The Lallantop
Advertisement

कमिंस को विलेन समझने वाले लोग इस फोटो के बाद उन्हें हीरो मान लेंगे

कोविड में PM केयर फंड में लाखों दान करने वाल पैट कमिंस की ये बातें जान उनसे प्यार हो जाएगा.

Advertisement
australian captain pat cummins clicked photo with ahmedabad ground staff
पैट कमिंस की कप्तानी ने ऑस्ट्रेलिया को 6वां वर्ल्ड कप जिता दिया. (क्रेडिट:ICC)
20 नवंबर 2023 (Updated: 21 नवंबर 2023, 09:29 IST)
Updated: 21 नवंबर 2023 09:29 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान पैट कमिंस (Pat Cummins). आज की तारीख में क्रिकेट की दुनिया का चैंपियन खिलाड़ी. उनकी टीम ने टीम इंडिया को उसी की धरती पर लगभग सवा लाख लोगों के सामने धूल चटा दी.कमिंस के लड़ाकों ने अपनी इच्छा शक्ति से सवा सौ करोड़ लोगों के शोर को एक झटके में शांत कर दिया. पर इतनी बड़ी जीत के बाद, कोई घमंड नहीं. हारने वालों के मन में उनके लिए कोई नफरत नहीं. वो खास पल जब दुनिया जहां उसके बारे में बात कर रही, खेल के प्रति दिखाए उसके समर्पण पर चर्चा कर रही. ठीक उसी वक्त कमिंस अहमदाबाद स्टेडियम से ऑस्ट्रेलिया के सपोर्टिंग स्टॉफ के साथ अपनी खुशियां साझा कर रहे थे. वहां से आई तस्वीरें सोशल मीडिया पर लोगों का दिल जीत रही हैं.

ऑस्ट्रेलिया के सपोर्टिंग स्टॉफ को ट्रॉफी दी, फोटो क्लिक कराई  

जीत के बाज ऑस्ट्रेलियाई टीम ने ट्रॉफी के साथ मैदान में जश्न मनाया. ठीक इसके बाद उसी शाम कमिंस ने कुछ ऐसा किया जिससे उनकी सादगी का नमूना पूरी दुनिया ने देखा. मैदान के देखरेख में लगे स्टॉफ के साथ भी फोटो क्लिक कराया. इतना ही नहीं पैट कमिंस ने वर्ल्ड कप ट्रॉफी सपोर्ट स्टाफ को दे दी और वे खुद मोबाइल से उनकी फोटो खींचने लगे. सोशल मीडिया पर वीडियो आआ तो खूब पसंद किया गया. यूजर वीडियो को शेयर और कमेंट करके कमिंस की इस शालीनता की तारीफ कर रहे हैं.

जेंटलमैन कमिंस का देश के लिए समर्पण

किसी भी क्रिकेटर के लिए आईसीसी ट्रॉफी जीतना सबसे बड़ा क्षण होता है. हर खिलाड़ी और उसके देश के लिए एक सपना साकार होने जैसा. याद करिए, 2 अप्रैल 2011. जब टीम इंडिया को मिली जीत ने समूचे देशवासियों को गौरवान्वित कर दिया था. आज पैट कमिंस के पास वर्ल्ड कप की ट्रॉफी है और वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का खिताब है. दोनों ही टूर्नामेंट का फाइनल उन्होंने साल 2023 में जीता है. लेकिन ये सफलताएं यूं ही नहीं उनकी झोली में आ गए. इसके पीछे है उनका बलिदान. ठीक एक साल पहले उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग में हिस्सा लेने से मना कर दिया. वजह बताई आईसीसी टूर्नामेंट के बिजी शेड्यूल की. इसी नंवबर के महीने में कमिंस ने एक ट्वीट करके देश के लिए ट्रॉफी जीतने को लेकर अपनी गंभीरता का परिचय दिया था.  

कमिंस आईपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेलते हैं. उन्हें एक सीजन खेलने के लिए सात करोड़ से अधिक रुपये मिलते हैं. लेकिन कमिंस ने आईपीएल नहीं खेलने का फैसला किया. उन्होंने लिखा,

'मैंने अगले साल के आईपीएल को छोड़ने का कठिन फैसला लिया है. इंटरनेशनल शेड्यूल अगले 12 महीनों के लिए वनडे और टेस्ट से भरा हुआ है. इस वजह से एशेज सीरीज और विश्व कप से पहले थोड़ा रेस्ट मिल जाएगा.”

दिल जीतना कोई कमिंस से सीखे

30 साल की उम्र में बतौर कप्तान आईसीसी ट्रॉफी उठाने वाले कमिंस खेल भावना के अलावा इंसानियत को आगे रखते आए हैं. साल 2021 में जब पूरा भारत कोविड महामारी के दूसरे लहर से जूझ रहा था. उस वक्त इस ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने 50 हज़ार यूएस डॉलर (38 लाख रुपये) पीएम केयर्स फंड में दान किए. उन्होंने यह मदद करते हुए एक ट्वीट करके भारत के प्रति अपने लगाव का जिक्र किया था. कमिंस ने लिखा,

“भारत में पिछले कुछ वर्षों से मुझे बहुत प्यार मिला है. भारतीय बहुत प्यारे और सपोर्टिंग हैं. मैं जानता हूं कि पिछले कुछ समय से इस देश में कोरोना वायरस के कारण काफी दिक्कतों हुई हैं. पूरे देश में अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी कमी है. ऐसे में मैं एक खिलाड़ी के तौर पर पीएम केयर्स फंड में 50 हजार यूएस डॉलर( 38 लाख रुपये) सहायता राशि के रूप में देना चाहता हूं. मैं अपने साथी खिलाड़ियों से भी रिक्वेस्ट करता हूं कि वे भी मदद के लिए आगे आएं."

कमिंस यूनिसेफ के ब्रांड एम्बेसडर भी हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने पिछले महीने लखनऊ के एक सरकारी स्कूल का दौरा किया था. इस दौरान उन्होंने वहां के टीचर्स और छात्रों से बातचीत कर उन्हें मोटिवेट किया.

वीडियो: विश्व कप में हार देख बाहर निकले इंडियन फैन्स ऐसे गुस्सा गए!

thumbnail

Advertisement