहत आती है. बीजेपी के पवन कुमार यादव ने यहां से शानदार जीत हासिल की है. उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी शुभानंद मुकेश को 42,893 वोटों से हराया. शुभानंद मुकेश कांग्रेस के दिग्गज नेता सदानंद सिंह के बेटे हैं. सदानंद यहां से लगातार जीतते आ रहे थे. लेकिन इस बार उन्होंने अपने बेटे को मैदान में उतारा था. पवन यादव को 1,15,538 वोट मिले. वहीं शुभानंद मुकेश को 72,645 वोट ही मिल सके. वोट प्रतिशत की बात करें तो पवन ने 56.23 फीसदी वोट झटके, तो शुभानंद मुकेश के खाते में 35.36 प्रतिशत वोट आए. देखिए वीडियो.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

झमाझम

प्रचार-प्रसार: सरकार की किन नीतियों से उत्तराखंड में टूरिज्म को हुआ फायदा?

राज्य में कई प्रसिद्ध धार्मिक स्थल मौजूद हैं.

प्रचार-प्रसार: सरकार की इन नीतियों ने उत्तराखंड की सड़कों की तस्वीर कैसे बदल दी?

राज्य में 47000 किलोमीटर से अधिक सड़क कवरेज है.

UP पुलिस की पूड़ी खाऊ प्रतियोगिता में जवान ने रिकॉर्ड पूड़ियां खा कहर ढाह दिया

ऋषिकेश राय ने इससे पहले 51 पूड़ी खाकर रिकॉर्ड बनाया था.

वॉट्सऐप बैंक बैलेंस बताने के अलावा ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने में भी मदद करेगा

वॉट्सऐप पेमेंट्स एक UPI आधारित सेवा है.

5 फाइल शेयरिंग ऐप्स जो आपका काम आसान कर देंगी

इन ऐप्स से बड़ी फाइल शेयरिंग आसान हो जाती है.

UPSC की तैयारी में हिंदी मीडियम कठिन राह क्यों? IPS विनय तिवारी ने समझा दिया

तैयारी कर रहे युवाओं के लिए ये जानना बहुत जरूरी है!

ये नाइटहुड क्या है जिसके मिलते ही सब कोई 'सर' हो जाता है?

ब्रिटेन में 15 दिसंबर को फॉर्मूला वन रेसर लूईस हैमल्टन को नाइट बनाया गया है.

यूट्यूब प्रीमियम, ट्रूकॉलर जैसे ऐप्स का सब्सक्रिप्शन लेने पर आपको कई सारे नए फीचर्स मिलेंगे

सीमित फीचर्स के साथ लोग इन ऐप्स को फ्री में भी यूज करते हैं.

दी लल्लनटॉप शो

दी लल्लनटॉप शो: फिरोजपुर में PM मोदी की सुरक्षा चूक में 'ब्लू बुक' के नियम किसने तोड़े?

पंजाब पुलिस या SPG ने, ऐसे मालूम चल जाएगा

दी लल्लनटॉप शो: PM मोदी का काफिला पंजाब में आंदोलनकारियों ने रोका, ज़िम्मेदार CM चन्नी या अमित शाह?

मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने क्या सफाई दी?

दी लल्लनटॉप शो: कौन है बुल्ली बाई मामले में सहआरोपी विशाल झा?

अकाउंट्स के 'सिख' नाम रखने के पीछे क्या वजह थी?

दी लल्लनटॉप शो: 'बुल्ली बाई' पर मुस्लिम महिलाओं का उत्पीड़न हुआ, क्या कार्रवाई हो पाएगी?

मुस्लिम महिलाओं की टार्गेटिंग भारत में आम क्यों होती जा रही है?

दी लल्लनटॉप शो: आजादी का अमृत महोत्सव चल रहा, साथ में महात्मा गांधी के हत्यारों की जयकार भी हो रही है

2021 के आखिरी दिन घटी घटनाओं पर एक नज़र.

दी लल्लनटॉप शो: कानपुर से कन्नौज तक इत्र कारोबारी पीयूष जैन पर पड़े छापे, क्या वजह UP चुनाव है?

क्या पीयूष जैन का कोई संबंध भाजपा से या सपा से है?

दी लल्लनटॉप शो: ओमिक्रोन वैरियंट के चलते आने वाली तीसरी लहर से निपटने का सही तरीका लॉकडाउन है?

क्या ओमिक्रोन वेरिएंट से भी उतना ही खतरा है, जितना डेल्टा से था?

दी लल्लनटॉप शो: तीसरी लहर के खतरे के बीच रेज़िडेंट डॉक्टर्स की हड़ताल से कैसे निपटेगी मोदी सरकार?

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने डॉक्टर्स पर पुलिस एक्शन को लेकर खेद प्रकट किया.

पॉलिटिकल किस्से

अरूसा आलम और कैप्टन अमरिंदर सिंह के संबंधों पर सियासत क्यों हो रही है?

अरूसा को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI से भी जोड़ा जा रहा है.

एंटी CAA-NRC प्रोटेस्ट में गोली चलाने वाले गोपाल की महापंचायत में बोली बातें क्यों वायरल हुईं?

हरियाणा के पटौदी में हुई जनसभा में उसके भाषण का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

उत्तर प्रदेश के नेता जितिन प्रसाद, जो दो दशक से कांग्रेसी रहे और अब BJP में शामिल हो गए

2019 के बाद से ही जितिन प्रसाद की भाजपा से नजदीकियां बढ़ रही थीं.

असम का वो नेता, जिसके साथ हुई ग़लती को ख़ुद अमित शाह ने सुधारा था

अब वो राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है.

कैसे मुलायम सिंह ने अजित सिंह से यूपी के मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली?

अजित सिंह के लोकदल अध्यक्ष बनने की प्रक्रिया काफी विवादित रही थी.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बनने जा रहे एमके स्टालिन की कहानी फिल्म से कम नहीं

मद्रास शहर की थाउजेंड लाइट्स विधानसभा सीट से स्टालिन पहली बार चुनाव में उतरे.

केरल चुनाव में जीत के साथ पी विजयन ने 64 बरस पुराना कौन सा मिथक तोड़ दिया?

विजयन महज़ 26 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने थे.

अखिल गोगोई की कहानी, जिन्हें हाईकोर्ट ने जमानत देते वक्त कहा- सिविल नाफरमानी अपराध नहीं

नेतागिरी से दूर भागने वाले अखिल गोगोई जेल से ही चुनाव लड़ने पर मजबूर हुए.