Submit your post

Follow Us

इस तरकीब से मुलायम ने बीजेपी को दी थी ऐसी पटखनी कि वो 14 साल उबर नहीं पाई

16 जनवरी, 2017 को हुए एक फैसले ने उत्तर प्रदेश की सियासत में बहुत कुछ बदल दिया. ‘धरतीपुत्र’ के हाथ से उसकी मिट्टी सरक गई. मुलायम सिंह यादव ने अपनी शख्सियत के इर्द-गिर्द जो राजनीति बुनी थी, वो खत्म दिख रही है. समाजवादी पार्टी अब बेटे अखिलेश के हाथ में है, जो अपनी साख की लड़ाई लड़ रहे हैं. वही बीजेपी, जिसे सत्ता से बाहर रखने के लिए 1993 में मुलायम सिंह यादव ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया था. कांशीराम से हाथ मिलाने से मुस्लिमों को गले लगाने तक, वो मुलायम का स्वर्णकाल था.

तब मुलायम कहते थेः


“मेरा मुख्य लक्ष्य भाजपा को इस राज्य से भगाना है.

‘दानव’ के नाश के लिए मैं ‘शैतानों’ से भी हाथ मिला लूंगा.”


आज मुलायम हाशिए पर हैं. मुलायम की वो आक्रामकता सहज ही याद आती है, जो उन्होंने बीजेपी को हराने के लिए दिखाई थी. अखिलेश का काम करने और चुनाव लड़ने का तरीका अलग है, लेकिन मुलायम की राजनीति खालिस पहलवानी अंदाज की रही. राजनीतिक दांव और गुंडई के कॉकटेल ने उन्हें देश के सबसे बड़े सूबे की चाबी दी.

ये 1993 का चुनाव था, जब मुलायम एक नई राजनीति गढ़ रहे थे.

तपती गरमी में मोड़ रहे थे बीजेपी की आंधी

बाबरी विध्वंस ने उत्तर प्रदेश से सभी दलों के पैर उखाड़ दिए थे. बीजेपी को छोड़कर. लेकिन दो साल बीतते-बीतते वो भी कलह का शिकार हो गई. मंदिर मुद्दे की जमीन भी दरकने लगी थी. ऐसे में मुलायम भरपूर ऊर्जा के साथ जून की तपती गर्मी को मात दे रहे थे. वो उस आंधी का रुख मोड़ रहे थे जिसने एक बार उनके राजनीतिक अस्तित्व को संकट में ला दिया था. कांग्रेस को एक दमदार चेहरे की दरकार थी लेकिन मुलायम ने उसे ये जगह भरने का वक्त ही नहीं दिया. प्रचार करते रहे. हवा बनाते रहे. उन्हें अपनी मेहनत पर इतना भरोसा था कि जब यूपी में राज्यपाल शासन छह महीने बढ़ाने की बात आई, तो उनके अलावा किसी ने इसका विरोध नहीं किया. मुलायम तुरंत चुनाव कराने के हक में थे.

जब मुलायम ने नाम मुताबिक कर लिया लहजा

मुलायम अक्खड़ राजनीति के सूरमा रहे हैं. आखिरी वक्त तक वो वैसी राजनीति करते रहे कि उनकी एक आवाज पर सभी खड़े हो जाएं और एक आवाज पर उनके सामने दंडवत हो जाएं. लेकिन 93 के चुनाव में मुलायम सॉफ्ट हो गए थे.वजह थी बीजेपी. मुलायम की अगुवाई में किसी भी राजनीतिक गठजोड़ पर ‘हिंदू-विरोधी’ का ठप्पा लगने का डर था, जिसका फायदा बीजेपी को होता. उनकी छवि अपराधियों को राजनीति में लाने की थी, जो उनके विरोध में जा सकती थी.

मौके की नजाकत के मुताबिक मुलायम अपने लहजे में नाटकीय नरमी ले आए. मंच से हिंदू-विरोधी नारे लगाना तो लगभग खत्म ही कर दिया था और हिंदूवादी मुहावरों का इस्तेमाल भी बड़ी चालाकी से करते थे. मसलन, वो रैलियों में कहते थे, “देखिए, भाजपा ने अयोध्या में एक मस्जिद ढहाकर दूसरे देशों में हजारों मंदिर तोड़े जाने का रास्ता बनाया है.”

