Submit your post

Follow Us

अमित शाह के खास स्वतंत्र देव सिंह की RSS से होते हुए यूपी बीजेपी चीफ बनने की कहानी

स्वतंत्र देव सिंह उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर के रहने वाले हैं. 1984 में अपने भाई श्रीपत सिंह के साथ बुन्देलखण्ड के उरई में आ गए थे. यहीं से उन्होंने अपनी राजनीति की शुरुआत की. सबसे पहले अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के टिकट पर उरई के डीवीसी कॉलेज से चुनाव लड़े. हार का सामना करना पड़ा. विद्यार्थी परिषद से जुड़ाव बना रहा. स्वतंत्र देव सिंह को पहला राजनीतिक ब्रेक मिला मंदिर आंदोलन के समय. उरई में रहते हुए वो स्थानीय अखबार स्वतंत्र भारत में काम भी किया करते थे. इसी अखबार में उन्होंने फायरब्रांड हिंदुत्ववादी नेता विनय कटियार का एक इंटरव्यू छापा. इस तरह कटियार के साथ करीबी बढ़ गई. कटियार के कहने पर 1992 में झांसी चले गए. संगठन का काम देखने के लिए. अब तक इनका नाम कांग्रेस सिंह हुआ करता था. संघ के पदाधिकारियों के कहने पर नाम बदल कर स्वतंत्र देव सिंह रख लिया.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

महाराष्ट्र की लातूर रूरल और कादेगांव विधानसभा सीट पर नोटा दूसरे नंबर पर रहा

हारने वाले के लिए तो ये और भी बेइज्ज़ती की बात हो गई है.

ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलिमीन AIMIM के लिए ये चुनाव कैसा रहा?

महाराष्ट्र के अलावा बिहार से भी खुशखबरी आई है ओवैसी के लिए.

BJP इन 5 लोगों को टिकट दे देती तो हरियाणा चुनाव नतीजे में इतनी छीछालेदर ना होती

धनतेरस तो असली यही लोग मना रहे होंगे. 5 तो बीजेपी के ही नेता थे.

बीजेपी के महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल का क्या हुआ?

इन्हें ही फडणवीस की जगह सीएम पद का चेहरा कहा जा रहा था.

पृथ्वीराज चव्हाण ने बीजेपी के अतुल सुरेश भोसले को 9,130 वोटों से हरा दिया

अपने गढ में भी बहुत मुश्किल से जीते पृथ्वीराज चव्हाण.

रितेश देशमुख के दो भाई अमित और धीरज देशमुख का क्या नतीजा रहा?

लातूर ज़िले से कांग्रेस के लिए अच्छी खबर आई है.

गुजरात उप चुनाव: राधनपुर सीट पर बीजेपी के अल्पेश ठाकोर को कांग्रेस ने हराया

पहले कांग्रेस के चुनाव से जीते थे, बीजेपी में आकर हार गए.

हरियाणा के पूर्व सीएम बंसी लाल के बेटे रणबीर महेंद्रा और बहू किरण चौधरी का क्या हुआ?

दो राज घराने मैदान में थे, रिज़ल्ट के बारे में जान लीजिए.

झमाझम

IIT दिल्ली के रिटायर्ड प्रोफेसर वीके त्रिपाठी क्या लिखकर पर्चे बांटते हैं कि लोग उलझ पड़ते हैं?

पर्चे में लिखी बातें जानकर आप प्रोफेसर को सैल्यूट करने लगेंगे.

जौनपुर में 2 हज़ार रुपये जीतने के लिए 50 अंडे खाने को तैयार हो गया, पता नहीं था ये अंजाम होगा

41वां अंडा खाते ही बुरा हाल हो गया.

India Today Sex Survey 2019: वर्जिन दुल्हन की चाह से लेकर 'सेक्स टॉय' के इस्तेमाल तक क्या सोचता है इंडिया?

जिन्हें लगता है लड़कियां पॉर्न नहीं देखतीं, उनके लिए आंख खोलने वाली खबर

लल्लनटॉप अड्डा पर मशहूर हिंदी कवि अशोक वाजपेयी ने अवॉर्ड वापसी पर क्या कहा?

क्या आप जानते हैं कि हर कविता को लेकर लोगों के मन में एक भ्रम होता है.

विराट कोहली का जन्मदिन मनाने भूटान पहुंची अनुष्का शर्मा ने इमोशनल मैसेज शेयर किया

एक परिवार ने दोनों को चाय पिलाई, बिना ये जाने कि दोनों स्टार हैं.

क्या आप जानते हैं हवा की गंदगी साफ करने वाले एयर प्यूरिफायर्स कैसे काम करते हैं?

पल्यूशन के बीच अगली सांस लेने से पहले इसके बारे में जान लें.

पल्यूशन का इलाज क्या मास्क है?

जानिए क्या हुआ जब खुद सौरभ द्विवेदी ने रिसर्च कर डाली.

प्रियंका चोपड़ा ने ऐसा क्या किया कि लोग उन्हें पुरानी बातें याद दिला रहे हैं

लोग उन्हें उनकी पुरानी बातें याद दिला रहे हैं.

दी लल्लनटॉप शो

UPPCL पीएफ स्कैम के लिए अखिलेश यादव दोषी हैं या योगी आदित्यनाथ? दी लल्लनटॉप शो|Episode-340

यूपी पीसीएल के कर्मचारियों के पीएफ का पैसा कैसे डूब गया?

दिल्ली पुलिस और वकीलों के क्लैश के बाद पुलिस हेडक्वार्टर पर प्रदर्शन लेकिन कोर्ट में 2 नवंबर को हुआ क्या था?

प्रदर्शन कर रहे पुलिस वालों को किरण बेदी की याद क्यों आई?

दिल्ली: वायु प्रदूषण के आगे नरेंद्र मोदी और केजरीवाल सरकार नाकाम । दी लल्लनटॉप शो|Episode 338

साफ हवा की अनदेखी क्यों करती हैं सरकारें?

सौरभ द्विवेदी के सवाल और संबित पात्रा के जवाब

दी लल्लनटॉप अड्डे की झलकियां - कुमार विश्वास से लेकर शेखर कपूर तक.

नरेंद्र मोदी ने जम्मू कश्मीर के आर्टिकल 370 को सरदार पटेल से जोड़ा, प्रियंका गांधी ने RSSको घेरा

साहित्य आज तक में लल्लनटॉप का बुलावा आया है.

कौन हैं मादी शर्मा नाम की बिजनेस ब्रोकर, जिन्होंने EU डेलिगेशन का कश्मीर दौरा तय किया? । दी लल्लनटॉप शो|Episode 335

अमेठी में हिरासत में मौत के बाद यूपी पुलिस फिर विवादों में फंस गई है

EU का डेलिगेशन जम्मू-कश्मीर की ज़मीनी हकीकत जानने पहुंचा तो मोदी सरकार की मंशा पर सवाल क्यों उठे?। दी लल्लनटॉप शो|Episode 334

धर्म देखकर नुकसान नहीं करता जहरीला धुआं!

महाराष्ट्र: क्या 50-50 फॉर्मूला फडणवीस की कुर्सी आदित्य ठाकरे को दिला पाएगा?। दी लल्लनटॉप शो|Episode 333

बगदादी के मारे जाने के अमेरिकी दावे में कितनी सच्चाई है?