The Lallantop
Advertisement

महिला ने थेपला आर्डर किया, कंटेनर चार्जेज के नाम पर इतना पैसा लिया कि लोगों ने जोमैटो को लपेट लिया

जोमैटो ने वायरल ट्वीट के जवाब में क्या सफाई दी?

Advertisement
zomato charged container charges
महिला का ट्वीट वायरल हो गया (फ़ोटो- आजतक/वायरल ट्वीट)
8 अगस्त 2023 (Updated: 8 अगस्त 2023, 22:59 IST)
Updated: 8 अगस्त 2023 22:59 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

गुजरात के अहमदाबाद में एक महिला ने ऑनलाइन फूड डिलिवरी ऐप ज़ोमैटो पर खाना आर्डर किया. उन्होंने थेपला की तीन प्लेट आर्डर की थी. एक प्लेट 60 रुपए की थी. मतलब टोटल 180 रुपए का खाना और 9 रुपए का टैक्स होना था. लेकिन महिला के पास बिल 189 रुपए की जगह 249 रुपए का आया. क्योंकि महिला से 60 रुपए कंटेनर चार्ज के नाम पर वसूल लिए गए. कंटेनर चार्जेज मतलब डब्बे का चार्ज, जिसमें खाना आया है. बोले तो अब पैकिंग चार्ज को कंटेनर चार्ज का नाम दे दिया.

महिला का नाम खुशबू ठक्कर है. खुशबू ने खाने के बिल की फ़ोटो ट्विटर पर शेयर करते हुए लिखा, 

“कंटेनर चार्ज मेरे आर्डर किए गए आइटम के बराबर है. कंटेनर चार्ज 60 रुपए. सच में ज़ोमैटो?”

खुशबू का ट्वीट वायरल होते ही ज़ोमैटो ने जवाब दिया और बताया,

“हाय खुशबू, टैक्स यूनिवर्सल है और खाने के प्रकार पर निर्भर करता है कि 5% लगेगा या 18%. पैकेजिंग चार्जेज हमारे रेस्टोरेंट पार्टनर द्वारा लगाया जाता है. वही इससे कमाई करते हैं. बाकि आगे आपको कोई और दिक्कत हो तो हमें मैसेज करें."

खुशबू ने ज़ोमैटो के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा,

''मुझे कंटेनर के लिए 60 रुपए चार्ज बहुत ज़्यादा और गलत लगा. अपने कस्टमर्स को कम पैसे में कंटेनर देना क्या रेस्टोरेंट की जिम्मेदारी नहीं है?"

इस ट्वीट पर कई लोगों ने कॉमेंट्स करके बताया कि ज़ोमैटो ने वैसे भी थेपले के ज़्यादा पैसे चार्ज किए हैं. एक यूजर ने लिखा, 

“ज़ोमैटो वाला थेपला 60 रुपए का है, जो पहले से ही 20 रुपए वाले थेपला से ज़्यादा है. अगर आप रेस्टोरेंट में भी जाते हैं तो भी यह 35 से 40 रुपए के बीच मिलता. इसलिए सिर्फ कंटेनर के ही नहीं आपने ज़ोमैटो को 60 रुपए भी ज़्यादा दिए हैं. यह सुविधा चार्ज है.”

अभिषेक नाम के यूजर ने बताया कि अब उन्होंने ज़ोमैटो से आर्डर करना बंद क्यों कर दिया है, उन्होंने लिखा, 

“पहले मैं स्विगी और ज़ोमैटो से ऑर्डर करता था. अब मैं अपनी SUV निकालता हूं. उसको चलाता हूं, पार्किंग के पैसे देता हूं. टिप के पैसे देता हूं और फिर भी यह ज़ोमैटो से सस्ता पड़ता है. साथ ही इससे लोगों से बातचीत भी बढ़ती है. ज़ोमैटो आमतौर पर ऑर्डर में गड़बड़ी करता है और फिर हमें अपने पैसे के लिए कस्टमर केयर से भीख मांगनी पड़ती है.”

अमरनाथ शेट्टी नाम के यूजर ने लिखा, 

“शायद डिजाइनर कंटेनर होगा.”

एक यूजर ने लिखा, 

“अरे! घर पर थेपला बनाओ, ज़ोमैटो और उनके रेस्टोरेंट पार्टनर तो ऐसे ही चार्जेज लगाकर आपके पैसे लूट लेगें.”

क्या आपसे भी ज़ोमैटो ने ऐसे ही एक्सट्रा चार्जेज लिए हैं? अगर हां, तो हमे कॉमेंट बॉक्स में बताइए.

वीडियो: साइकिल से खाना डिलीवर करने पहुंचे जोमैटो डिलीवरी बॉय की लोगों ने लाखों की मदद की

thumbnail

Advertisement

Advertisement

Advertisement