Submit your post

Follow Us

जब एक लोकसभा चुनाव में हार से एन डी तिवारी पीएम बनने से चूक गए

235
शेयर्स

Abhishek Kumar

यह लेख दी लल्लनटॉप के लिए अभिषेक कुमार ने लिखा है. अभिषेक दिल्ली में रहते हैं और सिविल सेवाओं की तैयारी करते हैं. रहने वाले बिहार के हैं. फिलहाल वो अलग-अलग कोचिंग में छात्रों को पढ़ाते हैं.


 

वर्ष 1991, दसवीं लोकसभा के चुनाव. 20 मई को चुनाव का दूसरा चरण संपन्न होता है. फिर आती है 21 मई की वह काली रात. तमिलनाडू का श्रीपेरेम्बदूर. रात के दस बजे कांग्रेस अध्यक्ष राजीव गांधी अपनी पार्टी के उम्मीदवार मार्गथम चंद्रशेखर के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित करने पहुंचते हैं. तभी मंच के नजदीक एक धमाका होता है और सबकुछ खत्म. राजीव गांधी अब दुनिया में नही रहे. अगले दिन सुबह कार्यवाहक प्रधानमंत्री चंद्रशेखर ऑल इंडिया रेडियो एवं दूरदर्शन पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए चुनाव के बचे हुए दो चरणों को 3 सप्ताह के लिए टालने की घोषणा करते हैं. पहले दो चरणों के चुनावों (उत्तर भारत में) में कांग्रेस का प्रदर्शन निराशाजनक हीं रहा है. लेकिन बचे हुए दो चरणों (उड़ीसा, महाराष्ट्र एवं दक्षिण भारत) में कांग्रेस के पक्ष में जबरदस्त सहानुभूति लहर चलती है और चुनाव परिणामों के अनुसार 226 सीटों (525 सीटों पर चुनाव हुए हैं एवं जम्मू-कश्मीर, पंजाब में चुनाव नहीं होते एवं बिहार की चार सीटों पर चुनाव रद्द होता है) के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरती है.

ज्ञानी जैलसिंह के साथ एनडी तिवारी.
ज्ञानी जैलसिंह के साथ एनडी तिवारी.

लेकिन इन परिणामों में कांग्रेस को एक बहुत बड़ा झटका लगता है. क्रिकेट की भाषा में कहें तो यह उसी तरह है जैसे आस्ट्रेलियाई टीम (2003) में वर्ल्ड कप के लिए साउथ अफ्रीका पहुंचती है और पहले मैच के पहले हीं शेन वार्न का विकेट (डोप टेस्ट में पाजिटिव पाए जाने पर आस्ट्रेलिया वापस भेजे गए थे) गिर जाता है.

दरअसल इस चुनाव में राजीव गांधी की हत्या के बाद प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार माने जा रहे उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री, पूर्व केंद्रीय वित्त एवं विदेश मंत्री और योजना आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष नारायण दत्त तिवारी नैनीताल लोकसभा सीट पर भाजपा के बलराज पासी से लगभग 11 हजार मतों से चुनाव हार जाते हैं. इस हार ने तिवारी का प्रधानमंत्री बनने का सपना चकनाचूर कर दिया एवं पी वी नरसिंह राव को प्रधानमंत्री चंद्रशेखर का उत्तराधिकारी अर्थात प्रधानमंत्री बनकर 7, रेसकोर्स रोड जाने का अवसर प्राप्त हुआ.


वीडियो-क्या इस बार राजस्थान में बीजेपी को वोट नहीं देंगे राजपूत?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में 'मैन ऑफ द मैच' का अवॉर्ड जीता था.

पाकिस्तान आराम से जीत रहा था, फिर गांगुली ने गेंद थामी और गदर मचा दिया

बल्ले से बिल्कुल फेल रहे दादा, फिर भी मैन ऑफ दी मैच.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.