Submit your post

Follow Us

चुनाव के बाद ममता बनर्जी के बंगाल में BJP वालों को क्या ढूंढ-ढूंढ कर निशाना बनाया जा रहा है?

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे आ चुके हैं. चुनाव में ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस (TMC) की जीत हुई. लेकिन नतीजों के बाद राज्य से हिंसा की ख़बरें भी आने लगी हैं. 3 मई को ख़ासा बवाल नंदीग्राम में हुआ. वही सीट, जहां से BJP के शुभेंदु अधिकारी के हाथों ममता बनर्जी की हार हुई है. यहां भारतीय जनता पार्टी के दफ्तर में तोड़-फोड़ की गई. कथित तौर पर BJP दफ्तर में आग लगाने की भी कोशिश की गई. नंदीग्राम में तमाम दुकानों में भी तोड़-फोड़ हुई है, जिसके बाद यहां बाज़ार में तनाव है. BJP का आरोप है कि ये सब TMC कार्यकर्ता कर रहे हैं. देखिए वीडियो.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

असम चुनाव: NRC-CAA जैसे मुद्दों के बावजूद यहां दोबारा BJP की सरकार कैसे बन गई?

असम के इतिहास में पहली बार हुआ है कि कांग्रेस से इतर कोई पार्टी दोबारा सत्ता में आई हो.

असम चुनाव 2021: BJP के खिलाफ रायजोर दल के अखिल गोगोई को शिबसागर से कितने वोट मिले?

लंबे समय से इस सीट पर कांग्रेस पार्टी की प्रबल दावेदारी रही है.

बंगाल चुनाव: जानिए, सांसदी जीतने वाले नेता विधायकी का चुनाव जीत पाए कि नहीं

इसमें बाबुल सुप्रियो, लॉकेट चटर्जी, निशित प्रमाणिक, जगन्नाथ सरकार और स्वपनदास गुप्ता शामिल हैं.

ममता बनर्जी के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने TMC की जीत के बाद बड़ा ऐलान किया

कहा कि वे जीवन भर यह सब नहीं कर सकते हैं.

बंगाल चुनाव: नंदीग्राम सीट पर शुभेंदु ने ममता बनर्जी को हराया पर इतना कंफ्यूजन हुआ क्यों?

ममता बनर्जी को 1,08,808 वोट मिले.

पश्चिम बंगाल चुनाव में कोरोना से हुई उम्मीदवारों की मौत, क्या कहता है चुनाव आयोग का नियम?

पश्चिम बंगाल में सीटें हैं 294, लेकिन रिजल्ट 292 सीटों का ही क्यों आया, जान लीजिए!

असम एग्जिट पोल्स में कांग्रेस को कितनी सीटें मिल रही हैं?

इस बार देखना है कि क्या कांग्रेस सत्ता में गठबंधन के भरोसे भी वापसी कर पाती है या नहीं.

केरल एग्ज़िट पोल्स: LDF रचेगा इतिहास या हर बार नई सरकार का ट्रेंड जारी रहेगा?

केरल चुनाव को लेकर इंडिया टुडे माई एग्जिट पोल्स के नतीजे क्या कहते हैं, जान लीजिए!

दी लल्लनटॉप शो

पंचायत चुनाव पर योगी सरकार से क्या बोला सुप्रीम कोर्ट?

पंचायत चुनावों में ड्यूटी की वजह से 700 से अधिक टीचरों की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है.

कोरोना वैक्सीन के लिए रजिस्टर करने वाले पोर्टल CoWin पर क्या बड़ी गड़बड़ी मिली है?

भारत में कुल मौतों का आंकड़ा दो लाख के पार चला गया है.

पीएम मोदी ने 1 मई से वैक्सीनेशन के तीसरे चरण की घोषणा तो कर दी लेकिन इस बात का जवाब कौन देगा?

1 मई से 18 साल से ऊपर वालों का टीकाकरण शुरू करने जा रहे हैं. और दूसरी तरफ 45 साल वालों को ही टीके नहीं मिल रहे.

कोरोना महामारी में ऑक्सीजन की किल्लत पर सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार को क्या कहा?

दिल्ली हाईकोर्ट ने भी केजरीवाल सरकार से जवाब मांगा है.

क़िल्लत के बीच रेमडेसिविर और ऑक्सीजन के नाम पर फ्रॉड करने वाले कौन हैं?

ऑक्सीजन और रेमडेसिविर बाजार से गायब हो गए हैं.

क्या इंडिया को मिलेगी सबसे महंगी कोविशील्ड वैक्सीन?

सीरम इंस्टीट्यूट राज्य और प्राइवेट अस्पताल को क्रमशः 400 और 600 रुपए प्रति डोज़ पर कोरोना की वैक्सीन दे रहा है.

कोरोना इमरजेंसी में रेमडेसिविर जैसी दवाइयों के पीछे भागने से पहले इनका सच जान लीजिए!

क़िल्लत और कालाबाज़ारी की ढेर सारी ख़बरें रेमडेसिविर से जुड़ी हुई हैं.

कोरोना महामारी पर मोदी सरकार के साथ चुनाव आयोग को फटकारते हुए कोर्ट ने क्या कहा?

यूपी में व्यक्तिगत रूप से लोगों को ऑक्सीजन तभी दी जाएगी, जब उनके पास डॉक्टर की पर्ची होगी.

पॉलिटिकल किस्से

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बनने जा रहे एमके स्टालिन की कहानी फिल्म से कम नहीं

मद्रास शहर की थाउजेंड लाइट्स विधानसभा सीट से स्टालिन पहली बार चुनाव में उतरे.

केरल चुनाव में जीत के साथ पी विजयन ने 64 बरस पुराना कौन सा मिथक तोड़ दिया?

विजयन महज़ 26 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने थे.

अखिल गोगोई की कहानी, जिन्हें हाईकोर्ट ने जमानत देते वक्त कहा- सिविल नाफरमानी अपराध नहीं

नेतागिरी से दूर भागने वाले अखिल गोगोई जेल से ही चुनाव लड़ने पर मजबूर हुए.

गुलाम नबी आज़ाद के जाबड़ किस्से, जिनके दोस्त हर पार्टी में हैं!

जब वाजपेयी पर हमले कर रहे संजय गांधी का कुर्ता खींच दिया था.

जनसंघ के बलराज मधोक के जाबड़ किस्से, जिनका भविष्य वाजपेयी खा गए!

एक बार तो उन्होंने वाजपेयी को कांग्रेसी कह दिया था.

UP में एक साथ 2 लोग मुख्यमंत्री कैसे बन गए थे?

आज से 23 साल पहले UP की सत्ता में हुए सबसे बड़े परिवर्तन की कहानी

शरद पवार के राइट हैंड प्रफुल्ल पटेल नेता कैसे बने?

विदर्भ से दिल्ली तक का पूरा राजनीतिक सफर.

लोकसभा के कार्यकाल के साथ इंदिरा गांधी ने क्या छेड़छाड़ की थी?

आपातकाल के दौरान लोकसभा का कार्यकाल बढ़ाया गया था.