The Lallantop
Advertisement

छत्तीसगढ़ मॉब लिंचिंग: तीसरे पीड़ित सद्दाम की भी मौत, गो तस्करी के शक में भीड़ ने 3 युवकों को पीटा था

यूपी के सहारनपुर के रहने वाले तीन युवकों सद्दाम कुरैशी, चांद मियां और गुड्डू खां की छत्तीसगढ़ के आरंग में कथित तौर पर पिटाई की गई थी. दो युवकों की घटना वाले दिन ही मौत हो गई थी. वहीं गंभीर रूप से घायल तीसरे युवक को हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया था, जिसकी 18 जून को मौत हो गई.

Advertisement
Mob lynching of UP youths in chhattisgarh
ट्रक में मवेशी लेकर जा रहे युवकों पर गाय की तस्करी का आरोप लगाकर पीटा गया. (फोटो: आजतक)
pic
सुमी राजाप्पन
font-size
Small
Medium
Large
18 जून 2024
Updated: 18 जून 2024 22:43 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

छत्तीसगढ़ के रायपुर में यूपी के जिन तीन युवकों की गाय तस्करी के आरोप में कथित तौर पर पिटाई की गई थी, उनमें से तीसरे युवक की 18 जून की सुबह मौत हो गई. बता दें कि बाकी के दो युवकों की पहले ही मौत हो गई थी. आजतक की सुमी राजाप्पन की रिपोर्ट के मुताबिक छत्तीसगढ़ के आरंग में 7 जून को ‘मॉब लिंचिंग’ की घटना हुई थी. 

जानकारी के मुताबिक यूपी के सहारनपुर के रहने वाले तीन युवकों सद्दाम कुरैशी, चांद मियां और गुड्डू खां की रायपुर के आरंग में कथित तौर पर पिटाई की गई थी. आरोप है कि 12-15 लोगों ने तीनों को इतना पीटा था कि चांद मियां और गुड्डू खां की 7 जून को ही मौत हो गई थी. वहीं सद्दाम कुरैशी गंभीर रूप से घायल हुए थे. उनका इलाज चल रहा था, जिनकी 18 जून की सुबह मौत हो गई.

ये भी पढ़ें- धुले मॉब लिंचिंग केस में आया फैसला, बच्चा चोर समझकर 5 लोगों की हुई थी हत्या

रिपोर्ट के मुताबिक घटना वाले दिन सद्दाम कुरैशी, चांद मियां और गुड्डू खां एक ट्रक पर मवेशियों को ले जा रहे थे. रायपुर के आरंग थाना क्षेत्र में कुछ लोगों ने रास्ते में उनका पीछा कर ट्रक को घेर लिया. महानदी पुल पर मवेशियों को ले जा रहे उस ट्रक को रुकवाया और फिर ट्रक पर सवार तीनों युवकों को नीचे उतरवाकर उनकी पिटाई की गई.

सद्दाम के भाई शोएब ने बताया कि 7 तारीख को ट्रक पर मौजूद सद्दाम कुरैशी, चांद मियां और गुड्डू खां को पुल पर से फेंक दिया गया था. चांद और गुड्डू की वहीं मौत हो गई थी. शोएब ने कहा,

“सद्दाम का फोन आया था. सद्दाम ने बात नहीं की थी, लेकिन उसका फोन 51 मिनट तक चालू रहा था. इस दौरान सद्दाम 20 मिनट तक चीखता रहा, चिल्लाता रहा. वो मदद मांग रहा था. कहा रहा था कि मुझे छोड़ दो. मेरा हाथ टूट गया है, पैर टूट गया है. मुझे पानी पिला दो, लेकिन वो लोग मारपीट कर रहे थे और गालियां दे रहे थे.”

शोएब ने बताया कि उन लोगों ने आरंग थाने जाकर केस दर्ज कराया था, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है और न ही अब तक किसी को गिरफ्तार किया गया है.

वीडियो: किताबवाला: मॉब लिंचिंग के वो भूत, जिन्होंने पत्रकार को ‘पागल’ बना दिया

thumbnail

Advertisement

Advertisement