Submit your post

Subscribe

Follow Us

QUIZ: देश के सबसे महान स्पोर्टसमैन को कितना जानते हैं आप?

1. मेजर ध्यानचंद का असली नाम क्या था?
  1. ध्यान सिंह
  2. सोमेश्वर सिंह
  3. बाले
  4. रूप सिंह
2. किस उम्र में ध्यानचंद सेना में शामिल हो गए थे?
  1. 18
  2. 16
  3. 19
  4. 20
3. ध्यानचंद को हॉकी की बारीकियां किसने सिखाईं?
  1. सोमेश्वर सिंह
  2. बाले तिवारी
  3. रूप सिंह
  4. मूल सिंह
4. किस विदेशी जमीन पर ध्यानचंद पहली बार हॉकी खेलने गए?
  1. इंग्लैंड
  2. हॉलैंड
  3. ऑस्ट्रेलिया
  4. न्यूजीलैंड
5. न्यूजीलैंड दौरे पर ध्यानचंद ने कुल कितने गोल दागे थे?
  1. 100
  2. 192
  3. 50
  4. 25
6. ओलंपिक में खेलने के लिए भारतीय हॉकी टीम को पहली बार मौका कब मिला?
  1. 1932
  2. 1928
  3. 1936
  4. 1940
7. ध्यानचंद समेत भारतीय हॉकी टीम पहली बार ओलंपिक में शामिल होने के लिए जिस जहाज पर सवार होकर गई, उसका नाम क्या था?
  1. हिंद जलयान
  2. जलयान
  3. कैसर-ए-हिंद
  4. हिंद-ए-कैसर
8. भारतीय हॉकी टीम ओलपिंक में गोल्ड जीतकर पहली बार चैम्पियन कब बनी?
  1. 16 अप्रैल 1928
  2. 30 मई 1932
  3. 26 मई 1928
  4. 30 मई 1928
9. 1932 ओलंपिक में जाने के लिए किस बैंक ने हॉकी टीम को लोन दिया था?
  1. इंडियन बैंक
  2. बैंक ऑफ महाराष्ट्र
  3. PNB
  4. SBI
10. किस ओलंपिक में ध्यानचंद के भाई भी उनके साथ खेले थे?
  1. 1940
  2. 1936
  3. 1928
  4. 1932
लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

न्यू मॉन्क

अपनी चतुराई से ब्रह्मा जी को भी 'टहलाया' नारद ने

नारद कितने होशियार हैं इसका अंदाजा लगा लो.

इस गांव में द्रौपदी ने की थी छठ पूजा

छठ पर्व आने वाला है. महाभारत का छठ कनेक्शन ये है.

नारद के खानदान में एक और नारद

पुराणों में इन दोनों नारदों का जिक्र है एक साथ.

नारद कनफ्यूज हुए कि ये शाप है या वरदान

नारद को मिला वासना का गुलाम बनने का श्राप.

अर्जुन ने तीर मारकर, घोड़ों के लिए बना दी मिनरल वाटर वाली झील

अर्जुन के पास टास्क था जयद्रथ वध का, लेकिन उसी टाइम उनके घोड़ों पर आ गई आफत. फिर क्या हुआ?

लल्लन ख़ास

इंडिया का वो बॉलर, जिसने लगातार 21 ओवर मेडेन फेंके थे

इंग्लैंड के ख़िलाफ़. कुल 32 ओवर में 27 मेडेन. आज ही के दिन.

सपने मुझे आते थे और उन्हें लिखने का शऊर बड़ी बहन को

आज एक कहानी रोज़ में पढ़िए उस कहानीकार को जिसे आता है ख्वाबों को लिखने का हुनर.

एक कविता रोज़: उम्मीद अब भी बाकी है

पढ़िए, असमय दिवंगत हुए एक युवा कवि की कविता, आज उसकी जन्मतिथि पर.

स्वामी विवेकानंद की ये 15 बातें पढ़ लो, कुछ बन जाओगे

123 साल पहले इंडिया का रौला दुनिया में सेट करने वाले स्वामी विवेकानंद का बड्डे है आज.

जब बनारस के बंदरों ने दौड़ा लिया स्वामी विवेकानंद को

स्वामी विवेकानंद के फेसबुक पर फैलते कोट्स तो बहुत पढ़े होंगे. अब इसको पढ़ो. आज बड्डे है.