The Lallantop
Advertisement

'गाजा में राहत सामग्री के लिए खड़े लोगों पर इजरायल ने बरसाईं गोलियां', 112 की मौत

फिलिस्तीनी प्रशासन इस घटना को 'नृशंस नरसंहार' बताया और अंतरराष्ट्रीय समुदाय से तत्काल हस्तक्षेप की मांग की है.

Advertisement
Israel killing in Gaza
गाजा में राहत सामग्री के लिए लोगों की भीड़ (फाइल फोटो- AP)
29 फ़रवरी 2024 (Updated: 29 फ़रवरी 2024, 23:36 IST)
Updated: 29 फ़रवरी 2024 23:36 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

गाजा में राहत सामग्री के इंतजार में खड़े 100 से ज्यादा फिलिस्तीनी नागरिकों (Israel killing in Gaza) की गोलीबारी में मौत हुई है. फिलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस गोलीबारी का आरोप इजरायली सेना पर लगाया है. गोलीबारी में 750 से ज्यादा लोग घायल भी हुए हैं. फिलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से तत्काल हस्तक्षेप की मांग की है.

ये घटना तब हुई, जब आज ही गाजा प्रशासन ने बताया कि 7 अक्टूबर के बाद से इस युद्ध में 30 हजार से ज्यादा फिलिस्तीनी मारे जा चुके हैं. गाजा प्रशासन के मीडिया कार्यालय ने बताया है कि इनमें अब तक कम से कम 13,230 बच्चे शामिल हैं. इसमें सात बच्चों की मौत भुखमरी से हुई है. 8 हजार से ज्यादा महिलाएं भी हैं.

राहत सामग्री वाले ट्रकों में मृतकों को पहुंचाया गया

अलजजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक, स्थानीय समयानुसार ये घटना सुबह साढ़ चार बजे की है. अल राशिद स्ट्रीट पर राहत सामग्री पाने के लिए सैकड़ों लोग खड़े थे. घटनास्थल पर मौजूद लोगों और अलजजीरा के पत्रकार ने बताया कि इजरायली आर्मी के पास सभी तरह के सैन्य उपकरण थे. लोगों पर गोलीबारी के अलावा, ड्रोन मिसाइल से भी हमले हुए. मारे गए लोगों और घायलों को उन्हीं ट्रकों में भरकर अस्पताल पहुंचाया गया, जिनमें राहत सामग्री थी.

फिलिस्तीनी प्रशासन ने 29 फरवरी की घटना को 'नृशंस नरसंहार' बताया. फिलिस्तीनी प्राधिकरण के राष्ट्रपति महमूद अब्बास के कार्यालय ने एक बयान में कहा, 

"इतनी बड़ी संख्या में निर्दोष नागरिकों की हत्या करना इजरायल का हमारे खिलाफ जारी नरसंहारीय युद्ध का अभिन्न हिस्सा है. इजरायल इसके लिए पूरी तरह जिम्मेदार है और उसे अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के सामने दोषी ठहराया जाएगा."

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, उत्तरी गाजा में इजरायली गोलीबारी में कम से कम 112 लोगों की मौत हुई. कई तस्वीरें और वीडियो सामने आए हैं, जिसमें अफरातफरी दिख रही है. लोगों की लाशें अस्पताल के फर्श पर पड़ी दिख रही हैं. घायल लोगों की लंबी लाइनें लगी हैं.

इजरायली सेना ने क्या सफाई दी?

इजरायली सेना ने इस घटना पर सफाई दी है कि ट्रकों से कुचले जाने के कारण लोगों की मौत हुई है. इजरायली डिफेंस फोर्स (IDF) ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा, 

"आज सुबह मानवीय सहायता वाले ट्रक उत्तरी गाजा में घुसे थे. स्थानीय लोगों ने ट्रकों को घेर लिया और सामानों को लूट लिया. इस दौरान ट्रकों के आगे बढ़ने, ठोकर लगने और कुचले जाने के कारण दर्जनों लोगों की मौत हुई और घायल हुए."

इस घटना के बाद इजरायल के कब्जे वाले वेस्ट बैंक में दो इजरायलियों की भी मौत हुई है. इजरायली सेना ने बताया कि हमला करने वालों को भी मार दिया गया.

पिछले महीने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) ने इजरायल को आदेश दिया था कि वो गाजा में पर्याप्त मानवीय सहायता सुनिश्चित कराए. हालांकि संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि आईसीजे के आदेश के बावजूद मानवीय सहायता घटाई जा रही है. जनवरी की तुलना में फरवरी में ये घटकर आधी हो गई.

पिछले साल 7 अक्टूबर को हमास के हमले के बाद शुरू हुआ युद्ध थमने का नाम नहीं ले रहा है. इजरायल लगातार गाजा पर हवाई हमले और जमीनी कार्रवाई कर रहा है. गाजा में स्थिति ऐसी हो गई है कि कई इलाकों में भुखमरी का खतरा मंडरा रहा है. हाल में संयुक्त राष्ट्र ने कहा था कि उत्तरी गाजा में करीब तीन लाख लोगों के पास खाने-पीने का सामान खत्म होने के करीब है.

वीडियो: दुनियादारी: इजरायल-गाजा के युद्ध के बीच सूडान मिट जाएगा?

thumbnail

Advertisement