The Lallantop
Logo
लल्लनटॉप का चैनलJOINकरें

CM गहलोत के सामने 'मोदी-मोदी' के नारे? वीडियो शेयर कर CM सरमा ने 'गलती से मिस्टेक' कर दी

राजस्थान के सीएम Ashok Gehlot का एक वीडियो वायरल है. दावा है कि जनता उनके सामने 'मोदी-मोदी' के नारे लगा रही थी.

post-main-image
अशोक गहलोत टोंक जिले में जनता को संबोधित करते हुए. (तस्वीर:X@himantabiswa)
दावा:

राजस्थान में विधानसभा चुनाव की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. कल यानी 25 नवंबर को राज्य में वोट डाले जाएंगे. इससे ठीक पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का एक वीडियो क्लिप वायरल है (Modi-Modi chant in Ashok Gehlot rally video). इसमें गहलोत मंच से संबोधन दे रहे हैं और जनता से आवाज आ रही, ‘मोदी-मोदी’. वीडियो को अलग-अलग दावे के साथ सोशल मीडया पर शेयर किया गया है. 

कहा जा रहा है कि सीएम गहलोत के सामने जनता ने मोदी-मोदी के नारे लगाए. इस वीडियो क्लिप को शेयर करने वालों में असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा भी शामिल हैं. उन्होंने वीडियो शेयर करके लिखा, “मोदी जी की गारंटी, आएगा तो मोदी ही.”

असम के सीएम हिमन्ता बिस्वा सरमा ने वायरल वीडियो क्लिप को शेयर किया.

सीएम सरमा के अलावा कई सोशल मीडिया यूजर्स ने भी वायरल वीडियो को शेयर किया है. कुछ ट्वीट आप यहां और यहां देख सकते हैं.

वायरल वीडियो का स्क्रीनशॉट

पड़ताल

क्या वाकई सीएम अशोक गहलोत के सामने ‘मोदी मोदी’ के नारे लगाए गए? हमें वायरल वीडियो पर चल रहे टिकर में ‘टोंक के मालपुरा से सीधा प्रसारण’ लिखा नज़र आया. इससे मदद लेते हुए हमने यूट्यूब पर अशोक गहलोत के मालपुरा से वीडियो को सर्च किया. हमें 22 नवंबर को undefinedके यूट्यूब चैनल पर वायरल हो रहे वीडियो का लंबा वर्जन मिला. इसमें दो मिनट 10 सेकेंड से वायरल हिस्से को देखा जा सकता है. इसमें गहलोत के साथ मालपुरा विधानसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी घासीलाल चौधरी भी दिखाी दे रहे हैं.

लेकिन गहलोत के सामने लग रहे नारे में मोदी-मोदी कहीं भी सुनाई नहीं दे रहा. अशोक गहलोत मंच से अपनी योजनाओं का जिक्र कर रहे हैं, “अब सात गारंटी योजनाएं दी गई हैं आप लोगों को. ये सभी गारंटी शानदार हैं. माताएं बहनें बैठी हुई हैं. प्रति परिवार की महिला मुखिया को 10 हज़ार रुपये प्रतिवर्ष मिलेंगे. एक करोड़ 35 लाख महिलाओं को...” 

और इसी के बाद जनता के नारों की आवाज़ तेज हो जाती है. जिस पर गहलोत उन्हें बीच में शांत करने की अपील करते हुए कहते हैं, “सुनो भाई, ए भाई कौन लोग हैं? अरे आप इनके सपोर्ट में आए हो या क्या आए हो.” इसके बाद गहलोत योजना से जुड़ी बात को पूरा करते हैं.  

अशोक गहलोत के यूट्यूब चैनल पर मिला असल वीडियो

मामले की पुष्टि के लिए हमने इंडिया टुडे से जुड़े शशांक तिवारी से संपर्क किया. वो टोंक से रिपोर्टिंग करते हैं. उन्होंने बताया कि वो गहलोत की मालपुरा में हुई इस रैली में मौजूद थे. शशांक ने भी यही बताया कि गहलोत के सामने ‘मोदी-मोदी’ का कोई नारा नहीं लगा था. बोले, 

“मैं अशोक गहलोत की मालपुरा में हुई रैली में गया था. सीएम गहलोत को उस दिन आने में थोड़ा लेट हो गया था और उन्होंने आते ही अपना भाषण शुरू कर दिया. गहलोत जिस वक्त सात गारंटी योजना का जिक्र कर रहे थे उस वक्त जनता गहलोत के समर्थन में जोर-जोर से नारे लगा रही थी.”

इसके अलावा हमने टोंक में दैनिक भास्कर के टोंक जिले के रिपोर्टर महेश शर्मा से भी बात की. वे भी अशोक गहलोत की मालपुरा में हुई सभा में मौजूद थे. उन्होंने भी बताया, 

“गहलोत के सामने मोदी-मोदी के नारे नहीं लगे थे. मुख्यमंत्री के मंच के सामने दोनों ओर काफी संख्या में युवा मौजूद थे. एक बार बाईं साइड से गहलोत जिंदाबाद और आई लव यू गहलोत के नारे लगे जिसे उन्होंने शांत कराया. इसके बाद फिर बाईं साइड से नारे लगने लगे. नारों से बार-बार हो रहे व्यवधान के कारण गहलोत ने नारे लगाने वालों से शांत होने की अपील की.”

नतीजा    

कुलमिलाकर, सीएम अशोक गहलोत की टोंक में हुई सभा का एडिटेड वीडियो भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है. गहलोत के सामने मोदी-मोदी के नारे नहीं लगे थे.

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.

वीडियो: मोहम्मद शमी ने वर्ल्डकप फाइनल मैच में टीम इंडिया की हार पर क्या कहा?