Submit your post

Follow Us

ऐमजॉन से ऑर्डर किया था फोन, डिलीवरी बॉय ने 'ऑर्डर कैंसिल' बताकर चूना लगा दिया

ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट पर इस वक़्त साल की सबसे बड़ी सेल चल रही है. धूम-धड़ाके से ख़रीदारी हो रही है. छूट का मज़ा लेने के लिए लोग जेब हल्की कर रहे हैं. हालांकि छूट है, इसलिए जेब हल्की होने के बाद भी मन भारी नहीं हो रहा. ऐसे में दिल्ली से ख़बर आई कि ऐमजॉन के लिए बतौर डिलीवरी बॉय काम करने वाले एक शख्स ने मोबाइल फोन की डिलीवरी में ‘खेल’ कर दिया. पुलिस से शिकायत हुई और अब डिलीवरी बॉय पुलिस की हिरासत में है. मामला ऑनलाइन ख़रीदारी में ठगी करने का है. देखिए वीडियो.

 

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

बिहार चुनाव: तेजस्वी की रैली में जुटी भीड़ पर लोगों ने चुनाव आयोग से क्या कहा?

"सरकार किसी की भी बने, जनता को कोई फायदा नहीं होने वाला".

बिहार चुनाव: नालंदा में EWS कोटे से नौकरी मिली, युवक ने मुस्कुराते हुए बड़ी बात बोल दी

सिपाही की नौकरी के लिए सेलेक्शन हुआ है,

बिहार चुनाव: नालंदा के इस युवक ने वोटिंग के दिन की सच्चाई बता दी

"नीतीश जिधर पलड़ा भारी होता है, उधर चले जाते हैं".

बिहार चुनाव: जब नौजवान ने मुद्दों से घेरा, तो चचा को चीन और पाकिस्तान याद आया

"जितनी सेना बॉर्डर पर नहीं, उतनी नेता-विधायकों के साथ रहती है".

बिहार चुनाव: इस किसान से मिलिए, जो इतने संतोषी कि कोरोना में बेटे की नौकरी गई पर कोई गम नहीं

"सरकार को मुआवजा देने का मन होगा तो दे देगा, नहीं मन होगा, तो नहीं देगा".

बिहार चुनाव: कोशी कॉलेज के इन छात्रों की बातें सुनकर सोच में पड़ जाएंगे कि वोट किसे दें

"खगड़िया में सबसे ज्यादा मक्का का उत्पादन होता है, पर उसकी एक भी फैक्ट्री नहीं है"

बिहार चुनाव: मुज़फ्फरपुर शेल्टर होम केस में मंजू वर्मा के पति का जिक्र करते ही लोगों में बहस हो गई

"जिसकी लाठी उसकी भैंस".

बिहार चुनाव: लालू के 17 और नीतीश के 15 साल के कार्यकाल की चौंकाने वाली बातें सुनिए

"एक भी ढंग का कॉलेज नहीं, 36 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है".

दी लल्लनटॉप शो

पंजाब सरकार ने केंद्र के कृषि कानून को पलटा, क्या मिलेगी राष्ट्रपति की मंजूरी?

केंद्र सरकार की आर्थिक सहायता पर क्या बोले बिहार के किसान?

'मालाबार युद्धाभ्यास' में अमेरिका-जापान के साथ अब ऑस्ट्रेलिया को इसलिए बुलाया गया है

क्या लद्दाख का बदला समंदर में लेने वाला है भारत?

मोदी सरकार ने माना, देश में हो रहा कोरोनावायरस का कम्यूनिटी ट्रांसमिशन

असम-मिजोरम में सीमा संघर्ष, अंतरराज्यीय सीमा पर आगज़नी

बलिया में गोली चलाने के आरोपी को क्यों बचा रहे हैं BJP विधायक सुरेंद्र सिंह?

बलिया में सरकारी अफसरों के सामने जयप्रकाश पाल की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

असम सरकार का टैक्सपेयर्स के पैसों से क़ुरान पढ़ाने से इनकार कितना सही?

धार्मिक शिक्षा पर क्या कहता है भारत का संविधान?

चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली लॉ स्टूडेंट ने अब क्या कहा?

बिहार: परीक्षाओं और भर्तियों में गड़बड़ी की युवाओं ने खोली पोल

बजाज और पार्ले 'टॉक्सिक हेट' के खिलाफ खड़े हुए तो टाटा का तनिष्क़ हार क्यों मान गया?

पार्ले और बजाज जैसी कंपनियां क्या संदेश दे रही हैं?

मुख्यमंत्री जगनमोहन ने सुप्रीम कोर्ट के जज रमना की चीफ जस्टिस से क्या शिकायत की?

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सुप्रीम कोर्ट के जज पर लगाए गंभीर आरोप

पॉलिटिकल किस्से

दीप नारायण सिंह: रेलवे स्टेशन पर बम नहीं फटता तो ये नेता बिहार का मुख्यमंत्री होता

17 दिनों के लिए बिहार के मुख्यमंत्री रहे दीप नारायण सिंह की कहानी.

बिहार का वो मुख्यमंत्री जो बैद्यनाथ मंदिर की ओर चल पड़ा तो देवघर के पंडों में हड़कंप मच गया

पॉलिटिकल किस्सों की खास सीरीज में देखिए बिहार के पहले मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण सिंह की कहानी.

श्रीकृष्ण सिंह: बिहार का वो मुख्यमंत्री, जिसकी कभी डॉ. राजेंद्र प्रसाद तो कभी नेहरू से ठनी

बिहार के पहले मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण सिंह की कहानी.

अटल के मंत्री जसवंत सिंह को परवेज मुशर्रफ ने कैसे धोखा दिया?

भारत के इस विदेश मंत्री पर अमेरिका का पिट्ठू होने का आरोप क्यों लगा?

नरसिम्हा राव की सरकार में प्रणव मुखर्जी के मंत्री पद छोड़ने का असली कारण क्या था?

क्या वही अफसर, जो कहता था, ‘मैं अपने ब्रेकफास्ट में नेताओं को खाता हूं'?

लोकसभा चुनाव हारने के बाद इंदिरा गांधी ने प्रणब मुखर्जी के लिए उम्मीद से उलट काम किया था

1974 में प्रणब मुखर्जी पहली बार केन्द्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल किए गए थे.

बैंकों के राष्ट्रीयकरण पर प्रणब मुखर्जी का वो भाषण जिसे सुनकर इंदिरा गांधी मुग्ध हो गईं

दूसरी बार वित्त मंत्री बनाए जाने की कहानी भी जान लीजिए.

प्रणब मुखर्जी ने ऐसा भी क्या कर दिया था कि उन्हें कांग्रेस से ही निकाल दिया गया?

खुद प्रणव मुखर्जी ने इस बारे में विस्तार से लिखा है.