The Lallantop
Advertisement

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से मुठभेड़ में दो सेनाधिकारी समेत 4 सैनिक शहीद

सेना की 16 कॉर्प्स यूनिट के सूत्रों के हवाले से ये जानकारी दी गई है. एनकाउंटर अभी भी चल रहा है.

Advertisement
rajouri encounter four army personnel killed
राजौरी एनकाउंटर अभी भी जारी है. (पुरानी तस्वीर- PTI)
22 नवंबर 2023 (Updated: 22 नवंबर 2023, 20:52 IST)
Updated: 22 नवंबर 2023 20:52 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

जम्मू-कश्मीर के राजौरी में आतंकियों से मुठभेड़ में भारतीय सेना के दो अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए हैं. न्यूज एजेंसी एएनआई ने सेना की 16 कॉर्प्स यूनिट के सूत्रों के हवाले से ये जानकारी दी है. ये भी बताया कि एनकाउंटर अभी भी चल रहा है.

एएनआई के मुताबिक 16 कॉर्प्स के सूत्रों ने उसे बताया,

"जम्मू-कश्मीर के राजौरी एरिया में आतंकियों से मुठभेड़ में सेना के चार लोगों ने अपनी जान गंवाई हैं. इनमें दो सेनाधिकारी और दो जवान शामिल हैं. जानकारी मिली थी कि आतंकियों का एक समूह इलाके में मौजूद है. इसके बाद विशेष बलों के साथ सैनिकों को एरिया में तैनात कर दिया गया. 16 कॉर्प्स के कमांडर और राष्ट्रीय राइफल्स के रोमियो फोर्स कमांडर इस ऑपरेशन पर करीबी नजर बनाए हुए हैं. आगे और जानकारी का इंतजार है."

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक एनकाउंटर में दो आतंकी घायल हुए हैं. उन्हें इलाके में ही रोके रखने के लिए सुरक्षाबलों ने राजौरी स्थित कालाकोटे इलाके के पूरे वन क्षेत्र की घेराबंदी कर दी है.

आतंकियों की मौजूदगी की जानकारी मिलने के बाद सेना ने राजौरी के धर्मसाल इलाके के पास बाजिमाल एरिया में अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती की थी. यहां उन्होंने दोनों आतंकियों को घेर लिया था. इसके बाद दोनों तरफ से जबरदस्त गोलीबारी शुरू हो गई.

शाम होते-होते खबर आई कि ये दोनों आतंकी घायल हो गए, लेकिन मुठभेड़ में सेना को ज्यादा नुकसान हुआ. रिपोर्ट्स के मुताबिक चारों शहीद सैनिकों में दो कैप्टन, एक मेजर और एक हवलदार के ओहदे पर थे. इसके अलावा दो जवानों के घायल होने की भी जानकारी आई है.

इस बीच आतंकियों के बारे में कहा गया है कि वे विदेशी नागरिक हो सकते हैं और बीते रविवार से इस इलाके में घूम रहे थे. न्यूज एजेंसी पीटीआई ने स्थानीय लोगों के हवाले से बताया है कि सेना ने रविवार से ही इलाके में तलाशी अभियान चलाया हुआ है. इसके चलते उन्हें घर में ही रहने और बच्चों को स्कूल ना जाने को कहा गया था.

thumbnail

Advertisement

Advertisement

Advertisement