Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

प्रधानमंत्री के पद्ममासन के चक्कर में राहुल गांधी ने अपनी भद्द पिटा ली

राहुल गांधी ने कहा कि मोदी जी से पद्मासन नहीं होता. और जो पद्मासन नहीं कर सकता, वो योग नहीं कर सकता. गूगलाए तो प्रधानमंत्री पद्मासन में बैठे मिल गए. क्यों ना मिलते, पद्मासन में बैठा हुए आदमी खिले हुए कमल की तरह दिखता है. और मोदी जी से ज़्यादा खिला हुआ कमल कहीं हुआ है भला!

खिला हुआ कमल. पिक्चर: You and Yoga
खिला हुआ कमल.
पिक्चर: You and Yoga

‘पद्म’ और ‘आसन’ मिला कर बना है पद्मासन. पद्म माने कमल होता है और आसन माने आसन. नहीं समझ रहे तो आसन माने मुद्रा, पोस्चर.

राहुल ने कहा तो हमारा ध्यान गया. वैसे न भी कहते तब भी सबको पद्मासन सुना-सुना तो लगता ही है. शनिवार के दिन आखिरी के दो पीरियड्स में स्कूल जो नाना प्रकार के काम करवाते हैं, उनमें योग भी होता है. तो सबने पद्मासन ट्राय कर रखा है. इसके अलावा आंख बंद कर के ‘योग’ शब्द कहेंगे तो दिमाग में जो फोटू आती है, उसमें आदमी पद्मासन में ही बैठा होता है. आज राहुल के कहने पर मौका आया है, तो पद्मासन का पूरा आगा-पीछा जान लीजिए. सच्ची में बड़े काम की चीज़ है.

पद्मासन – बैठो तो जानें:

img_1509-647_061915054717

पद्मासन दूर से ऐसा दिखता है कि कोई आलथी-पालथी मारकर बैठा है. आराम से. लेकिन आराम वालों से पद्मासन में नहीं बैठा जाता. पद्मासन में बैठते वक़्त पहले दायां पैर बायीं जांघ पर रखते हैं, तलवे ऊपर की ओर उठाए हुए. फिर इसी तरह बायां पैर दाईं जांघ पर. ऐसा करने के बाद आपके दोनों घुटने ज़मीन पर लगे होने चाहिए. पीठ सीधी. हाथ घुटनों पर गोद में रख सकते हैं. खिले हुए कमल की तरह. माने ज़्यादा टेक्निकल मामला नहीं है. लेकिन हर दूसरा आदमी ठीक से कर ले, इतना आसान भी नहीं है. ज़्यादातर लोग एक घुटना ज़मीन पर लगा पाते हैं. दूसरा ज़रा सा उठा रहता है.

ठीक से किया जाए तो प्राणायाम और ध्यान के लिए पद्मासन सबसे सही मुद्रा समझी जाती है. इसीलिए मूर्तियों-तस्वीरों में योगियों को पद्मासन में बैठे दिखाया जाता है.

कित्ता पुराना है:

पद्मासन कब से किया जा रहा है, ठीक बता पाना मुश्किल है. लेकिन ईसा से 200 साल पहले के दस्तावेजों में पद्मासन का ज़िक्र मिलता है, जैसे ‘योग याज्ञवल्क्य’. सभी पुराणों में पद्मासन का कहीं ना कहीं ज़िक्र आता है. बीते ज़माने की कई मूर्तियों में शिव, गौतम बुद्ध और जैन तीर्थंकर पद्मासन में बैठे दिखाए जाते हैं.

मथुरा बुद्ध. पिक्चर: transpex
मथुरा बुद्ध. पिक्चर: transpex

पिछली सदी में जैसे-जैसे योग दुनिया भर में फैला, पद्मासन भी ध्यान के लिए डिफ़ॉल्ट पॉश्चर के तौर पर पहचाना जाने लगा.

बिगनर लोगों का पद्मासन: अर्ध-पद्मासन

अर्द्ध पद्मासन. पिक्चर: DNA
अर्द्ध पद्मासन.
पिक्चर: DNA

पद्मासन ठीक से ना हो पाए, तो खुद पर जोर नहीं डालना चाहिए. घुटने ठीक ढंग से ना मुड़ पाते हों, तो चोट लग सकती है. ऐसे लोगों के लिए रास्ता निकाला गया है अर्ध-पद्मासन की शक्ल में. इसमें सिर्फ एक पैर जांघ के ऊपर रखना होता है. इसलिए आसान होता है. राहुल ने शायद इसी आसन में प्रधानमंत्री को बैठे देख लिया होगा. इसलिए कह गए कि PM को पद्मासन नहीं आता. उन्हें गूगल करना चाहिए था. कंफ्यूज़न दूर होता. मज़ा आता वो अलग.

