The Lallantop
Advertisement

कानपुर में सौ साल की महिला पर रंगदारी का केस, देख-चल-बोल तक नहीं पातीं

महिला और उसके परिवार पर इलाके में 'वसूली गैंग' चलाने का भी आरोप है.

Advertisement
Kanpur 100 year old lady booked
महिला को उनकी बेटी कमिश्नर के कार्यालय लेकर पहुंचीं. (फोटो सोर्स- आजतक)
25 मई 2023 (Updated: 25 मई 2023, 18:46 IST)
Updated: 25 मई 2023 18:46 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

उत्तर प्रदेश की कानपुर पुलिस (Kanpur Police UP) एक महिला के खिलाफ रंगदारी का मामला दर्ज करने के चलते चर्चा में है. वजह ये कि महिला की उम्र 100 साल है. वो ठीक से बोल नहीं पातीं. चल नहीं पातीं. आंखों की रौशनी भी काफी कमजोर है. लेकिन कानपुर पुलिस ने दस लाख रुपये की रंगदारी के आरोप में उन पर केस दर्ज किया है. हालांकि ताजा जानकारी के मुताबिक पुलिस ने महिला पर से केस वापस ले लिया है.

क्या है पूरा मामला?

आजतक से जुड़े सिमर चावला की खबर के मुताबिक, मामला दो पक्षों के बीच एक मकान को लेकर छिड़े विवाद से जुड़ा है. महिला और उनके परिवार के खिलाफ FIR दर्ज होने के बाद उनकी बेटी उन्हें लेकर कानपुर के पुलिस कमिश्नर के पास शिकायत करने पहुंचीं. जिसके बाद जांच कर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया गया है.

रिपोर्ट के मुताबिक बुजुर्ग महिला का नाम चंद्रकली तिवारी है. वो कानपुर के मिर्जापुर इलाके की रहने वाली हैं. ये इलाका कल्याणपुर थाने के अंतर्गत आता है. चंद्रकली के परिवार का माधुरी तिवारी नाम की महिला और उनके पति बिंदुप्रकाश तिवारी से एक मकान को लेकर विवाद चल रहा है. इसी को लेकर चंद्रकली और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगने के आरोप में केस दर्ज कर लिया गया.

माधुरी तिवारी ने पुलिस को जो शिकायत दी थी उसके आधार पर FIR दर्ज की गई. दी लल्लनटॉप के पास उस FIR की कॉपी है. इसमें लिखा है कि माधुरी तिवारी ने साल 2003 में कानपुर के मिर्जापुर इलाके में करीब 200 वर्ग स्क्वायर के एक प्लॉट की रजिस्ट्री करवाई थी. लेकिन चंद्रकली तिवारी, उनकी बेटी ममता और अन्य परिवार जनों ने साल 2012 में एक फर्जी बिक्री पत्र के जरिए प्लॉट पर कब्ज़ा करने की कोशिश की. जबकि तहसील की रिपोर्ट के हिसाब से प्लॉट माधुरी तिवारी का है. 

आगे माधुरी ने आरोप लगाया कि इसी साल 6 मई को चंद्रकली की बेटी और उनके परिवार के लोगों ने प्लॉट का गेट तोड़ दिया और वहां हो रहा निर्माण कार्य रुकवा दिया. माधुरी के मुताबिक उन्हें जान से मारने की धमकी दी गई और 10 लाख रुपये की मांग की गई. कहा गया कि रुपये नहीं दोगे तो प्लॉट पर मकान नहीं बनवा पाओगे. 

FIR में माधुरी का ये भी आरोप है कि सौ साल की चंद्रकली, उनकी बेटी ममता दुबे और बाकी लोग मिर्जापुर के पुराने बाशिंदे हैं और इलाके में ‘वसूली गैंग’ चलाते हैं. बिना 5 से 10 लाख रुपये लिए इलाके में कोई मकान नहीं बनने देते.

वहीं इन आरोपों पर चंद्रकली की बेटी ममता दुबे का कहना है,

"196 वर्ग गज का प्लॉट है और मेरी मां चंद्रकली ने मुझे दिया है. उस पर माधुरी, बिन्दुप्रकाश तिवारी, विपिन पांडेय, आदित्य पांडेय और संजय सेंगर आदि लोग जबरन कब्जा कर रहे हैं. हम विरोध कर रहे हैं तो पुलिस हम पर 10 लाख रुपये की रंगदारी का मुकदमा लिख रही है. पुलिस सहयोग नहीं कर रही है."

ममता का कहना है कि उनका परिवार कल्याणपुर थाना गया तो इंस्पेक्टर ने उन्हें प्लॉट पर कोई काम करने से मना कर दिया. ऐसे में उन्हें कानपुर के पुलिस कमिश्नर के पास जाना पड़ा. ममता का कहना है कि वो इससे पहले भी कमिश्नर के पास जा चुकी हैं.

मामले पर कानपुर के पुलिस कमिश्नर बीपी जोगदंड ने जांच के आदेश दिए हैं. हालांकि इस बीच चंद्रकली का नाम केस से हटा लिया गया है.

वीडियो: कानपुर पुलिस ने चोरी के आरोप में युवक को उठाया, अगले दिन छोड़ने के बाद हुई मौत

thumbnail

Advertisement

election-iconचुनाव यात्रा
और देखे

Advertisement

Advertisement