वो ब्राह्मणवाद का डर दिखाते थे और बड़ी चालाकी से संदिग्ध छवि वाले अपने दोस्तों का जिक्र नहीं करते थे.

कहते थे बीजेपी को तो आने ही नहीं देना है

मुलायम के सामने उस समय वही स्थिति थी, जो आज अखिलेश के सामने है. मुलायम सफल रहे और अखिलेश का परिणाम आना बाकी है. अखिलेश गठबंधन का दांव खेल रहे हैं, जबकि मुलायम ने गठबंधन के साथ-साथ मजबूत विरोध का रास्ता चुना था. वो कहते थे:


“भाजपा कहती है कि मैं मुसलमानों को भड़का रहा हूं. मैं मानता हूं.

मैं हर उस शख्स को भड़का रहा हूं, जो देश को एक रखना चाहता है.”


आज रैलियों में मोदी की मेहनत की तारीफ होती है. तब मुलायम भी हर पखवाड़े दो बड़ी रैलियां और कई छोटी जनसभाएं संबोधित करते थे. हफ्ते में करीब दो-तीन पत्रकार सम्मेलनों में जाना उनकी आदत सी हो गई थी. उनमें तमाम खामियां थीं और बतौर मुख्यमंत्री भी वो असफल रहे थे, लेकिन कॉन्फिडेंस इतना था कि बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खड़ा कर दिया.

mulayam-kanshiram

बड़ी भीड़ इकट्ठी करते थे मुलायम

अखिलेश यादव के साथ महीनों चले दंगल के दौरान मुलायम ने कई बार दोहराया कि उन्होंने पार्टी के लिए बहुत-खून पसीना बहाया है, जो अखिलेश या उनके समर्थकों के बस का नहीं. मुलायम सच कहते थे.

mulayam-akhilesh

ये वो दौर था, जब बीजेपी की रैलियां और कल्याण सिंह की आम सभाएं फीकी पड़ने लगी थीं और मुलायम मुस्लिमों के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए थे. जून की 45 डिग्री के तापमान वाली दोपहरी में जब मुलायम उन्नाव के गांव असीवां में रैली करने पहुंचे तो छह हजार से ज्यादा लोग उन्हें सुनने के लिए मौजूद थे. अगले दिन वो कानपुर से 70 किमी दूर हरिजनों के 500 घरों वाले छोटे से गांव चंदापुर में जाते, तो रात में कानपुर के हलीम मुस्लिम कॉलेज में दस हजार मुस्लिम उन्हें सुनने के लिए इकट्ठा होते थे. मुलायम कभी भाषण देने के एक्सपर्ट नहीं रहे, लेकिन उनकी गंवई मुहावरेबाजी असर छोड़ती थी.

ये सब एक पूर्व-मुख्यमंत्री कर रहा था

मुलायम वही कर रहे थे जिसकी गठबंधन को जरूरत थी. मई, 93 में लखनऊ महापौर के चुनाव में अगर मुलायम न होते, तो कांग्रेस के अखिलेश चंद्र दास बीजेपी के विद्यासागर गुप्ता से हार गए होते. दास को 100 में से 50 ही वोट मिले थे, लेकिन मुलायम ने 23 वोटों के समर्थन वाले अपने कैंडिडेट को न सिर्फ हटाया, बल्कि 20 वोटों का दावा करने वाले बाग़ी कांग्रेसी लव भार्गव को भी नाम वापस लेने के लिए मना लिया. नतीजा ये रहा कि दास चार वोटों से जीत गए.

मुलायम साफ कहते थे, “भाजपा को हराने के लिए मैं किसी भी हद तक जा सकता हूं.” अब देखना ये है कि पहलवान को ठिकाने लगाने के बाद उनका बेटा क्या वही करिश्मा दिखा पाएगा, जो पहलवान ने दिखाया था, भले ही वो 2017 में मात खा चुका हो.


ये भी पढ़ें:

आजम खान में ऐसा क्या है, जो उनकी बाप-बेटे दोनों से छनती है

UP इलेक्शन के पहले फेज़ में किसका है ‘अपर हैंड’?

मुलायम जी, बर्बाद होने के लिए 11 क्यों एक ही वकील काफी था

अखिलेश, तुम्हारा एक पन्ने का विज्ञापन लिखने वाला तुम्हारा सबसे बड़ा दुश्मन है

भितरघात की ये पांच खबरें मोदी-शाह के माथे पर पसीना ले आएंगी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.