The Lallantop
Advertisement

किसी को कम तो किसी को ज्यादा ठंड क्यों लगती है?

टहलें, एक्सरसाइज करें क्योंकि जितना ज्यादा फिज़िकली एक्टिव रहेंगे, उतना ही शरीर की ठंड को झेलने की क्षमता बढ़ेगी.

Advertisement
feeling_cold_in_winters
ठंड से बचना है तो एक्सरसाइज जरूर करें (सांकेतिक फोटो)
25 जनवरी 2024 (Updated: 25 जनवरी 2024, 20:42 IST)
Updated: 25 जनवरी 2024 20:42 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

कड़ाके की ठंड पड़ रही है. हर इंसान खुद को ठंड से बचाने के लिए मोटे-मोटे कपड़े पहन रहा है. कंबल और हीटर सबके बेस्ट फ्रेंड बन गए हैं. पर आपने एक चीज़ नोटिस की है. कुछ लोग हैं, जो इन सर्दियों में भी फौलाद की तरह ठंड का सामना कर रहे हैं. कहने का मतलब है कि उन्हें आपके जितनी ठंड नहीं लग रही. जब आप उनसे कहते हैं कि 'भाई, बहुत ठंड है.' उनका जवाब होता है, 'अरे इतनी ठंड भी नहीं है.' अब इस बात पर आप की हो जाती है बहस. इसमें उनकी गलती नहीं है. कुछ लोगों को बाकियों के मुकाबले कम ठंड लगती है. आज हम डॉक्टर से जानेंगे कि एक ही तापमान में किसी को कम तो किसी को बहुत ज़्यादा ठंड क्यों लगती है? अगर आपके हाथ-पैर और नाक हमेशा ठंडे रहते हैं तो इसके पीछे क्या कारण है? सबसे ज़रूरी बात इससे बचने का क्या तरीका है?  

कम या ज्यादा ठंड लगने की वजह

ये हमें बताया डॉक्टर विभु कवात्रा ने. 

(डॉ. विभु कवात्रा, कंसल्टेंट, पल्मोनोलॉजिस्ट)

इसके पीछे एक साइंटिफिक वजह है, बेसिक मेटाबॉलिक रेट. यानी अगर कोई व्यक्ति योग और एक्सरसाइज कर रहा है, फिज़िकली एक्टिव है तो उसे एक्सरसाइज न करने वाले व्यक्ति के मुकाबले कम सर्दी लगेगी. इसकी वजह ये है कि फिज़िकली एक्टिव व्यक्ति की मांसपेशियां एक्टिव रहती हैं और एनर्जी को अच्छे से यूज कर पाती हैं. इस वजह से शरीर में अंदर लगातार गर्मी बनी रहती है. वहीं जो लोग योग या एक्सरसाइज नहीं करते, उन्हें ठंड ज्यादा लगती है. ऐसे लोग सर्दियों में ज्यादा कपड़े पहनें. गर्म कपड़े पहनें, स्वेटर और जैकेट पहनें, खुद को जितना ढककर रखेंगे, उतना ही अच्छा होगा.

ये भी पढ़ें- ठंड लगती क्यों है और ठंड लगने पर आप कांपते क्यों हैं?

हाथ,पैर, नाक हमेशा ठंडे रहते हैं?

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जो स्वेटर या जैकेट आपने पहना है, वो ठंड रोकने के लिए काफी नहीं है. इसलिए पैरों में जुराबें और हाथों में दस्ताने पहनें. सिर को ठंड से बचाने के लिए टोपी और मफ़लर का इस्तेमाल करें. जितना हो सके, ठंड में बाहर निकलने से बचें. खासकर सुबह और शाम के वक्त क्योंकि इस समय ठंड ज्यादा होती है और हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है. बुज़ुर्गों को अपना खास खयाल रखना चाहिए. इसमें डरने की जरूरत नहीं है, बचाव करना जरूरी है. बाहर जाना जरूरी है तो दोपहर के समय जाएं, जब धूप हो.

ठंड से बचने का क्या तरीका है?

टहलें, एक्सरसाइज करें. क्योंकि जितना ज्यादा फिज़िकली एक्टिव रहेंगे, उतना ही शरीर की ठंड को झेलने की क्षमता बढ़ेगी. सर्दियों में गुड़ पट्टी (गजक) खाएं, क्योंकि इन चीजों को खाने से शरीर में गर्मी बनती है. खासतौर पर मूंगफली, ड्राई फ्रूट्स और अंजीर खाने से बॉडी में गर्मी पैदा होती है. ये सभी टिप्स फॉलो कीजिए और ठंड से बचे रहिए. 

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. ‘दी लल्लनटॉप ’आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

वीडियो: सेहत: ठंडी में ड्राई स्किन और खुजली से छुटकारा कैसे पाएं? डॉक्टर्स क्या कहते हैं?

thumbnail

Advertisement

Advertisement

Advertisement