दूसरी परंपराओं में:

‘हठयोग’ में जिस आसन के लिए पद्मासन शब्द का इस्तेमाल होता है, ठीक वैसे ही आसन को चीन और तिब्बत की बौद्ध परंपरा में वज्रासन (या वज्र-आसन) भी कहते हैं. एक मत ये भी है कि पद्मासन और वज्रासन में नाम का फर्क आसन करने वाले की पहचान बताता है. पद्मासन औरतों के लिए और वज्रासन मर्दों के लिए. तिब्बत की वज्रायन परंपरा में वज्र का मतलब लिंग होता है. ये वज्रासन शब्द के मर्दों के लिए इस्तेमाल की एक वजह हो सकती है.

वज्रासन में बुद्ध
वज्रासन में बुद्ध. पिक्चर: carters.com

ये था पद्मासन का पूरा मामला. धन्यवाद कहने का मन हो, तो राहुल गांधी को कह सकते हैं.


ये भी पढ़ें:

राहुल गांधी ने आज मंच पर जो किया, वो कोई और नेता करने की सोच भी नहीं सकता

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

इन 10 सवालों के जवाब दीजिए और KBC 9 में जाने का मौका पाइए!

अगर ये क्विज जीत लिया तो केबीसी 9 में कोई हरा नहीं सकता

राजेश खन्ना ने किस नेता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीता था?

राजेश खन्ना के कितने बड़े फैन हो, ये क्विज खेलो तो पता चलेगा.

गेम ऑफ थ्रोन्स खेलना है तो आ जाओ मैदान में

अगर ये शो देखा है तभी इस क्विज में कूदना. नहीं तो सिर्फ टाइम बरबाद होगा.

कोहिनूर वापस चाहते हो, लेकिन इसके बारे में जानते कितना हो?

पिच्चर आ रही है 'दी ब्लैक प्रिंस', जिसमें कोहिनूर की बात हो रही है. आओ, ज्ञान चेक करने वाला खेल लेते हैं.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.

कौन है जो राहुल गांधी से जुड़े हर सवाल का जवाब जानता है?

क्विज है राहुल गांधी पर. आगे कुछ न बताएंगे. खेलो तो बताएं.

Quiz: संजय दत्त के कान उमेठने वाले सुनील दत्त के बारे में कितना जानते हो?

जिन्होंने अपनी फ़िल्मी मां से रियल लाइफ में शादी कर ली.

कांच की बोतल को नष्ट होने में कितना टाइम लगता है, पता है आपको?

पर्यावरण दिवस पर बात करने बस से न होगा, कुछ पता है इसके बारे में?

माधुरी से डायरेक्ट बोलो 'हम आपके हैं फैन'

आज जानते हो किसका हैप्पी बड्डे है? माधुरी दीक्षित का. अपन आपका फैन मीटर जांचेंगे. ये क्विज खेलो.

विजय, अमिताभ बच्चन नहीं, जितेंद्र थे. क्विज खेलो और जानो कैसे!

आज जितेंद्र का बड्डे है, 75 साल के हो गए.

न्यू मॉन्क

इन पांच दोस्तों के सहारे कृष्ण जी ने सिखाया दुनिया को दोस्ती का मतलब

कृष्ण भगवान के खूब सारे दोस्त थे, वो मस्ती भी खूब करते और उनका ख्याल भी खूब रखते थे.

ब्रह्मा की हरकतों से इतने परेशान हुए शिव कि उनका सिर धड़ से अलग कर दिया

बड़े काम की जानकारी, सीधे ब्रह्मदारण्यक उपनिषद से.

इस्लाम में नेलपॉलिश लगाने और टीवी देखने को हराम क्यों बताया गया?

और हराम होने के बावजूद भी खुद मौलाना क्यों टीवी पर दिखाई देते हैं?

सावन से जुड़े झूठ, जिन पर भरोसा किया तो भगवान शिव माफ नहीं करेंगे

भोलेनाथ की नजरों से कुछ भी नहीं छिपता.

हिन्दू धर्म में जन्म को शुभ और मौत को मनहूस क्यों माना जाता है?

दूसरे धर्म जयंती से ज़्यादा बरसी मनाते हैं.

जानिए जगन्नाथ पुरी के तीनों देवताओं के रथ एक दूसरे से कैसे-कैसे अलग हैं

ये तक तय होता है कि किस रथ में कितनी लकड़ियां लगेंगी.

सीक्रेट पन्नों में छुपा है पुरी के रथ बनने का फॉर्मूला, जो किसी के हाथ नहीं आता

जानिए जगन्नाथ पुरी रथ यात्रा के लिए कौन-कौन लोग रथ तैयार करते हैं.

श्री जगन्नाथ हर साल रथ यात्रा पर निकलने से पहले 15 दिन की 'सिक लीव' पर क्यों रहते हैं?

25 जून से जगन्नाथ पुरी की रथ यात्रा शुरू हो गई है.

भगवान जगन्नाथ की पूरी कहानी, कैसे वो लकड़ी के बन गए

राजा इंद्रद्युम्न की कहानी, जिसने जगन्नाथ रथ यात्रा की स्थापना की थी.

उपनिषद् का वो ज्ञान, जिसे हासिल करने में राहुल गांधी को भी टाइम लगेगा

जानिए उपनिषद् की पांच मजेदार बातें.