The Lallantop
Advertisement

क्या है कवच सिस्टम, जो अगर सिलीगुड़ी की पटरियों पर होता तो रुक सकता था हादसा?

Kanchanjunga Express Accident: बालासोर ट्रेन हादसे के बाद कवच सिस्टम की भी ख़ूब चर्चा हुई. रेल अफ़सरों का मानना है कि अगर कवच को हर जगह तैनात कर दिया जाए, तो इस तरह की दुर्घटना से बचा जा सकता है.

Advertisement
font-size
Small
Medium
Large
17 जून 2024
Updated: 17 जून 2024 23:44 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

कोलकाता जा रही कंचनजंगा एक्सप्रेस (Kanchanjunga Express Accident) को एक मालगाड़ी ने पीछे से टक्कर मार दी. इस रेल हादसे में कम से कम 8 यात्रियों की मौत की पुष्टि की गई है और 50 से ज़्यादा के घायल होने की ख़बर है. एक लाइन पर चल रही दो ट्रेनें टकरा न जाएं, इसके लिए भारत में एक ‘कवच’ (Kavach) प्रणाली है. ये सिस्टम दार्जिलिंग की उन पटरियों पर नहीं था, जहां टक्कर हुई. इस बीच आज की दुर्घटना के बाद रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव (Ashwini Vaishnav) का एक पुराना वीडियो फैलने लगा, जिसमें वो कवच प्रणाली के बारे में बता रहे हैं. देखें वीडियो.

thumbnail

Advertisement

Advertisement